• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Lockdown 5.0: दिल्‍ली सरकार ने UP-हरियाणा बॉर्डर खोलने के लिए मांगी राय, 24 घंटे में मिले 4.5 लाख सुझाव

Lockdown 5.0: दिल्‍ली सरकार ने UP-हरियाणा बॉर्डर खोलने के लिए मांगी राय, 24 घंटे में मिले 4.5 लाख सुझाव

दिल्ली सीएम अरविन्द केजरीवाल

दिल्ली सीएम अरविन्द केजरीवाल

दिल्ली सरकार (Delhi Government) को उत्तर प्रदेश और हरियाणा के साथ बॉर्डर को फिर से खोलने के लिए पिछले 24 घंटों में लोगों के लगभग 4.5 लाख सुझाव मिले हैं.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने सोमवार को ना सिर्फ लॉकडाउन 5 के तहत दिल्ली को लेकर नई गाइडलाइन जारी की बल्कि दिल्ली बॉर्डर (Delhi Border Seal) को एक हफ्ते तक सील करने के बारे में भी निर्देश जारी किया था. इसके साथ ही उन्‍होंने उत्‍तर प्रदेश और हरियाणा बॉर्डर को फिर से खोलने के लिए भी सुझाव मांगे थे. दिल्‍ली सरकार के इस कदम के बाद सियासत तेज हो गयी और भाजपा के साथ कांग्रेस ने भी केजरीवाल पर निशाना साधा था, लेकिन दिल्ली सरकार को उत्तर प्रदेश और हरियाणा के साथ बॉर्डर को फिर से खोलने के लिए पिछले 24 घंटों में लोगों के करीब 4.5 लाख सुझाव मिले हैं.

    हालांकि केंद्र सरकार (Central Government) का निर्देश है कि एक राज्य से दूसरे राज्य में बिना किसी रुकावट या पूर्व अनुमति के लोग आ या फिर जा सकते हैं.



    भाजपा और कांग्रेस ने साधा था निशाना
    सीएम अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को दिल्ली की सारी सीमाएं अगले एक हफ्ते के लिए सील कर दीं और इस बारे में लोगों से राय भी मांगी थी. इस पर भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने ट्वीट करते हुए लिखा था, 'केवल आप अपनी विफलता छिपाने के लिए मासूम लोगों को सजा दे रहे हैं, केवल इसलिए क्योंकि वो सीमा पार रहते हैं. वो लोग आपके और मेरे जैसे भारतीय हैं. आपने अप्रैल में 30,000 रोगियों के लिए तैयार होने का वादा किया था, याद है? अब आप ऐसे सवाल क्यों पूछ रहे हैं मिस्टर तुगलक?"

    वहीं, कांग्रेस की ओर से भी अरविंद केजरीवाल पर हमला किया गया था. दिल्ली कांग्रेस ने अपने ट्विटर पर लिखा था कि जब दिल्ली में सब कुछ खोल दिया गया है, फिर दिल्ली के बॉर्डर सील करने की क्या जरूरत थी. जबकि लोगों को बॉर्डर के इधर-उधर काम धंधे पर जाने के लिए रोक लगाने से बॉर्डर पर सिर्फ अराजकता ही पैदा होगी.' साथ ही लिखा था कि केजरीवाल पूरी तरह भ्रमित हैं, उन्हें यह मालूम नहीं कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को कैसे रोकना है. जब शराब की दुकानें खोली गईं तो केजरीवाल ने किसी से सुझाव नहीं लिए और जब शराब की प्रति बोतल पर कोरोना टैक्स लगाया था, उस समय भी केजरीवाल ने लोगों से सुझाव नहीं मांगे थे. लेकिन बॉर्डर खोलने के लिए लोगों से राय मांग रहे हैं.

    सीएम केजरीवाल ने ये कहा था
    मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी का हवाला देते हुए 1 जून को यह घोषणा की थी कि अगले एक सप्ताह तक बॉर्डर सील रहेंगे. अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'आपका ये मुख्यमंत्री आपको विश्वास दिलाता है कि अगर आपको कोरोना हो जाता है तो आपके लिए दिल्ली के अस्पतालों में बेड की पर्याप्त व्यवस्था है. बॉर्डर खोल दिए जाएंगे तो देश भर के सभी लोग यहां के हॉस्पिटल में इलाज करवाने आएंगे. दिल्ली के हॉस्पिटल में कुछ टाइम तक सिर्फ दिल्ली के लोगों का इलाज होना चाहिए, इसलिए एक सप्ताह के लिए ​दिल्ली के बॉर्डर सील किए जा रहे हैं.'

    बॉर्डर बंद होने से पेश आती हैं कई समस्याएं
    दिल्ली के बॉर्डर सील होने के बाद दिल्ली एनसीआर से लोगों की आवाजाही पर काफी प्रभाव पड़ेगा और कई समस्याएं भी उठ खड़ी हो सकती हैं. नोएडा, फरीदाबाद, सोनीपत और गुरुग्राम जैसे इलाकों से रोजाना हजारों लोग बॉर्डर क्रॉस करके दिल्ली में आते हैं. लॉकडाउन लंबा खिंचने के बाद अब दुबारा दिल्ली के बॉर्डर सील करने से कामकाजी लोगों को बहुत कठिनाई हो सकती है.

    ये भी पढ़ें

    दिल्ली हिंसाः 10 लोगों ने मिलकर बेरहमी से की थी IB कर्मी अंकित शर्मा की हत्या, कल पेश होगी चार्जशीट


    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन