Home /News /delhi-ncr /

दिल्ली हाई कोर्ट ने अदालतों की सुरक्षा पर जताई चिंता, कहा- कोर्ट की फुलप्रूफ सुरक्षा जरूरी

दिल्ली हाई कोर्ट ने अदालतों की सुरक्षा पर जताई चिंता, कहा- कोर्ट की फुलप्रूफ सुरक्षा जरूरी

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि अदालतों की वाहन निगरानी प्रणाली में भी सुधार की जरूरत है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि अदालतों की वाहन निगरानी प्रणाली में भी सुधार की जरूरत है.

Rohini Court Shootout: दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि वाहन निगरानी प्रणाली में भी सुधार की जरूरत पर बल दिया है, चीफ जस्टिस ने कहा कि दिल्ली के सभी अदालत परिसरों में पर्याप्त संख्या में पुलिस कर्मियों की तैनाती करने की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

नई दिल्ली. दिल्ली के रोहिणी कोर्ट शूटआउट (Rohini Court Shootout) में कुख्यात गैंगस्टर जितेंद्र गोगी (Jitendra Gogi) की हत्या मामले को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने सख्त रुख अपनाया है. हाई कोर्ट ने अदालतों की सुरक्षा पर संज्ञान लिया है. हाई कोर्ट अब दिल्ली की अदालतों की सुरक्षा मामले में जल्द ही सुनवाई भी करने जा रहा है. 5 अक्टूबर तक रिकॉर्ड तलब किया है. दिल्ली हाई कोर्ट ने इससे पहले अदालतों की सुरक्षा को लेकर चिंता जाहिर की थी जिसके बाद इसे बेहद जरूरी बताते हुए कहा था कि इस तरह की घटनाओं का शिकार वकील होते हैं।

दिल्ली हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस ने कहा दिल्ली की सभी जिला अदालतों में सीसीटीवी और सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद करने की जरूरत है. रोहिणी कोर्ट शूटआउट मामले की सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ने कहा सभी अदालतों के इंट्री और एक्जिट दरवाजे पर फूल प्रूफ मेटल डिटेक्टर लगाने की भी जररूत है. दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा सुरक्षा के सभी पुख्ता इंतजाम को सुनिश्चित किया जाना जरूरी है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि वाहन निगरानी प्रणाली में भी सुधार की जरूरत पर बल दिया है, अदालतों में प्रतिनियुक्ति पर पुलिस कर्मियों को उचित प्रशिक्षण की भी आवश्यकता है. चीफ जस्टिस ने कहा कि दिल्ली के सभी अदालत परिसरों में पर्याप्त संख्या में पुलिस कर्मियों की तैनाती करने की जरूरत है.

चीफ जस्टिस ने कहा कि अदालतों में वकीलों की जांच के संबंध में हमेशा विरोध होता है इसलिए नहीं कि वे जांच नहीं करना चाहते, बल्कि इसलिए कि हर कोई जल्दी में रहता है. लेकिन इस दिशा में भी बदलाव की जरूरत है. दिल्ली हाई कोर्ट ने सभी सुझावों को 5 अक्टूबर तक रिकॉर्ड में लेने के लिए कहा है. कोर्ट ने कहा यह एक गंभीर मामला है और इस पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है.

बता दें कि 24 सितंबर को गोगी की हत्या जब रोहिणी कोर्ट में हुई थी तब हत्यारे वकीलों की वेशभूषा में कोर्ट के अंदर आए थे. जब गोगी को पेशी के लिए लाया गया था तब उन्होंने कई राउंड फायर करके गोगी को निशाने पर लेते हुए उसे कोर्ट रूम में ही मौत के घाट उतार दिया था. इसके बाद से अदालतों की सुरक्षा को लेकर सवाल उठाये जा रहे हैं.

Tags: Delhi Court, DELHI HIGH COURT, Delhi news update, Delhi police

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर