• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Faceless Scheme: ड्राइविंग टेस्ट देने के ल‍िए अब झटपट म‍िलेगी अपॉइंटमेंट, अब नहीं करना होगा लंबा इंतजार

Faceless Scheme: ड्राइविंग टेस्ट देने के ल‍िए अब झटपट म‍िलेगी अपॉइंटमेंट, अब नहीं करना होगा लंबा इंतजार

ट्रांसपोर्ट ऑथोर‍िटीज में बनाए गए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक की संख्‍या बढ़ाने की योजना तैयार की है. (File Photo-Firstpost)

ट्रांसपोर्ट ऑथोर‍िटीज में बनाए गए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक की संख्‍या बढ़ाने की योजना तैयार की है. (File Photo-Firstpost)

Automated Driving Test Track: द‍िल्‍लीभर में कुल 13 ट्रांसपोर्ट ऑथोर‍िटीज के अंतर्गत 13 ही ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक हैं. लेक‍िन इनमें से भी स‍िर्फ 11 ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक कार्य कर रहे हैं. दो ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक को बनाने का काम क‍िया जा रहा है. इसके अलावा सात और नए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक तैयार क‍िए जाएंगे.

  • Share this:

    नई दिल्ली. दिल्ली सरकार (Delhi Government) की ओर से ड्राइविंग लाइसेंस (Driving Licence) बनवाने के लिए डोर स्टेप डिलीवरी सर्विसेज (Door step Delivery Services) के तहत ऑनलाइन सेवा शुरू की थी. इस सर्विस के शुरू होने के बाद से आवेदकों का जबर्दस्‍त रेस्‍पांस म‍िल रहा है. इसकी वजह से ड्राइविंग टेस्ट देने के ल‍िए लंबी वेट‍िंग म‍िल रही है. इस समस्‍या के समाधान के ल‍िए पर‍िवहन व‍िभाग लगातार काम कर रहा है. और अब इस समस्‍या के समाधान की द‍िशा में एक नया कदम उठाया है. आवेदकों के ल‍िए अब जोनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी में और नए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक (Automated Driving Test Track) तैयार क‍िए जाएंगे.

    जानकारी के मुताब‍िक फेसलेस सर्व‍िस के तहत स्‍थाई ड्राइव‍िंग लाइसेंस बनवाने वाले आवेदकों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है. इससे मौजूदा ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक पर भारी दवाब बना हुआ है. फेसलेस सर्विस के तहत आवेदकों को ट्रांसपोर्ट ऑथोर‍िटीज में आने की जरूरत नहीं है. लेक‍िन उनको अपना ड्राइव‍िंग टेस्‍ट देने के ल‍िए ऑथोर‍िटीज में फ‍िज‍िकल व‍िजि‍ट के ल‍िए आना अनिवार्य है. इसकी वजह से वेट‍िंग ल‍िस्‍ट शुरूआती समय से ही लगातार बढ़ती रही है.

    ये भी पढ़ें: काम की खबर : Driving License Test देने के लिए अब नहीं करना होगा लंबा इंतजार, आएगा जल्‍द नंबर

    दो से तीनों द‍िनों के भीतर आवेदकों को म‍िलेगा ड्राइव‍िंग टेस्‍ट को ट्रैक
    हालांकि द‍िल्‍ली सरकार के पर‍िवहन व‍िभाग की ओर से समय-समय पर इस वेट‍िंग ल‍िस्‍ट को कम करने के कई खास कदम भी उठाए जाते रहे हैं. बावजूद इसके वेट‍िंग ल‍िस्‍ट आवेदकों की संख्‍या बढ़ने की वजह से लगातार बढ़ती ही जा रही है. सरकार ने अब इसका समाधान न‍िकालने के लिए 13 ट्रांसपोर्ट ऑथोर‍िटीज के अलावा भी कुछ नए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक तैयार करने की योजना बनाई है.

    इस तरह की व्‍यवस्‍था होने के बाद जहां वेट‍िंग ल‍िस्‍ट कम करने में मदद म‍िलेगी. वहीं संभावना जताई जा रही है क‍ि आवेदकों को दो से तीन द‍िनों के भीतर ही ड्राइव‍िंग टेस्‍ट के ल‍िए ट्रैक उपलब्‍ध हो जाएगा. उनको कम समय के भीतर ही ड्राइव‍िंग टेस्‍ट के ल‍िए बुला ल‍िया जाएगा.

    सूत्रों की माने तो मौजूदा समय में द‍िल्‍लीभर में कुल 13 ट्रांसपोर्ट ऑथोर‍िटीज के अंतर्गत 13 ही ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक हैं. लेक‍िन इनमें से भी स‍िर्फ 11 ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक कार्य कर रहे हैं. दो ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक को बनाने का काम क‍िया जा रहा है.

    इसके अलावा सात और नए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक तैयार क‍िए जाएंगे. इन नए ट्रैक के तैयार होने के बाद न‍िश्‍च‍ित तौर पर ड्राइव‍िंग टेस्‍ट के ल‍िए चल रही वेट‍िंग को काफी हद तक कम क‍िया जा सकेगा. वहीं आवेदकों को आवेदन के दो से तीन द‍िनों के भीतर ड्राइव‍िंग टेस्‍ट के ल‍िए बुला ल‍िया जाएगा.

    ये भी पढ़ें: वाहन चालकों के लिए जरूरी खबर: अब सिर्फ 31 अक्टूबर तक वैध होंगे वाहनों के दस्तावेज, चेक करें डिटेल्स

    ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक की संख्‍या बढ़ाने का क‍िया जा रहा
    आध‍िका‍र‍िक सूत्रों की माने तो नए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक बन जाने के बाद इनकी कुल संख्‍या 13 से 20 हो जाएगी. वहीं अभी तक सही मायने में 11 ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक ही फंक्‍शन‍िंग में हैं. आने वाले समय में यह सभी 20 ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक काम करने से लोगों को ज्‍यादा सुव‍िधा म‍िल सकेगी. नए ट्रैक बनाने के लिए साइट्स को भी च‍िन्‍ह‍ित क‍िया जा चुका है.

    इन जगहों पर बनाए जाएंगे नए ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक
    सूत्रों के मुताबिक ऑटोमेटेड ड्राइव‍िंग टेस्‍ट ट्रैक मैनेजमेंट को लेकर यह बड़े बदलाव क‍िए जा रहे हैं. यह सभी नए ट्रैक मयूर व‍िहार आईटीआई, शाहदरा, नरेला, जेल रोड, पूसा रोड और जाफरपुर में बनाए जाएंगे. इसके अत‍िर‍िक्‍त कश्‍मीर गेट स्‍थ‍ित इंद‍िरा गांधी द‍िल्‍ली टेक्‍निकल यून‍िवर्स‍िटी फॉर वूमेन में भी ट्रैक तैयार क‍िया जा रहा है.

    देर रात्र‍ि में ड्राइविंग टेस्‍ट लेने की सुव‍िधा भी की थी शुरू
    बताते चलें क‍ि द‍िल्‍ली सरकार की ओर से इस पहले समस्‍या समाधान के ल‍िए आवेदकों को किसी भी जोनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी के खाली ऑटोमेटेड ट्रैक (Automated Track) का चयन ड्राइविंग टेस्ट (Driving Test) के लिए करने की सुव‍िधा दी थी. इसके अलावा वेट‍िंग को कम करने के ल‍िए रात्रि 10 बजे तक ऑटोमेटेड ट्रैक पर ड्राइविंग टेस्ट लेने की व्यवस्था भी की गई. इसके ल‍िए विभाग ने ऑटोमेटेड ट्रैक को हाई क्वालिटी वाली लाइटिंग से लैस किया था जिससे कि रात के वक्त भी ट्रैक पर दिन जैसा महसूस हो सके.

    ये भी पढ़ें: DL के लिए 5000 रुपए रिश्वत नहीं दे सका युवक, आर्थिक तंगी से परेशान होकर दे दी जान

    वेट‍िंग कम करने को ऑटोमेटेड ट्रैक चुनने की ये भी दी गई सुव‍िधा
    ऑटोमेटेड ट्रैक के लिए मिल रही लंबी वेटिंग को कम करने के लिये दिल्ली सरकार की ओर से प‍िछले द‍िनों आवेदकों को अपने पते के मुताबिक अथॉरिटीज के ट्रैक पर ही टेस्ट देने की अन‍िवार्यता में बदलाव क‍िया था. आवेदकों को परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन के समय विभाग की वेबसाइट पर जाकर जिस भी जोनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी में जगह खाली मिलती है, उस कार्यालय के ट्रैक पर भी टेस्ट देने की अनुमत‍ि दी गई.

    केवल आवेदक को पते के आधार पर ही करना होता ट्रैक का चयन
    फिलहाल यह सुविधा केवल आवेदक को उसके पते के आधार पर ही उस इलाके के जोनल ट्रांसपोर्ट कार्यालय के ऑटोमेटिक ट्रैक पर ही दी जा रही थी. लेकिन अब लगातार बढ़ती संख्या को कम करने और ज्यादा सुविधा देने के उद्देश्य के ल‍िए इस सुव‍िधा को शुरू क‍िया गया था. इसके अलावा साप्‍ताह‍िक अवकाश यानी रव‍िवार को भी टेस्‍ट की अनुमत‍ि भी दी गई.

    स‍िर्फ इन कामों के ल‍िए ऑथोर‍िटीज व‍िज‍िट की जरूरत
    फेसलैस सुव‍िधा शुरू होने के बाद अब ट्रांसपोर्ट अथॉरिटीज में इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस से लेकर पब्लिक सर्विस व्हीकल (PSV) बैज, व्हीकल रजिस्ट्रेशन और कंडक्टर लाइसेंस आदि जारी कराने को भी ऑफिस जाने की जरूरत नहीं रही है. अब यह सभी काम भी घर बैठे आसानी से हो रहे हैं. अब सिर्फ लोगों को अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए ड्राइविंग टेस्ट देने और वाहनों की फिटनेस का सर्टिफिकेट लेने के ल‍िए ही ऑथॉरिटी में जाना पड़ रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज