अपना शहर चुनें

States

बड़ा फैसला: दिल्ली सरकार ने सभी COVID-19 अस्पतालों को ऑक्सीजन बेड बनाने का दिया आदेश, ये है वजह

भारत में कोरोना डेथ रेट में अचानक बढ़ गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
भारत में कोरोना डेथ रेट में अचानक बढ़ गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

दिल्‍ली सरकार (Delhi Government) ने राजधानी में बढ़ते कोरोना के कहर को देखते हुए सभी कोविड-19 (COVID-19) अस्पतालों को ऑक्सीजन बेड बनाने का आदेश दिया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिल्‍ली सरकार (Delhi Government) ने राजधानी में बढ़ते कोरोना के कहर को देखते हुए सभी कोविड-19 (COVID-19) अस्पतालों को ऑक्सीजन बेड बनाने का आदेश दिया है. जबकि इसके लिए जरूरी सामान की खरीद दिल्ली स्टेट हेल्थ मिशन के कोविड फंड से होगी.

अस्‍पतालों को करना होगा ये काम
बहरहाल, दिल्‍ली सरकार ने बीते एक हफ्ते के दौरान संक्रमितों की संख्या में हुई वृद्धि के बाद आईसीयू बेड और ऑक्सीजन बेड की बढ़ी मांग को देखते हुए ये आदेश जारी किया है. दिल्ली सरकार के सभी कोविड-19 अस्पतालों के मेडिकल डायरेक्टर और डायरेक्टर को निर्देश कि जहां पाइप के जरिए ऑक्सीजन सप्लाई नहीं है, वहां ऑक्सीजन कॉन्सेन्ट्रेटर या फिर ऑक्सीजन सिलेंडर के जरिए सप्लाई की व्यवस्था करें.

सरकार ने कही थी ये बात
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा था कि शहर में डेढ़ लाख बिस्तरों की जरूरत पड़ेगी. वहीं, इससे एक दिन पहले उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि जुलाई के अंत तक कोरोना वायरस मामलों की संख्या बढ़कर साढ़े पांच लाख हो जाएगी जो कि आज यानी गुरुवार तक सामने आए 34687 मामलों से कई गुना ज्यादा है.



दिल्‍ली में एक दिन में आए रिकॉर्ड मामले
राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस (Coronavirus) के गुरुवार को एक दिन में रिकॉर्ड सबसे ज्यादा 1877 नए मरीज सामने आने से हड़कंप मच गया है. यह पहली बार है कि जब दिल्ली में कोरोना वायरस के 1800 से ज्यादा मामले एक दिन में आए हैं. इससे पहले 3जून को सबसे ज्यादा 1513 मामले सामने आए थे. जबकि दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग ने गुरुवार को एक बुलेटिन में बताया कि कोरोना वायरस के कारण जान गंवाने वाले लोगों की संख्या 1085 हो गई है. इसके अलावा इस जानलेवा संक्रमण के 34687 मामले हो गए हैं. बुलेटिन में बताया गया है कि 10 जून को 101 लोगों की मौत का ऐलान किया गया. यही नहीं, इस समय दिल्‍ली में 20871 एक्टिव केस हैं, तो 12731 लोग डिस्‍चार्ज होकर घर लौट चुके हैं.

इसी तरह यदि अस्पताल की व्यवस्था की बात करें तो दिल्ली में कुल 9462 कोविड-19 बेड हैं. इनमें से 5026 बेडों पर मरीजों का इलाज हो रहा है. जबकि, 4436 कोविड-19 बेड अभी भी उपलब्ध हैं. इसी तरह राष्ट्रीय राजधानी के कोविड-19 अस्पतालों में कुल 572 वेंटिलेटर्स हैं. इनमें से 315 वेंटिलेटर्स का उपयोग हो रहा है, जबकि 257 अभी भी खाली पड़े हैं.

 



ये भी पढ़ें

केजरीवाल का दावा, कोरोना से निपटने में सक्षम है दिल्‍ली, लोग बोले-फेल है सरकार

दिल्ली में रिकॉर्ड टूटने का सिलसिला जारी, अब एक दिन में मिले 1877 संक्रमित
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज