Home /News /delhi-ncr /

दिल्‍ली कांग्रेस प्रमुख अनिल चौधरी घर में ही डिटेन, पुलिस ने लगाया यह गंभीर आरोप

दिल्‍ली कांग्रेस प्रमुख अनिल चौधरी घर में ही डिटेन, पुलिस ने लगाया यह गंभीर आरोप

दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी. (फाइल फोटो)

दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी. (फाइल फोटो)

दिल्‍ली के प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अनिल चौधरी को उनके अपने ही घर में डिटेन कर दिया गया है. पूर्वी दिल्‍ली के DCP ने इसकी पुष्टि करते हुए गंभीर आरोप लगाए हैं.

नई दिल्‍ली. देश की राजधानी दिल्‍ली के प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अनिल चौधरी को उनके अपने ही घर में डिटेन कर दिया गया है. पूर्वी दिल्‍ली के डीसीपी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि कांग्रेस नेता को डिटेन किया गया है. पुलिस अधिकारी का कहना है कि अनिल चौधरी और अन्‍य कांग्रेस कार्यकर्ता 16 और 17 मई को प्रवासी मजदूरों को गाड़ियों में भरकर दिल्‍ली-यूपी बॉर्डर तक ले आए. इससे कानून और व्‍यवस्‍था को बनाए रखने में समस्‍या खड़ी हो गई. डीसीपी ने बताया कि इससे हालात बिगड़ रहे थे.

कांग्रेस नेता अनिल चौधरी का आरोप है कि दिल्‍ली पुलिस ने उन्‍हें सुबह से ही डिटेन कर रखा है. पूछने पर स्‍पष्‍ट वजह भी नहीं बताई जा रही है. बस इतना पूछा जा रहा है कि क्‍या में गाजीपुर बॉर्डर गया था?

पूछा- क्या सेवा करना गुनाह है
अनिल चौधरी ने कहा कि वे लोग उन लोगों की सेवा कर रहे हैं, जो लोग अपना गांव-घर जाना चाहते हैं. क्‍या सेवा करना गुनाह है? न्‍यू अशोक नगर के SHO पुलिसकर्मियों के साथ अनिल चौधरी के घर पहुंचे और उन्‍हें बाहर जाने नहीं दिया जा रहा है.



नियमों की अनदेखी का आरोप
अनिल चौधरी पर नियमों की अनदेखी का भी आरोप लगाया है. दिल्‍ली पुलिस का कहना है कि कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता बिना मास्‍क के ही लोगों को बॉर्डर के पास ला रहे हैं. साथ ही सोशल डिस्‍टेंसिंग का भी पालन नहीं किया जा रहा है. इससे हालात बिगड़ रहे हैं. पुलिस का कहना है कि प्रवासी मजदूरों को भेजने की प्रक्रिया का पालन नहीं किया जा रहा था. पुलिस का कहना है कि खाना खिलाने के नाम पर मजदूरों को बॉर्डर के पास छोड़ा गया. साथ ही वरिष्‍ठ अधिकारी ने कहा कि पुलिस इनके खिलाफ कानून कार्रवाई करने की तैयारी भी कर रही है.

विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद बने प्रदेश अध्यक्ष
दिल्ली कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर पूर्व विधायक अनिल चौधरी की नियुक्ति हैरान करने वाली थी. जबकि इस पद के लिए दिल्ली में अरविंदर सिंह लवली, अलका लांबा, हारुन युसूफ और जयप्रकाश अग्रवाल जैसे दिग्गजनों का नाम चर्चा में था. पूर्व सीएम शीला दीक्षित के निधन के बाद दिल्ली विधानसभा चुनाव से ठीक पहले सुभाष चोपड़ा को प्रदेश कांग्रेस की कमान मिली थी. इस चुनाव में कांग्रेस की करारी हार हुई. उसके बाद राहुल गांधी से नजदीक माने जाने वाले अनिल चौधरी को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की कमान मिली.

ये भी पढ़ें: 

Auraiya Accident के बाद सरकार ने दिया यह आदेश, दिल्ली बॉर्डर पर जुटे मजदूर

Tags: Congress, Delhi news, Delhi police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर