Assembly Banner 2021

कोचों का निरीक्षण कर बोले मनीष सिसोदिया- गर्मी के कारण हो सकती है परेशानी, AC कोच मिलता तो अच्छा होता

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि एमसीडी स्कूलों को अब शिक्षा निदेशालय दिल्ली सरकार टेक ओवर करे.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि एमसीडी स्कूलों को अब शिक्षा निदेशालय दिल्ली सरकार टेक ओवर करे.

दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन (Anand Vihar Station) के सात प्लेटफॉर्म पर ऐसे 267 कोच (Coaches) लगाए गए हैं. शकूर बस्ती, सराय रोहिल्ला सहित अन्य स्टेशनों पर 50-50 कोच लगाए गए हैं.

  • Share this:
दिल्ली. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने कोरोना संक्रमितों (Corona Infected) के लिए शकूर बस्ती में लगाये गये 50 कोचों (Rail Coach) का निरीक्षण किया. उन्होंने रेलवे की तारीफ करते हुए कहा कि ये एक अच्छा प्रयास है, ​लेकिन अभी कुछ परेशानियां हैं. गर्मी बहुत ज़्यादा है. मेडिकल स्टाफ पीपीई किट पहनकर गर्मी में कोच में रहेंगे. इससे उन्हें और मरीजों को भी परेशानी होगी,लेकिन कोई न कोई समाधान निकालेंगे. एसी कोच मिलता, तो अच्छा होता.



रेलवे ने दिल्ली के नौ स्टेशनों पर 503 कोच कोरोना वायरस संक्रमितों के पृथक-वास के लिए लगाए हैं. रेल अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के उपायों के तहत यह घोषणा की थी. कोविड-19 के मरीजों के लिए चिकित्सा देखभाल सुविधाएं बढ़ाने के लिए अबतक पांच राज्यों में ऐसे 960 पृथक-वास कोच लगाए गए हैं.



इन स्टेशनों पर मुहैया कराये गये कोच
रेल अधिकारियों के मुताबिक दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन के सात प्लेटफॉर्म पर ऐसे 267 कोच लगाए गए हैं. शकूर बस्ती, सराय रोहिल्ला सहित अन्य में 50-50 कोच लगाए गए हैं. उन्होंने बताया कि रेलवे ने दिल्ली कैंट में 33 पृथक-वास कोच लगाए हैं, जबकि 30 कोच आदर्श नगर में, 21 कोच सफदरजंग में, 13-13 कोच तुगलकाबाद तथा शाहदरा स्टेशन पर और 26 पटेल नगर में लगाए गए हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय एवं नीति आयोग की एकीकृत कोविड-19 योजना के मुताबिक इन कोच का इस्तेमाल उन इलाकों में किया जा सकता है, जहां राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं की किल्लत है और पुष्ट तथा संदिग्ध मरीजों के पृथक-वास के लिए क्षमताओं में इजाफे की आवश्यकता है. स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के मुताबिक इन कोचों का इस्तेमाल कम गंभीर मामलों के लिए किया जाएगा.

कोरोना के मामले में देश में दूसरे नंबर पर दिल्ली

कोविड-19 के मामलों और संक्रमण के कारण मरने वालों की संख्या, दोनों में महाराष्ट्र के बाद दिल्ली दूसरे नंबर पर है. यहां संक्रमण के 44,688 मामले हैं तथा 1,837 संक्रमितों की मौत हो गई है. रेल अधिकारियों ने बताया कि देश भर में अब तक 960 पृथक-वास कोच लगाए गए जिनमें से 503 दिल्ली में, उत्तर प्रदेश में 372, तेलंगाना में 60, आंध्र प्रदेश में 20 और मध्य प्रदेश में पांच लगाए गए हैं.

इन सुविधाओं से लैस हैं कोच 

ये कोच ऑक्सीजन सिलेंडर, कंबल, चिकित्सा सामग्री, संक्रमणमुक्त की गई बर्थ समेत आवश्यक चिकित्सा उपकरणों से लैस हैं. रेल मंत्रालय के मुताबिक इनमें मच्छरदानियां, लैपटॉप तथा फोन के लिए चार्जिंग प्वाइंट होंगे. शौचालयों को बाथरूम में बदला गया है. अधिकारियों ने बताया कि इन कोचों को पृथक-वास में बदलने के लिए प्रत्येक कोच पर दो लाख रूपये का खर्च आया है. ये एयर कंडिशन रहित कोच हैं इसलिए इनका तापमान कम रखने की भी व्यवस्था की गई है.

ये भी पढ़ें- AAP नेता आतिशी कोरोना पॉजिटिव, रिपोर्ट आने के बाद खुद को किया होम-क्वारंटाइन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज