दिल्ली: झारखंड की कंपनी पर आयकर विभाग का छापा, करोड़ों की कर चोरी का खुलासा

सीबीडीटी की जांच में वास्तविक उत्पादन के विवरण का भी खुलासा हुआ जो खाते में दर्ज नहीं है. (सांकेतिक फोटो)

सीबीडीटी की जांच में वास्तविक उत्पादन के विवरण का भी खुलासा हुआ जो खाते में दर्ज नहीं है. (सांकेतिक फोटो)

बोर्ड (Board) ने कहा कि कंपनी के पास पेट्रोल पंपों की डीलरशिप भी है और तलाशी अभियान में चार करोड़ रुपये से अधिक की नकदी और आभूषण भी बरामद किए गए.

  • Share this:
नई दिल्ली. आयकर विभाग (Income Tax Department) ने ‘स्पॉन्ज आयरन’ (Sponge Iron) और लोहे की छड़ों का उत्पादन और विक्रय करने वाली झारखंड की कंपनी के परिसरों पर छापेमारी के बाद करोड़ों रुपये की कर चोरी का पता लगाया है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने सोमवार को यह जानकारी दी. सीबीडीटी ने बताया कि 17 मार्च से 20 मार्च तक चले अभियान में कंपनी के 20 परिसरों की तलाशी ली गई. बोर्ड ने कहा कि कंपनी के पास पेट्रोल पंपों की डीलरशिप भी है और तलाशी अभियान में चार करोड़ रुपये से अधिक की नकदी और आभूषण भी बरामद किए गए.

खुलासा हुआ जो खाते में दर्ज नहीं है

सीबीडीटी की ओर से एक वक्तव्य में कहा गया, “कंपनी द्वारा किया जा रहा उत्पादन और बिक्री खातों में दर्ज नहीं था और फर्जी कंपनियों के नेटवर्क के इस्तेमाल से बिना किसी स्रोत के आय अर्जित की जा रही थी.” वक्तव्य में कहा गया, “प्रारंभिक जांच में पता चला है कि 185 करोड़ रुपये का उत्पादन किया गया, जिसका कोई लेखाजोखा नहीं है.” सीबीडीटी की जांच में वास्तविक उत्पादन के विवरण का भी खुलासा हुआ जो खाते में दर्ज नहीं है.

सेल कंपनियों के माध्यम से समूह में वापस लाया जाता है
वक्तव्य में कहा गया, “इस कंपनी के उत्पाद (जैसे कि लोहा, स्टील इंगोट और छड़ें तथा टीएमटी छड़ें) निर्माण कार्य और अवसंरचनात्मक परियोजनाओं में इस्तेमाल किए जाते हैं और बिना किसी लेखाजोखा किया गया उत्पादन पूर्वी भारत में नकदी के बदले बेचा जाता है.” वक्तव्य में कहा गया, “इससे जो नकद आय होती है (लगभग सौ करोड़ रुपये) उसे शेयर पूंजी तथा कर्ज के रूप में और कोलकाता स्थित शेल कंपनियों के माध्यम से समूह में वापस लाया जाता है.”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज