अपना शहर चुनें

States

Delhi Riots: दिल्ली सरकार ने दंगा पीड़ितों को दिये 26 करोड़, 44 मृतको के परिजनों को भी मिला मुआवजा!

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा (File Photo)
उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा (File Photo)

Delhi Riots: दिल्ली दंगों से प्रभावित 2221 लोगों की ओर से मुआवजा आदि का दावा किया गया था. इसकी एवज में सरकार ने अब तक 26.09 करोड रुपया दंगा पीड़ितों को उनके दावों के रूप में अदा किया है. अब तक 44 मृतकों के परिजनों को भी मुआवजा राशि दी जा चुकी है. कुल 233 घायल लोगों को भी मुआवजा राशि दी गई है. दंगों में 731 घरों को क्षति हुई थी. इसके अलावा 1176 कमर्शियल जगहों को भी दंगों में बड़ा नुकसान हुआ था इन सभी को दिल्ली सरकार की ओर से दावों के आधार पर मुआवजा राशि अदा की जा चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 7:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में पिछले साल 23 फरवरी को हुए दंगों को कल एक साल होने हो जाएगा. दंगों में बड़ी संख्या में जानमाल का नुकसान हुआ था. 53 लोगों की जहां जान चली गई थी, वहीं बड़ी संख्या में लोग घायल भी हुए थे.


दिल्ली सरकार की ओर से इस एक साल के दौरान 44 मृतकों के परिजनों को मुआवजा राशि दी जा चुकी है. वहीं, प्रभावित लोगों को भी यह मुआवजा राशि दी गई है.


दिल्ली सरकार की ओर से प्राप्त जानकारी के मुताबिक दिल्ली दंगों से प्रभावित 2221 लोगों की ओर से मुआवजा आदि का दावा किया गया था. इसकी एवज में सरकार ने अब तक 26.09 करोड रुपया दंगा पीड़ितों को उनके दावों के रूप में अदा किया है.


जानकारी के मुताबिक दिल्ली सरकार की ओर से अब तक 44 मृतकों के परिजनों को भी मुआवजा राशि दी जा चुकी है. कुल 233 घायल लोगों को भी मुआवजा राशि दी गई है. दंगों में 731 घरों को क्षति हुई थी. इसके अलावा 1176 कमर्शियल जगहों को भी दंगों में बड़ा नुकसान हुआ था इन सभी को दिल्ली सरकार की ओर से दावों के आधार पर मुआवजा राशि अदा की जा चुकी है.





बताते चलें कि दंगों की शुरुआत उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पर 22 फरवरी को सीएए (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा था. इस प्रदर्शन में ज्यादातर महिलाएं शामिल थीं. दंगों के भड़कने का मुख्य कारण भी जांच एजेंसियों ने सीएए के प्रोटेस्ट को ही बड़ी वजह बताया है. इस प्रोटेस्ट की वजह से ही उत्तर पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) में दंगों की शुरुआत हुई.


दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट की मानें तो 23 फरवरी 2020 को दोपहर 3 बजे हमें जानकारी मिली थी कि मौजपुर में जाफराबाद मेट्रो स्टेशन वाले रास्ते को खाली कराने की मांग को लेकर हजारों की संख्या में लोग जुटे हुए हैं और दोनों ही ओर से पत्थरबाजी की जा रही है.






उत्तर पूर्वी दिल्ली के सबसे ज्यादा दंगा प्रभावित इलाकों में जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, चांद बाग, शिव विहार, भजनपुरा, यमुना विहार अकेले इन इलाकों में ही 42 लोगों की मौत होने की मामला सामने आया था. इसमें अकेले 200 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर भी मिली थी. और बड़ी संख्या में संपत्ति का नुकसान भी हुआ था. उपद्रवियों ने की भीड़ ने दंगों में उपद्रवियों की भीड़ ने इन इलाकों के घरों, दुकानों, सड़क और घरों के आसपास खड़े वाहनों के अलावा भजनपुरा मेन रोड पर एक पेट्रोल पंप में भी आग लगा दी थी. इस दौरान स्थानीय लोगों ने पुलिस पर भी खूब पथराव किया था. तीन दशक का यह सबसे भयानक दंगा बताया गया था.






अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज