दिल्ली में अब कोरोना मरीज डॉक्टर की सलाह पर घर मंगवा सकते हैं ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमित मरीजों को डॉक्टर की उचित प्रिस्क्रिप्शन दिखाने पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध करवाई जाएगी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमित मरीजों को डॉक्टर की उचित प्रिस्क्रिप्शन दिखाने पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध करवाई जाएगी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

दिल्ली सरकार (Delhi Government) के मुताबिक जो कोरोना पेशेंट होम आइसोलेशन में रह रहे हैं और डॉक्टर ने उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट की एडवाइस की है तो वो मरीज इस बैंक में कॉल कर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (Oxygen Concentrator) मंगवा सकते हैं. इसके लिये उन्हें कोई कीमत नहीं देनी होगी और ना ही इसे लेने के लिये उन्हें बैंक के पास जाना होगा बल्कि मेडिकल टीम खुद ही उनके घर तक इसे पंहुचा देगी

  • Share this:

नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक की शुरुआत हुई है. इस बैंक के माध्यम से कोरोना मरीजों (Corona Patients) तक दिल्ली सरकार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर (Oxygen Concentrator) पंहुचाने का काम कर रही है. फिलहाल सरकार ने दिल्ली (Delhi) के हर जिले में एक कंसंट्रेटर बैंक तैयार किया है, और हर बैंक में इसके लिये 200 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर रखे गये हैं. सरकार के मुताबिक जो मरीज होम आइसोलेशन (Home Isolation) में रह रहे हैं और डॉक्टर ने उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट की एडवाइस की है तो वो मरीज इस बैंक में कॉल कर कंसंट्रेटर मंगवा सकते हैं. इसके लिये उन्हें कोई कीमत नहीं देनी होगी और ना ही इसे लेने के लिये उन्हें बैंक के पास जाना होगा बल्कि मेडिकल टीम खुद ही उनके घर तक इसे पंहुचा देगी.

दक्षिण दिल्ली के साकेत इलाके में तैयार किये गये ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक में न्यूज़ 18 की टीम पंहुची, यहां एक पॉली क्लीनिक में सेंटर बनाया गया है. इस जगह पर डाक्टरों की एक टीम मौजूद होती है जिनके पास कंसंट्रेटर की मांग के लिये मरीजों के परिजनों का फोन आता है. कॉल आने पर सेंटर में मौजूद डॉक्टर कॉल करने वाले मरीज या उनके परिजन से पूरी पड़ताल करते हैं. इस दौरान यह भी जांच की जाती है कि क्या वाकई कोरोना मरीज के लिये इसे मांगा जा रहा है या नहीं. साथ ही यह भी जांचा जाता है कि क्या मरीज को डॉक्टर ने कंसंट्रेटर के इस्तेमाल की सलाह दी है, इसके लिये डॉक्टर का लिखित प्रिसक्रिप्शन होना जरूरी है.

दिल्ली सरकार ने ओला कैब कंपनी को इस मुहिम में साथ जोड़ा

यह सब अच्छी तरह जांच लेने के बाद मरीज से उनका आधार कार्ड या कोई दूसरा आईडी प्रूफ मांगा जाता है. इसके बाद इस बैंक से एक टीम ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लेकर उस जगह के लिये निकल पड़ती है जहां इसे पंहुचाना है. इसे ले जाने के लिये ओला कैब बुक की जाती है जिसका किराया सरकार की तरफ से दिया जाता है. दरअसल ओला कैब कंपनी को सरकार ने इस मुहिम में साथ जोड़ा है. ओला के जरिये यह टीम ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लेकर मरीज के घर पंहुच जाती है. घर के अंदर जाने से पहले टीम के सदस्य एहतियातन पीपीई किट पहनते हैं ताकि कोरोना पेशेंट के करीब जाने पर संक्रमण के खतरे से बचा जा सके. पीपीई किट पहनने के बाद ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मरीज के घर तक पंहुचा लिया जाता है और फिर यह टीम मरीज को या उनके परिजन को इसका इस्तेमाल करने का तरीका सिखाती है.
इस तरह ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक से यह कंसंट्रेटर मरीजों के घर तक पंहुचाया जा रहा है. साकेत कंसंट्रेटर बैंक में मौजूद डॉक्टर गरिमा ने बताया कि रोजाना उन्हें 10 से 12 कॉल आती है जिसमें से रोजाना तकरीबन 10 ऑक्सीजन कसंट्रेटर भिजवाया जा रहा है. उन्होंने बताया कि एक मरीज इसे अधिकतम दो महीने के लिये रख सकता है जिसके लिये उसे कोई पैसा नहीं देना होता.

कैसे मंगवा सकते हैं ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, क्या है इसके लिये जरूरी

दिल्ली में होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना मरीज या जिनकी भी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है वो लोग 1031 हेल्पलाइन नंबर पर फोन कर सकते हैं. कॉल करने के बाद मरीज को उसके एड्रेस के मुताबिक उस जिले के कंसंट्रेटर बैंक से कनेक्ट कर दिया जाता है. इसके बाद मरीज को अपनी पूरी जानकारी फोन पर बैंक में मौजूद डॉक्टर की टीम को बतानी होती है.



इसके लिये कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट के साथ-साथ मरीज को डॉक्टर का लिखित प्रिसक्रिप्शन जिसमें यह लिखा हो कि मरीज को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की जरूरत है, यह सभी दस्तावेज मरीज या उसके परिजन को बैंक में मौजूद डॉक्टर को फोन के जरिये भेजना होगा. यह सब दस्तावेज पूरी तरह जांच लेने के बाद मरीज से उसका आईडी प्रूफ मांगा जाता है और फिर दो घंटे के भीतर उनके घर तक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर पंहुचा दिया जाता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज