दिल्‍ली में बचा कोवैक्‍सीन का सिर्फ दो दिन का स्‍टॉक, 18-44 को नहीं लगेगी वैक्‍सीन

दिल्‍ली में सिर्फ दो दिन की कोवैक्सीन बची है.  (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्‍ली में सिर्फ दो दिन की कोवैक्सीन बची है. (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्‍ली में फिलहाल 18 से 44 साल की उम्र वालों के लिए वैक्‍सीन नहीं हैं. ऐसे में इनके लिए मई पहले हफ्ते में खोले गए सभी वैक्सिनेशन सेंटरों को बंद कर दिया गया है. वहीं 45 से ऊपर वाले, हेल्‍थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए कोवैक्‍सीन का दो दिन का स्‍टॉक बचा है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. राजधानी में कोरोना वैक्‍सीन का संकट बढ़ता जा रहा है. दिल्‍ली में फिलहाल भारत बायोटेक की कोवैक्‍सीन (Covaxin) का सिर्फ दो दिन का स्‍टॉक बचा हुआ है. जबकि सीरम इंस्‍टीट्यूट की कोविशील्‍ड (Covishield) का 14 दिन का स्‍टॉक है. हालांकि यह स्‍टॉक सिर्फ हेल्‍थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वकर्स, 45 की उम्र पार कर चुके लोगों के लिए है.

दिल्‍ली में फिलहाल 18 से 44 साल की उम्र वालों के लिए वैक्‍सीन नहीं हैं. ऐसे में इनके लिए मई पहले हफ्ते में खोले गए सभी वैक्सिनेशन सेंटरों (Vaccination Centers) को बंद कर दिया गया है. दिल्‍ली कोविड वैक्सिनेशन बुलेटिन के अनुसार 30 मई को जारी आंकड़े बता रहे हैं कि दिल्‍ली में हेल्‍थकेयर (Healthcare) और फ्रंटलाइन वर्कर्स (Frontline Workers) के अलावा 45 से ऊपर वालों के लिए 495 लोकेशनों पर 717 वैक्सिनेशन सेंटर बनाए गए हैं. जिनकी क्षमता 88 हजार प्रति दिन है.

बता दें कि दिल्‍ली में 18 से 44 साल के लोगों के लिए तीन मई से टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू हुई थी. हालांकि वैक्‍सीन की कमी के बाद अब जून में लोगों को सिर्फ कोवैक्‍सीन की दूसरी डोज ही दी जाएगी. दिल्‍ली सरकार को जून में कोवैक्‍सीन की 91,960 कोवैक्‍सीन की डोज मिलने की उम्‍मीद है.

वहीं कोरोना के मामलों की बात करें तो आज फिर पिछले 24 घंटे में दिल्‍ली में एक हजार से कम मामले सामने आए हैं. दिल्‍ली में 68 दिन बाद सबसे कम मामले सामने आए हैं. वहीं इससे दोगुनी संख्‍या में लोग ठीक होकर घर लौटे हैं. यही वजह है कि सोमवार से अब लॉकडाउन में ढील दी जा रही है. हालांकि दिल्‍ली के बाजारों को अभी भी नहीं खोला जा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज