अपना शहर चुनें

States

कांग्रेस में फिर बढ़ी अंदरूनी कलह! कपिल सिब्बल और अनिल चौधरी में वार-पलटवार

कांग्रेस में मचा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है.
कांग्रेस में मचा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है.

Congress rift: कपिल सिब्बल ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के आश्वासन के बावजूद एक महीना गुजर जाने के बाद भी संगठन चुनाव को लेकर ऐलान नहीं होने पर नाराजगी जताई है. सिब्बल के बयान पर दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अनिल चौधरी ने पलटवार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 19, 2021, 10:04 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस में मचा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. कांग्रेस के असंतुष्ट नेता कपिल सिब्बल ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के आश्वासन के बावजूद एक महीना गुजर जाने के बाद भी संगठन चुनाव को लेकर ऐलान नहीं होने पर नाराजगी जताई है. सिब्बल के बयान पर दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अनिल चौधरी ने पलटवार किया है. चौधरी ने कहा कि सिब्बल सिर्फ सवाल उठाते हैं लेकिन दिल्ली में पार्टी के संगठन को मजबूत करने में कोई रुचि नहीं दिखाई. पार्टी के दूसरे नेता नेता सलमान खुर्शीद ने भी सिब्बल पर निशाना साधा.

कांग्रेस के असंतुष्ट 23 नेताओं के गुट ने एक बार फिर पार्टी के संगठन चुनाव को लेकर के नेतृत्व पर निशाना साधा है. असंतुष्ट नेता सिब्बल ने एक अखबार को दिए इंटरव्यू में कहा कि सोनिया गांधी ने पार्टी के साथ मीटिंग में पार्टी नेताओं ने संगठन चुनाव को कराने का वादा किया था. एक महीने का वक्त गुजर गया लेकिन अभी भी किसी को पता नहीं है कि यह चुनाव कब होंगे और कैसे होंगे.

संसदीय बोर्ड को फिर से जिंदा करने की मांग


इसी इंटरव्यू में सिब्बल ने कहा कि उन्हें लगता है कि पार्टी संविधान के मुताबिक ही ये चुनाव करवाए जाएंगे. सिब्बल ने कहा कि पार्टी संविधान के मुताबिक सिर्फ पार्टी के अध्यक्ष का बल्कि सेंट्रल इलेक्शन कमिटी और कांग्रेस वर्किंग कमेटी का भी चुनाव कराया जाना चाहिए, लेकिन इस पर पार्टी की तरफ से कोई स्पष्ट राय सामने नहीं आई है. सिब्बल ने पार्टी के संसदीय बोर्ड को फिर से जिंदा करने की मांग के साथ ही यह भी कहा कि पार्टी का जागना अब बेहद जरूरी है.
उधर सिब्बल के बयान से नाराज दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अनिल चौधरी ने कहा कि कपिल सिब्बल सिर्फ सवाल उठाते हैं लेकिन दिल्ली में जहां से वह चुनाव जीते थे, पार्टी की बैठक में नहीं आते और ना ही पार्टी मजबूत करने के लिए कोई कदम उठाते हैं.

सलमान खुर्शीद के निशाने पर भी आए सिब्बल




यही नहीं कपिल सिब्बल पर पलटवार करते हुए पूर्व विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि आपको संगठन ने क्या दिया, इसके बजाय आपको यह भी देखना चाहिए कि आपने संगठन को क्या दिया. सलमान खुर्शीद ने सिब्बल का नाम लिए बिना यह भी कहा कि पार्टी का प्लेटफॉर्म व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं के लिए मोलभाव का जरिया नहीं बल्कि सेवा की जगह है. खुर्शीद ने यह भी कहा कि चुनाव जरूरी है लेकिन लोकतंत्र चुनाव से ज्यादा अहम है. जाहिर है आने वाले दिनों में कांग्रेस का अंतर्कलह है और भी तेज होने वाली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज