Home /News /delhi-ncr /

delhi crime news man arrested for duping schoolteacher of rs 20 lakh

बेटे को डॉक्टर बनाना चाहता था टीचर पिता, एडमिशन के नाम पर ठगों ने ₹20 लाख का चूना लगाया



दिल्ली: बेटे का मेडिकल कॉलेज में एडमिशन तो नहीं हुआ, मगर डूब गए 20 लाख रुपए (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्ली: बेटे का मेडिकल कॉलेज में एडमिशन तो नहीं हुआ, मगर डूब गए 20 लाख रुपए (सांकेतिक तस्वीर)

बेटे को सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन दिलाने के चक्कर में एक टीचर पिता को लाखों रुपए का चूना लग गया. स्कूली शिक्षक को कथित तौर पर ठगने के आरोप में 33 वर्षीय एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है. आरोपी की पहचान उत्तर प्रदेश के कानपुर निवासी विकास पारस के रूप में हुई है. उसने उत्तराखंड स्थित विश्वविद्यालय से पीएचडी की डिग्री हासिल की है. पुलिस पूछताछ में उसने बताया कि उसने कोलकाता निवासी आशीष जायसवाल के नाम से कई फर्जी दस्तावेज और पहचान पत्र बनवाए.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: दिल्ली में स्कूल टीचर से 20 लाख रुपये की ठगी का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. पुलिस ने सोमवार को बताया कि बेटे को सरकारी मेडिकल कॉलेज में एडमिशन कराने के नाम पर पेशे से स्कूली शिक्षक पिता को कथित तौर पर ठगने के आरोप में 33 वर्षीय एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है. आरोपी की पहचान उत्तर प्रदेश के कानपुर निवासी विकास पारस के रूप में हुई है. उसने उत्तराखंड स्थित विश्वविद्यालय से पीएचडी की डिग्री हासिल की है. पुलिस पूछताछ में उसने बताया कि उसने कोलकाता निवासी आशीष जायसवाल के नाम से कई फर्जी दस्तावेज और पहचान पत्र बनवाए.

पुलिस ने कहा कि आरोपी पारस को एक सरकारी स्कूल के शिक्षक इंदर कुमार रॉय की शिकायत के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था, जिन्होंने अपने बेटे को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराने के लिए आरोपी से संपर्क किया था. शिकायतकर्ता के अनुसार, उनके बेटे शिवम रॉय को नीट 2019-2020 में कम स्कोर के कारण एमबीबीएस में प्रवेश नहीं मिल सका. दिसंबर 2020 में वह जायसवाल, रोहन सिंह और रोहित के संपर्क में आए, जिन्होंने उनके बेटे को सरकारी नामित कोटे के माध्यम से दिल्ली के मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराने का वादा किया था.

आरोपी ने शिकायतकर्ता से सीट के लिए डोनेशन के तौर पर 20 लाख रुपये की मांग की. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि शिक्षक इंदर कुमार रॉय को समझाने और उनका विश्वास हासिल करने के लिए उन्होंने मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज और मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के लैंडलाइन नंबरों से उन्हें और उनके बेटे को फोन भी किया. उन्होंने कहा कि आरोपी ने मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की आधिकारिक ईमेल आईडी से रॉय और उनके बेटे को ईमेल भी भेजे.

बाद में पीड़ित रॉय ने जायसवाल के बैंक खाते में 20 लाख रुपये ट्रांसफर कर दिए. हालांकि, पैसे मिलने के बाद आरोपियों ने अपने मोबाइल फोन बंद कर दिए और अंडरग्राउंड हो गए. पुलिस उपायुक्त (अपराध) राजेश देव ने कहा कि जांच के दौरान यह सामने आया कि आरोपी व्यक्तियों ने मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज और मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के लैंडलाइन नंबरों से स्पूफिंग के जरिए कॉल की और ईमेल भी उसी माध्यम से जेनरेट किए गए थे.

उन्होंने बताया कि तकनीकी निगरानी और गुप्त सूत्रों की मदद से पारस को शेख सराय इलाके से गिरफ्तार किया गया. आरोपी के तौर-तरीकों के बारे में बताते हुए देव ने कहा कि 2020 में पारस ने कोलकाता के निवासी और शराबी आशीष जायसवाल से एक बैंक खाता खरीदा. उसे जायसवाल की हस्ताक्षरित चेक बुक, पैन कार्ड, आधार कार्ड और एटीएम कार्ड मिला. इसके बाद आरोपी ने जायसवाल की ओरिजनल को एडिट कर फर्जी आधार कार्ड तैयार किया.

जायसवाल के फर्जी आधार कार्ड और असली पैन कार्ड और चेकबुक का इस्तेमाल कर पारस ने आईसीआईसीआई बैंक में एक और खाता खोला, जिसका इस्तेमाल वह लोगों को ठगने के लिए करता था. डीसीपी ने कहा, ‘उसने (पारस) और उसके सहयोगी फारूकी ने शिकायतकर्ता के साथ चाणक्यपुरी में कैफे कॉफी डे में रोहन सिंह और रोहित के रूप में मुलाकात की. उनके एक अन्य सहयोगी लव गुप्ता ने स्पूफिंग के जरिए कॉल और मेल मैनेज किया. उन्होंने कहा कि पारस के साथियों का पता लगाने और उन्हें पकड़ने के लिए आगे की जांच की जा रही है.

Tags: Delhi news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर