दिल्ली हाई कोर्ट ने दी निजामुद्दीन मरकज में नमाज की इजाजत, सरकार से पूछा- यहीं लिमिट क्यों?

चतुर्वेदी के अनुसार मां ने 4 मई 2019 को घटना की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. (सांकेतिक फोटो)

चतुर्वेदी के अनुसार मां ने 4 मई 2019 को घटना की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. (सांकेतिक फोटो)

निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz) के अंदर नमाज की अनुमति दे दी गई है. दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने सवाल किया कि जब किसी अन्य धार्मिक स्थल के लिए श्रद्धालुओं की संख्या तय नहीं की गई है तो सिर्फ मरकज के लिए ऐसा क्यों होगा?

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 5:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz) के अंदर नमाज की अनुमति दे दी गई है. दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने सवाल किया कि जब किसी अन्य धार्मिक स्थल के लिए श्रद्धालुओं की संख्या तय नहीं की गई है तो सिर्फ मरकज के लिए ऐसा क्यों होगा? कोर्ट ने साफ कहा कि अगर किसी और धार्मिक जगह पर लोगों के प्रवेश की संख्या पर कोई प्रतिबंध नहीं है तो वह मरकज में भी जाने वालों की संख्या सीमित नहीं कर सकता है. मरकज में अब रमजान के वक्त में पांच वक्त की नमाज अदा की जा सकेगी. बता दें कि दिल्ली हाई कोर्ट ने केंद्र और दिल्ली पुलिस की इस अपील खारिज कर दी जिसमें कहा गया था कि वेरिफाइड लोगों में से केवल 20 को एक बार में अंदर जाने दिया जाए.

इस मामले में सुनवाई करते हुए जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने मरकज में नमाज अदा करने की इजाजत दे दी. कोर्ट ने आदेश में कहा कि 14 अप्रैल से रमजान का महीना शुरू हो रहा है, इसलिए मरकज में 5 वक्त की नमाज की अनुमति दी जाती है. हालांकि, लोगों को दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) की गाइडलाइन का पालन करना होगा. कोर्ट के इस फैसले के बाद मरकज से जुड़े लोगों ने खुशी जाहिर की है.

Youtube Video


खुश हुए आप विधायक
दिल्ली वक्फ बोर्ड के चेयरमैन और आप विधायक अमानतुल्लाह खान ने कोर्ट के फैसले पर खुशी जताई. उन्होंने कोर्ट के फैसले के हवाले से कहा कि अब निजामुद्दीन मरकज का ताला खुलेगा और पहले की तरह पांचों वक्त की नमाज पढ़े जाएंगे. बता दें कि पिछले साल तबलीगी जमात के कार्यक्रम के बाद मरकज में कोरोना के कई मामले सामने आए थे. साथ ही इसपर कोरोना नियमों का उल्लंघन कर कार्यक्रम आयोजित करने के आरोप भी लगे थे. हो-हंगामे के बीच पिछले साल 31 मार्च से मरकज बंद पड़ा है. अब इसे फिर से खोला जा सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज