Home /News /delhi-ncr /

दिल्‍ली में विकराल हुआ कोरोना संकट, जानिए इन 5 बड़े अस्‍पतालों में कितने बेड हैं खाली

दिल्‍ली में विकराल हुआ कोरोना संकट, जानिए इन 5 बड़े अस्‍पतालों में कितने बेड हैं खाली

कोरोना मरीजों के साथ दुर्व्‍यवहार के मामले लगातार सामने आ रहे हैं.

कोरोना मरीजों के साथ दुर्व्‍यवहार के मामले लगातार सामने आ रहे हैं.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में संक्रमितों की संख्या अब 47102 हो गई है. वहीं, इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा 1904 हो गया है.

    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप से पूरी दुनिया जूझ रही है. कोरोना के मामलों में दुनियाभर में भारत (India) का चौथा स्थान है. हर जगह एक बात पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है और वह है टेस्ट. वहीं दिल्ली में कोरोना वायरस के बुधवार को एक दिन में रिकॉर्ड सबसे ज्यादा 2414 नए मरीज सामने आए हैं. जबकि राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमितों की संख्या अब 47102 हो गई है. वहीं, इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा 1904 हो गया है. ऐसे में लोगों में सवाल है कि दिल्ली के अस्पतालों में कितने खाली बेड मौजूद हैं.

    दिल्ली सरकार द्वारा शुरू की गयी वेबसाइट https://delhifightscorona.in/ पर मौजूद जानकारी के मुताबिक दिल्ली के लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल (LNJP Hospital) में कुल 2000 बेड हैं जिनमें 1262 बेड अभी खाली हैं. सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र अस्पताल में 184 में से 156 बेड खाली हैं.  वहीं गुरु तेग बहादुर हॉस्पिटल (GTB Hospital) में अभी तक कुल 1500 बेड में 1246 बेड खाली हैं. इसके अलावा एम्स झज्जर (AIIMS Jhajjar) और दिल्ली एम्स (Delhi AIIMS) में क्रमश: 725 में से 274 और 265 में से 71 बेड खाली हैं. दिल्ली सरकार द्वारा शुरू की गयी वेबसाइट पर दिल्ली के सभी केंद्र-राज्य और प्राइवेट अस्पतालों में मौजूद खाली बेड की जानकारी मौजूद है.

    किस अस्पताल में कितने वेंटिलेटर
    दिल्ली के अस्पतालों में कोरोना संकट के दौरान गुरु तेग बहादुर अस्पताल में 53 में से अभी सिर्फ़ 10 इस्तेमाल में आ रहे हैं वहीं 43 अभी मौजूद हैं. इसके अलावा एम्स झज्जर में 39 में से 34 वेंटिलेटर इस्तेमाल के लिए मौजूद हैं. वहीं लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल में 64 में से 18 वेंटिलेटर ज़रूरत पड़ने पर मौजूद हैं. बता दें दिल्ली के अस्पतालों में मौजूद वेंटिलेटर की लिस्ट देखने के लिए वेबसाइट https://delhifightscorona.in पर जा सकते हैं.

    बता दें कि दिल्ली में कोरोना वायरस टेस्ट के दाम तय कर दिए गए हैं. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा गठित कमेटी के सुझावों के बाद दिल्ली में कोरोना की जांच की कीमत 2,400 रुपए तय कर दी गई है. गृह मंत्रालय ने बताया कि दिल्ली में कोरोना मरीज के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने के लिए 15-16 जून के बीच 1,77,692 की आबादी के लिए स्वास्थ्य सर्वेक्षण किया गया. गृह मंत्री के फैसले के बाद कोरोना की जांच के लिए 15-16 जून को दिल्ली में 16,618 नमूने एकत्र किए गए. 14 जून तक 4,000-4,500 नमूनों की जांच हो रही थी.

    18 जून से दिल्ली में शुरू होंगे रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से कोरोना टेस्ट

    गुरुवार 18 जून से दिल्ली में रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से कोरोना टेस्ट शुरू होंगे. यह तकनीक नई है जिसकी मंजूरी ICMR ने कंटेनमेंट जोन और अस्पताल आदि में इस्तेमाल करने के लिए दी है. इसमें टेस्ट रिपोर्ट 30 मिनट के अंदर आ जाती है. इसके तहत अगर कोई नेगेटिव पाया जाता है तो उसका कंफर्मेशन RT-PCR टेस्ट से किया जाता है. लेकिन अगर कोई व्यक्ति इस टेस्ट में पॉजिटिव पाया जाता है तो उसको पॉजिटिव मान लिया जाता है. अमित शाह के ज्यादा टेस्टिंग और जल्द नतीजों के निर्देश के तहत यह फैसला लिया गया है.

    टेस्टिंग के मामले में दिल्ली 10वें नंबर पर

    टेस्टिंग के मामलों दिल्ली 10वें नंबर पर है. वहीं, महाराष्ट्र और तमिलनाडु के बाद सबसे ज्यादा टेस्टिंग
    राजस्थान (Rajasthan), आंध्र प्रदेश (andhra Pradesh), कर्नाटक (Karnataka), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), पश्चिम बंगाल (West Bengal), गुजरात और मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) ने की है. हर दस लाख पर लद्दाख 32,938, दिल्ली 13,540, आंध्र प्रदेश 8,838, तमिलनाडु 8,633, कर्नाटक 6,803, राजस्थान 6,748 टेस्ट कर रहा है. वहीं, हर 10 लाख लोगों पर टेस्टिंग को लेकर बिहार 979, उत्तर प्रदेश 1659, झारखंड 2,012, केरल, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल 3000 के आसपास हैं. संक्रमण को सीमित रखने को लेकर टेस्ट ही वह जरिया है, जिस पर जोर देने और बढ़ाने की जरूरत है.

    ये भी पढ़ें

    COVID-19: कोरोना की चपेट में आए दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन

    Tags: Corona, Delhi news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर