• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • DELHI GOVERNMENT GRANTS AID OF RS 1051 CRORE SISODIA SAID IS NOT DIVERTED IN ANY WAY USED TO PAY SALARIES

MCD को 1,051 करोड़ का फंड रिलीज, सिसोदिया बोले-बिना हेराफेरी के कर्मचारियों की सैलरी पर ही खर्च हो राशि

दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने नगर निगम के फ्रंट लाइन वर्करों और कर्मचारियों के वेतन के लिए 1051करोड़ रुपये जारी किए है.

दिल्ली सरकार ने नगर निगमों के फ्रंट लाइन वर्करों और कर्मचारियों के वेतन के लिए 1,051करोड़ रुपये जारी किए हैं. EDMC को 366.9 करोड़, NDMC को 432.8 करोड़, SDMC को 251.6 करोड़ रुपये जारी किये हैं. डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि संकट के समय कर्मचारियों का वेतन नहीं रुकना चाहिए. बिना किसी हेराफेरी के इसको तनख्वाह देने के लिए उपयोग किया जाए.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली नगर निगम (MCD) इस महामारी के दौरान अपने सिस्टम में व्याप्त भ्रष्टाचार और अव्यवस्था के कारण अपने कर्मचारियों और फ्रंट लाइन वर्कर्स को महीनों से वेतन नहीं दे रही है. ये दिखाता है कि एमसीडी अपना कर्तव्य निभाने में पूरी तरह विफल हो चुकी है. इसलिए दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने नगर निगम (Municipal Corporation) के फ्रंट लाइन वर्करों और कर्मचारियों के वेतन के लिए 1,051करोड़ रुपये जारी किए है.

    डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने कहा कि दिल्ली में कोरोना (Corona) महामारी के बीच में दिल्ली नगर निगम अपनी अव्यवस्था और भ्रष्टाचार की वजह से नगर निगम के कर्मचारियों को तनख्वाह नही दे पा रहा है.

    इस महामारी में जो डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ दिन रात मेहनत कर अपनी जान की बाजी लगाकर लोगों को बचा रहें हैं. वैसे में मेडिकल कर्मियों की तनख्वाह तक नही मिल पाना नगर निगम की बड़ी विफलता दर्शाता है.

    इसलिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के नेतृत्व में दिल्ली सरकार ने निगम कर्मचारियों के वेतन के लिए 1,051 करोड़ रुपये ज़ारी किए है. इसमें पूर्वी दिल्ली नगर निगम (East MCD) के लिए 366.9 करोड़, उत्तरी दिल्ली नगर निगम (North MCD) के लिए 432.8 करोड़ और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम (South MCD) के लिए 251.6 करोड़ रुपये ज़ारी किया गया है.

    सिसोदिया ने कहा कि संकट के समय कर्मचारियों का वेतन नहीं रुकना चाहिए. उन्होंने कहा कि एमसीडी ये सुनिश्चित करे कि इस राशि का उपयोग बिना किसी हेराफेरी किए केवल कर्मचारियों को तनख्वाह देने के लिए किया जाए.