लाइव टीवी

JNU स्टूडेंट यूनियन इलेक्शन रिजल्ट्स पर कोर्ट ने लगाई 17 सितंबर तक रोक

News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 11:37 PM IST
JNU स्टूडेंट यूनियन इलेक्शन रिजल्ट्स पर कोर्ट ने लगाई 17 सितंबर तक रोक
याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया था कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ निर्वाचन समिति ने बिना कोई कारण बताये उनका पर्चा रद्द कर दिया है.

याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया था कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) छात्र संघ निर्वाचन समिति ने बिना कोई कारण बताये उनका पर्चा रद्द कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 6, 2019, 11:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने शुक्रवार को जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) को 17 सितंबर तक छात्र संघ चुनाव के परिणामों को अधिसूचित करने से रोक दिया है. विश्वविद्यालय के दो छात्रों ने अदालत में याचिका दायर कर आरोप लगाया था कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ में काउंसलर के चुनाव के लिए उनके पर्चे को अवैध तरीके से खारिज कर दिया गया है.

जज संजीव सचदेवा ने इस पर नोटिस जारी करते हुए जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से जवाब मांगा है. कोर्ट ने कहा कि तथ्यों और परिस्थितियों के मद्देनजर यह आदेश दिया जाता है कि अंतिम परिणामों की घोषणा इस अदालत के फैसले के बाद की जाएगी. इसके अलावा, विश्वविद्यालय को निर्देश दिया जाता है कि वह सुनवाई की अगली तारीख तक परिणामों को अधिसूचित न करे. परिणामों की घोषणा 17 सितंबर को होनी है.

याचिकाकर्ताओं का आरोप
अदालत में जेएनयू का प्रतिनिधित्व केंद्र सरकार की स्थायी अधिवक्ता मोनिका अरोड़ा कर रही थीं. याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया था कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ निर्वाचन समिति ने बिना कोई कारण बताये उनका पर्चा रद्द कर दिया है.

'JNU के नए प्रबंधन को शिक्षा के बारे में कुछ नहीं पता'
वहीं जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (Jawaharlal Nehru University) में जानी-मानी इतिहासकार रोमिला थापर (Romila Thapar) को लेकर हुए विवाद पर अब कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने अपना बयान दिया है. उन्होंने कहा कि जेएनयू के नए प्रबंधन को शिक्षा के बारे में कुछ पता नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि विश्वविद्यालय लोगों को प्रोफेसर एमिरिट्स का दर्जा देते हैं ताकि खुद का सम्मान कर सकें.

थरूर ने कहा, 'जब कोई प्रोफेसर सेवानिवृत्त होता है या सेवानिवृत्ति के लिए तय आयु तक पहुंचता है तो विश्वविद्यालय उस व्यक्ति के साथ अपना संबंध खत्म नहीं करना चाहता. ऐसे में ऐमिरट्स का दर्जा दिया जाता है.'ये भी पढ़ें:
Chandrayan 2: PM मोदी के साथ बैठकर ये छात्राएं देखेंगी चंद्रयान 2 की लैंडिंग

बड़बोले नेताओं पर सोनिया गांधी सख्त, कहा- PCC अध्यक्ष को लेकर न दें बयान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 11:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर