Home /News /delhi-ncr /

delhi directorate of education asks schools to plant 1 5 lakh saplings this academic session

दिल्ली शिक्षा निदेशालय का आदेश- सभी स्कूल इस साल 1.5 लाख पौधे लगाएंगे

दिल्ली: शिक्षा निदेशालय का आदेश- सभी स्कूल इस साल 1.5 लाख पौधे लगाएंगे (न्यूज18 हिंदी फोटो)

दिल्ली: शिक्षा निदेशालय का आदेश- सभी स्कूल इस साल 1.5 लाख पौधे लगाएंगे (न्यूज18 हिंदी फोटो)

दिल्ली के सभी स्कूल के प्रधानाचार्यों और स्टाफ सदस्यों को अभियान में भाग लेने और छात्रों की मदद से पौधों की नियमित निगरानी और रखरखाव करने का भी निर्देश दिया है.

नई दिल्ली: दिल्ली के शिक्षा निदेशालय यानी डीओई ने राष्ट्रीय राजधानी के सभी स्कूलों को मौजूदा सत्र यानी 2022-23 शैक्षणिक सत्र के दौरान अपने इको-क्लब सदस्यों के माध्यम से कम से कम 1.5 लाख पौधे लगाने का निर्देश दिया है. इसने दिल्ली के सभी स्कूल के प्रधानाचार्यों और स्टाफ सदस्यों को अभियान में भाग लेने और छात्रों की मदद से पौधों की नियमित निगरानी और रखरखाव करने का भी निर्देश दिया है.

स्कूलों को लिखे गए शिक्षा निदेशालय के पत्र में कहा गया है कि ईको-क्लब सदस्यों के माध्यम से दिल्ली के सभी स्कूलों में 40,000 पेड़ और 1.1 लाख झाड़ी वाले पौधे सहित 1.50 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य शैक्षणिक वर्ष 2022-23 के लिए निर्धारित किया गया है. सभी विद्यालयों द्वारा सभी खुले क्षेत्रों एवं उपलब्ध स्थान में पौधरोपण का 50 प्रतिशत लक्ष्य 15 अगस्त तक प्राप्त कर लिया जायेगा. प्रत्येक विद्यालय प्रमुख द्वारा वन विभाग द्वारा चलाई जा रही किसी भी चिन्हित नर्सरी से वृक्षारोपण के लिये निःशुल्क पौधे प्राप्त किये जा सकते हैं.

डीओई यानी शिक्षा निदेशालय ने मौजूदा सत्र में हर स्कूल के लिए कम से कम 100 पौधे, जिनमें 30 पौधे और 70 झाड़ी वाले पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है. स्कूल प्रमुखों को हर महीने की 5 तारीख तक जोनल संयोजक के माध्यम से संबंधित विज्ञान केंद्रों को पौधों की तस्वीरों के साथ अपडेट भेजना आवश्यक है. इसके अलावा, संबंधित विज्ञान केंद्र के प्रभारी को हर महीने की 10 तारीख तक इसके तहत आने वाले जिलों की एक संकलित रिपोर्ट विज्ञान शाखा को भेजना होगा.

Tags: Delhi news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर