दिल्ली सरकार के पास कोरोना वैक्सीन का कोटा लगभग खत्म! आज से 150 से ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटर्स होंगे बंद

वैक्सीन की कमी के चलते  करीब 150 सेंटरों को कल से बंद करना पड़ेगा. (File Photo)

वैक्सीन की कमी के चलते करीब 150 सेंटरों को कल से बंद करना पड़ेगा. (File Photo)

दिल्ली सरकार की ओर से 18 से 44 वर्ष के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए 99 स्कूलों में 368 साइट पर चल रही हैं. इसमें से आधी यानी कि डेढ़ सौ से भी ज्यादा वैक्सीनेशन साइट्स कल से बंद हो जाएंगी. दिल्ली वालों के लिए बहुत चिंता का विषय है.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली सरकार (Delhi Government) की ओर से 99 स्कूलों में बनाए गए 368 कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर पर लगातार वैक्सीन की कमी बनी हुई है. वहीं, अब दिल्ली सरकार ने संभावना जताई है कि वैक्सीन की कमी के चलते इनमें से आधे यानी कि करीब 150 सेंटरों को कल से बंद करना पड़ेगा पड़ सकता है.

आम आदमी पार्टी की वरिष्ठ नेता और विधायक आतिशी ने कहा कि दिल्ली में 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए कोवैक्सीन का 2 दिन और कोवीशील्ड का 9 दिन का स्टॉक बचा है. दिल्ली के पास 18 से 44 वर्ष के युवाओं के लिए कोवीशील्ड का एक दिन से भी कम का स्टॉक बचा है. ऐसे में आधे से भी ज्यादा वैक्सीनेशन साइट्स कल से बंद हो जाएंगी.

उन्होंने बताया कि 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए 50 हजार कोवीशील्ड की डोज भेजी गई हैं, जो कि गुरूवार को मिल जाएंगी. कोरोना की दूसरी लहर में बहुत बड़ी संख्या में युवा महामारी से प्रभावित हुए है.

केंद्र सरकार (Central Government) से अपील है कि जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध कराए. 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए वॉक इन वैक्सीनेशन (Walk in Vaccination) सेंटर शुरू कर दिए गए हैं. हमारी अपील है कि ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोग आगे आकर वैक्सीनेशन करवाएं.

Youtube Video

आतिशी ने गुरुवार को वैक्सीनेशन बुलेटिन जारी किया. आतिशी ने कहा कि दिल्ली में 19 मई को 68,604 वैक्सीन लगाई गई हैं. वैक्सीनेशन बुधवार को कम होने की वजह यह है कि दिल्ली में बुधवार और शुक्रवार को सरकारी डिस्पेंसरी में कोरोना का वैक्सीनेशन नहीं होता है. इसके बजाए बच्चों का नियमित टीकाकरण किया जाता है.

दिल्ली में कल 61,494 लोगों को पहली डोज और 7110 लोगों को दूसरी डोज लगाई गई है. इसमें से 18 से 44 वर्ष के करीब 50 हजार से ज्यादा लोगों को पहली डोज लगाई गई. इसके बाद दिल्ली में अभी तक 48,69,640 डोज वैक्सीन की लगायी जा चुकी हैं. इनमें से 11,01,701 लोगों को दोनों डोज लग चुकी हैं.



दिल्ली में वैक्सीन की स्थिति की जानकारी देते हुए आतिशी ने कहा कि आज 20 मई की सुबह तक 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों, फ्रंटलाइन वर्कर और हेल्थ केयर वर्कर के लिए कुल 45,44,250 डोज मिली हैं. जिनमें से कल 19 मई तक 42,99,660 डोज लगाई जा चुकी है. अब 2,44,590 डोज हमारे पास बची हैं.

इसके अलावा 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए आज 50 हजार कोवीशील्ड की डोज भेजी गई है जो कि दिल्ली सरकार (Delhi Government) को आज शाम तक मिल जाएंगी. अभी हमारे पास 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए कोवैक्सीन का 2 दिन और कोवीसील्ड का 9 दिन का स्टॉक उपलब्ध है.

उन्होंने बताया कि 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए वॉक इन वैक्सीनेशन सेंटर शुरू कर दिए गए हैं. ऐसे लोग जिन्हें ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में दिक्कत हो रही है उनके लिए वॉकिंग वैक्सीनेशन की सुविधा उपलब्ध है. हमारा निवेदन है कि ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोग आकर वैक्सीनेशन करवाएं.

विधायक आतिशी ने कहा कि 18 से 44 वर्ष के युवाओं के लिए अभी तक कुल 8,17,690 डोज मिली हैं, जिसमें से कल तक 7,49,100 डोज लगायी जा चुकी हैं. ऐसे में आज सुबह तक हमारे पास 68,590 डोज उपलब्ध थी. अगर हम रोजाना के औसतन वैक्सीनेशन को देखें तो 18 से 44 वर्ष की श्रेणी में 50 हजार डोज तक रोजाना लगा रहे हैं.

इसलिए आज के वैक्सीनेशन के बाद 1 दिन से भी कम समय का कोवीशील्ड का स्टॉक बचेगा. जबकि कोवैक्सीन का स्टॉक 18 से 44 वर्ष के लिए हमारे पास 1 सप्ताह से खत्म है. अब कोवीशील्ड का भी एक दिन से भी कम स्टॉक उपलब्ध रहेगा.

उन्होंने बताया कि 18 से 44 वर्ष के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए 99 स्कूलों में 368 साइट पर चल रही हैं. इसमें से आधी यानी कि डेढ़ सौ से भी ज्यादा वैक्सीनेशन साइट्स कल से बंद हो जाएंगी. दिल्ली वालों के लिए बहुत चिंता का विषय है.

उन्होंने कहा कि बहुत सारे युवा 18 से 44 वर्ष के हैं और वैक्सीनेशन करवाना चाहते हैं क्योंकि दूसरी लहर में देखा गया कि बहुत बड़ी संख्या में युवा संक्रमित और अस्पतालों में भर्ती हुए हैं. काफी संख्या में युवा लोगों की मौत हुई हैं. इसलिए बहुत जरूरी है कि दिल्ली को जल्द से जल्द वैक्सीन का स्टॉक मिले. दिल्ली में 18 से 44 वर्ष के लिए वैक्सीन का स्टॉक तकरीबन खत्म हो चुका है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज