कर्मचारियों और डॉक्टरों के लंबित वेतन के मुद्दे पर दिल्ली सरकार और तीनों MCD में ठनी

दिल्ली के तीनों नगर निगमों के मेयर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के सामने धरना देते हुए (फोटो: ANI)
दिल्ली के तीनों नगर निगमों के मेयर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के सामने धरना देते हुए (फोटो: ANI)

दिल्ली के शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) का आरोप है कि समय देने के बावजूद तीनों नगर निगमों के मेयर बैठक के लिए नहीं पहुंचे. उन्होंने कहा कि उन्हें (नगर निगम के मेयरों) दोपहर दो बजे का समय दिया गया था लेकिन अभी तक वो मिलने नहीं पहुंचे हैं. वो अपना काम नहीं कर रहे हैं बल्कि इस पर राजनीति कर रहे हैं. जैन ने कहा कि एमसीडी में काफी भ्रष्टाचार व्याप्त है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2020, 8:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नगर निगम कर्मचारियों और डॉक्टरों के लंबित वेतन के मुद्दे पर दिल्ली सरकार (Delhi Government) और बीजेपी शासित दिल्ली के तीनों नगर निगम (MCD) आमने-सामने हैं. इसे लेकर तीनों मेयर जयप्रकाश (उत्तरी दिल्ली), अनामिका (दक्षिणी दिल्ली) और निर्मल जैन (पूर्वी दिल्ली) सोमवार सुबह से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) के आवास के बाहर बैठे हैं. इस पर दिल्ली सरकार के शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने उन्हें बैठक के लिए आमंत्रित किया. मगर उनका आरोप है कि समय देने के बावजूद तीनों नगर निगमों के मेयर बैठक के लिए नहीं पहुंचे. उन्होंने कहा कि उन्हें (नगर निगम के मेयरों) दोपहर दो बजे का समय दिया गया था लेकिन अभी तक वो मिलने नहीं पहुंचे हैं. वो अपना काम नहीं कर रहे हैं बल्कि इस पर राजनीति कर रहे हैं. जैन ने कहा कि एमसीडी में काफी भ्रष्टाचार व्याप्त है.
CM केजरीवाल के आवास के आगे बैठे तीनों नगर निगम के मेयरवहीं उत्तर दिल्ली नगर निगम के मेयर जय प्रकाश ने कहा कि हम सुबह ग्यारह बजे से सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास के आगे बैठे हैं. मगर हमें मिलने का समय नहीं दिया गया है. हम मिलकर उनसे इस विषय पर चर्चा कर हल निकालना चाहते हैं पर हमें बैठक के लिए बुलाया नहीं जा रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार बताए कि वो तेरह हजार करोड़ रुपये का बकाया कब और कैसे जारी करेगी.



बता दें कि नगर निगमों के कर्मचारियों के अलावा उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) द्वारा संचालित अस्पतालों के डॉक्टरों का भी वेतन पिछले कई महीनों से लंबित है. इसको लेकर एनडीएमसी अस्पतालों के डॉक्टर विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं. दरअसल कोविड 19 के चलते लगाए गए लॉकडाउन के बाद से ही नॉर्थ एमसीडी के तमाम कोरोना वॉरियर्स को अपनी सैलरी के लिए जूझना पड़ रहा है. उनका कहना है कि वो लगातार अपनी ड्यूटी कर रहे हैं, लेकिन हर बार उनकी तनख्वाह रोक दी जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज