Home /News /delhi-ncr /

Omicron Variant के नए मामलों से च‍िंत‍ित केजरीवाल सरकार, कोरोना से न‍िपटने को हो रही ये बड़ी तैयार‍ियां

Omicron Variant के नए मामलों से च‍िंत‍ित केजरीवाल सरकार, कोरोना से न‍िपटने को हो रही ये बड़ी तैयार‍ियां

ओम‍िक्रॉन वेर‍िएंट के चलते तीसरी लहर की संभावना की वजह से द‍िल्‍ली सरकार इससे न‍िपटने के ल‍िए बड़ी तैयारि‍यां कर रही है.(प्रतीकात्मक तस्वीर: PTI)

ओम‍िक्रॉन वेर‍िएंट के चलते तीसरी लहर की संभावना की वजह से द‍िल्‍ली सरकार इससे न‍िपटने के ल‍िए बड़ी तैयारि‍यां कर रही है.(प्रतीकात्मक तस्वीर: PTI)

Omicron Variant cases increased: द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) का दावा है क‍ि वह कोरोना के क‍िसी भी नए स्‍ट्रेन से न‍िपटने के ल‍िए पूरी तरह से तैयार है. सरकार का मानना है क‍ि वह हर लेवल पर तैयार‍ियां कर रही है. कोरोना का प्रसार नहीं हो, इसको लेकर माइक्रो लेवल पर हर काम पर नजर रखी जा रही है. सरकार 64 हजार से ज्‍यादा ऑक्‍सीजन बेड्स की व्‍यवस्‍था कर रही है. 32 प्रकार की दवाओं के बफर स्‍टॉक के ऑर्डर द‍िए जा रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के आए नए वेर‍िएंट ओम‍िक्रॉन (Omicron Variant) के मामले अब द‍िल्‍ली में भी बढ़ने लगे हैं. द‍िल्‍ली में अब तक कुल छह मामले सामने आ चुके हैं. इसके बाद अब द‍िल्‍ली की च‍िंता भी बढ़ गई है. लेक‍िन द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) का दावा है क‍ि वह कोरोना के क‍िसी भी नए स्‍ट्रेन से न‍िपटने के ल‍िए पूरी तरह से तैयार है.

    सरकार का मानना है क‍ि वह हर लेवल पर तैयार‍ियां कर रही है. कोरोना का प्रसार नहीं हो, इसको लेकर माइक्रो लेवल पर हर काम पर नजर रखी जा रही है. सरकार 64 हजार से ज्‍यादा ऑक्‍सीजन बेड्स की व्‍यवस्‍था कर रही है. 32 प्रकार की दवाओं के बफर स्‍टॉक के ऑर्डर द‍िए जा रहे हैं.

    आध‍िकार‍िक सूत्रों के मुताब‍िक दिल्ली सरकार ने अब तक 30 हजार बेड तैयार कर लिए हैं. इसमें 10 हजार आईसीयू बेड (ICU Beds) शामिल हैं. साथ ही, फरवरी तक और 6800 आईसीयू बेड हो तैयार जाएंगे. वहीं, सरकार इस तरह की व्यवस्था भी कर रही है क‍ि ज‍िससे कि जरूरत पड़ने पर दो हफ्ते के नोटिस पर दिल्ली के हर वार्ड में 100-100 ऑक्सीजन बेड तैयार कर हो सकेंगे. ओम‍िक्रॉन वेर‍िएंट (Omicron Variant) के चलते तीसरी लहर की संभावना की वजह से सरकार इससे न‍िपटने के ल‍िए बड़ी संख्‍या में बेड्स फेस‍िल‍िटी तैयार कर रही है. इसके ल‍िए करीब 64 से 65 हजार बेड तैयार करने की तैयारी युद्धस्‍तर पर चल रही है.

    नए अस्‍पतालों में तैयार क‍िए जा रहे 7,000 आईसीयू बेड
    द‍िल्‍ली सरकार अस्‍पतालों में बेड्स की संख्या को बढ़ाने की हरसंभव कोश‍िश में जुटी हुई है. सरकार की ओर से जहां मौजूदा अस्‍पतालों में बेड्स बढ़ाए जा रहे हैं. वहीं नए अस्पतालों का न‍िर्माण भी क‍िया जा रहा है. केजरीवाल सरकार दिल्ली में 7 नए अस्पताल बना रही है ज‍िससे अस्‍पतालों में 6,836 आईसीयू बेड बढ़ जाएंगे. दिल्ली में आईसीयू बेड की क्षमता बढ़कर 17 हजार के पार पहुंच जाएगी.

    ये भी पढ़ें: ओमिक्रॉन के खतरे के बीच राज्यों ने जारी की गाइडलाइंस, जानें किस राज्य में क्या हैं नियम
    https://hindi.news18.com/news/nation/omicron-guidelines-in-india-delhi-mumbai-kerala-bihar-up-3901548.html

    मौजूदा सरकारी अस्‍पतालों में दस हजार आईसीयू बेड उपलब्‍ध
    द‍िल्‍ली सरकार की ओर से जो नए आईसीयू बेड बनाए जा रहे हैं वो सरिता विहार, शालीमार बाग, सुल्तानपुरी, किराड़ी, रघुबीर नगर, जीटीबी अस्पताल और चाचा नेहरू बाल चिकित्सालय में अस्पताल बनाए जा रहे हैं. दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में लगभग 10 हजार आईसीयू बेड हैं. नए 7,000 बेड बढ़ाए जाने के बाद आईसीयू बेड़ की क्षमता में लगभग 70 फीसदी का इजाफा होगा. शालीमार बाग में 1430 आईसीयू बेड़, किराड़ी में 458 आईसीयू बेड़, जीटीबी अस्पताल में 1912 आईसीयू बेड, रघुवीर नगर में 1565 आईसीयू बेड़, सीएनबीसी में 2.32 610 आईसीयू बेड और सुल्तानपुरी में 525 आईसीयू बेड का अस्पताल न‍िर्माणाधीन है. इन अस्पतालों में इमरजेंसी, ओपीडी, वार्ड सहित सभी सुविधाएं उपलब्‍ध होंगी.

    IGI Airport पर यात्रियों की जांच के लिए मोबाइल वैन
    दिल्ली सरकार कोरोना के नए वैरिएंट से दिल्ली के निवासियों को बचाने के लिए आईजीआई एयरपोर्ट पर जांच अभियान तेज क‍िए हुए हैं. एयरपोर्ट पर फ्लाइट से उतरने वाले यात्रियों की भारत सरकार के दिशा निर्देशानुसार जांच की जा रही है. यह सभी गत एक दिसंबर से लागू किए हुए हैं. इसके तहत यात्रियों की टेस्टिंग, आइसोलेशन और क्वारंटीन शामिल है. यात्रियों को टेस्ट रिपोर्ट लेने में असुविधा न हो और उन्हें जल्द रिपोर्ट देने के लिए मोबाइल वैन लगाई गई है जिससे यात्रियों को एयरपोर्ट पर अधिक देर तक रूकना न पड़े.

    ये भी पढ़ें: कोरोना से मौत को लेकर मीडिया कवरेज पर नहीं लगेगी रोक, तुरंत दें 50000 रुपये का मुआवजा: सुप्रीम कोर्ट

    ऑक्सीजन टैंक में लगाया जाएगा टेलीमेट्री डिवाइस
    सरकार ने ऑक्सीजन टैंकों में टेलीमेट्री उपकरण स्थापित करने के निर्देश दिए हैं, ताकि ऑक्सीजन की उपलब्धता का वास्तवित डेटा मिलता रहे. टैंक चाहे छोटा हो या बड़ा, सभी जगह टेलीमेट्री उपकरण लगाए जाएंगे. इस तरह के उपकरण लगाने से डैशबोर्ड पर ऑक्सीजन की रीयल टाइम डेटा उपलब्ध होगा. यह अधिकारियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत करने और ऑक्सीजन की स्थिति को ट्रैक करने में मदद करेगा.

    दिल्ली की ऑक्सीजन क्षमता में की जा रही बढ़ोत्‍तरी
    दिल्ली सरकार ने दिल्ली की ऑक्सीजन क्षमता में काफी इजाफा किया है. लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के मामले में दिल्ली में भंडारण क्षमता अब 790 मीट्रिक टन हो गई है. इसके अलावा, दिल्ली में 442 मीट्रिक टन का एलएमओ बफर रिजर्व भी स्थापित किया गया है. दिल्ली की पीएसए क्षमता को भी बढ़ाकर 121.37 मीट्रिक टन कर दिया गया है. चिकित्सा संस्थानों के पास ही ऑक्सीजन सिलेंडर की क्षमता 217 मीट्रिक टन तक कर दी गई है.

    इसके अतिरिक्त, आपातकालीन उपयोग के लिए 6,000 ‘डी’ टाइप के सिलेंडर रिजर्व में रखे गए हैं. पहले, दिल्ली में ऑक्सीजन रिफिलिंग क्षमता एक दिन में 1,500 सिलेंडर थी. अब इसकी क्षमता बढ़ाने के लिए 12.5 मीट्रिक टन की क्षमता के दो क्रॉयोजेनिक प्लांट स्थापित किए गए हैं. इनसे प्रतिदिन अतिरिक्त 1,400 जंबो सिलेंडर भरे जा सकेंगे.

    ये भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन ओमिक्रॉन वेरिएंट के खिलाफ कम प्रभावी, यहां पढ़ें देश और दुनिया की 10 बड़ी खबरें

    फ‍िलहाल 40 कोव‍िड मरीजों का हो रहा एलएनजेपी में इलाज
    द‍िल्‍ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का कहना है क‍ि विदेश से आने वाले यात्रियों में ओमिक्रॉन के चार नए मामले सामने और आ गए हैं. इसके बाद मामलों की कुल संख्‍या छह हो गई है. इन सभी मरीजों का इलाज एलएनजेपी अस्पताल में चल रहा है. इन छह मरीजों में से एक को छुट्टी दे दी गई है और बाकी की हालत स्थिर है. एलएनजेपी अस्पताल में फिलहाल 38 कोविड मरीज और 2 संदिग्ध मरीज भर्ती हैं.

    ओमिक्रॉन ही नहीं, किसी भी वेरिएंट से निपटने की तैयारी
    कोरोना को फैलने से रोकने की तैयारी के बारे में पूछे जाने पर स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि केवल ओमिक्रॉन ही नहीं, हम कोरोना के किसी भी वेरिएंट से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. इसके लिए 32 प्रकार की दवाएं हैं, जिन्हें हमने कोरोना से संक्रमित रोगियों के इलाज के लिए बफर स्टॉक के रूप में रखा है.

    उन्होंने कहा कि नए ओमिक्रॉन वेरिएंट के प्रसार को रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं. दिल्ली सरकार नए मामलों और ओमिक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित मरीजों के कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर पैनी नजर रखे हुए हैं.नए वेरिएंट के प्रसार रोकने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा रही है. दिल्ली के लोगों से कोरोना के नियमों का पालन करने और हर समय मास्क पहनने का आग्रह भी किया है.

    Tags: Delhi Government, Delhi Hospital, Delhi news, Health News, Omicron, Omicron variant

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर