होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

Delhi को झीलों का शहर बनाने में जुटी केजरीवाल सरकार, इन नौ झील का होगा पुनर्व‍िकास

Delhi को झीलों का शहर बनाने में जुटी केजरीवाल सरकार, इन नौ झील का होगा पुनर्व‍िकास

द‍िल्‍ली सरकार की ओर से झीलों का पुनर्व‍िकास कर उनको जीवंत बनाने का काम क‍िया जा रहा है. (File Photo)

द‍िल्‍ली सरकार की ओर से झीलों का पुनर्व‍िकास कर उनको जीवंत बनाने का काम क‍िया जा रहा है. (File Photo)

Delhi Lakes Development Project: केजरीवाल सरकार दिल्ली में 299 जलाशय (Water Bodies) और 9 झीलों को विकसित कर रही है. इनमें कई झीलों और जलाशयों को मनोरंजक और सुरक्षित स्थल के तौर पर विकसित किया जा रहा है. झीलों व जलाशयों के पुनर्जीवित होने से राजधानी की बायोडायवर्सिटी में भी सुधार होगा.

अधिक पढ़ें ...

नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली को झीलों (Delhi Lakes) का शहर बनाने की कवायद की जा रही है. द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) की ओर से झीलों का पुनर्व‍िकास कर उनको जीवंत बनाने का काम क‍िया जा रहा है. साथ ही इनको एक टूर‍िस्‍ट स्‍पॉट के रूप में भी तैयार करने का प्रयास क‍िया जा रहा है. केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) दिल्ली में 299 जलाशय (Water Bodies) और 9 झीलों को विकसित कर रही है. इनमें कई झीलों और जलाशयों को मनोरंजक और सुरक्षित स्थल के तौर पर विकसित किया जा रहा है.

सरकार का मानना है क‍ि झीलों व जलाशयों के पुनर्जीवित होने से राजधानी की बायोडायवर्सिटी में भी सुधार होगा और साथ ही आसपास के भूजल स्तर में भी सुधार आएगा. एक तय भूजल स्तर पर उस पानी का इस्तेमाल पानी की डिमांड और सप्लाई के अंतर को कम करने के लिए भी कर पाएगा.

Delhi: बुराड़ी में इन झीलों को टूर‍िस्‍ट स्‍पॉट बनाने की तैयारी में केजरीवाल सरकार, पर्यटक उठा सकेंगे प्राकृत‍िक सौंदर्य का लुत्‍फ 

दिल्‍ली की सभी झीलों व जलाशयों को विकसित करने के लिए विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है, ताकि इनके सुंदरीकरण के साथ ग्राउंड वाटर को रिचार्ज करने में भी मदद मिल सके. इसके अलावा महरौली एसटीपी से ट्रीटेड पानी को डीएलएफ छतरपुर, सतबारी और राधे मोहन ड्राइव फार्म हाउस में सप्लाई किया जाएगा, ताकि बोरवेल से पानी निकलने की नौबत न आए.

ओखला STP के पास विकसित की जाएंगी झीलें
ओखला एसटीपी से यमुना नदी तक पानी पहुंचाने के लिए एक कनेक्टिंग लाइन बिछाई जाएगी. इसके साथ ही ग्राउंडवाटर को रिचार्ज करने के लिए ओखला एसटीपी के पास छोटी-छोटी झीलें विकसित की जाएगी, ताकि पानी को एसटीपी से झीलों में छोड़ा जाएगा. अतिरिक्त ट्रीटेड पानी को यमुना में कनेक्टिंग लाइन के जरिए छोड़ा जाएगा. इसके अलावा ओखला एसटीपी से एनटीसीपी ईकोपार्क बदरपूर तक भी ट्रीटेड पानी पहुंचाया जाएगा.

एसटीपी में पानी की गुणवत्ता में हुआ सुधार
ड‍िप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया का कहना है क‍ि दिल्ली सरकार ने विभिन्न सीवर ट्रीटमेंट प्लांट्स में आधुनिक तकनीक के जरिए पानी को ट्रीट करने की पहल की है. इस अनोखी तकनीक की मदद से वर्तमान में ओखला एसटीपी में सीवर के पानी को भी बेहतर तरीके से ट्रीट किया जा रहा है. यही वजह है कि एसटीपी में पानी की गुणवत्ता में सुधार हुआ है. सीवेज वॉटर को ट्रीट करके सरकार सिविल कार्य और भारी मशीनरी खरीदने के लिए उपयोग की जाने वाली लागत को कम कर पाएगी.

अगले तीन सालों में साफ होगी यमुना नदी
सिसोदिया ने कहा कि पानी व सीवर के इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करना सरकार का काम है. लोग टैक्स देते हैं, इस कारण इंफ्रास्ट्रक्चर पर उनका हक है. केजरीवाल सरकार ने यमुना नदी को अगले तीन साल में पूरा साफ करने का लक्ष्य रखा है. इसके तहत दिल्ली के 100 फीसदी घरों को भी सीवर लाइन से जोड़ने का प्लान है.

स्‍कूलों व अस्‍पतालों की तरह यमुना का कायाकल्‍प होगा
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने फरवरी 2025 तक यमुना को साफ करने की जिम्मेदारी जल बोर्ड को दी है, जिस तरह पिछले कार्यकाल में दिल्ली सरकार ने स्कूलों और अस्पतालों का कायाकल्प किया, वैसे ही इस बार यमुना को भी प्राथमिकता के आधार पर साफ करना ही मुख्य मकसद है.

Tags: Delhi Government, Delhi news, Kejriwal Government, Manish sisodia

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर