दिल्ली में 100 साल पुरानी जर्जर इमारतों को लेकर MCD का एक्शन प्लान, जारी किए नोटिस
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्ली में 100 साल पुरानी जर्जर इमारतों को लेकर MCD का एक्शन प्लान, जारी किए नोटिस
दिल्ली में बारिश से मिंटो रोड पर जलजमाव के बाद ट्रैफिक पुलिस ने जारी की एडवाइजरी.

बारिश के सीजन में वॉटर लॉगिंग सड़कों पर गड्ढों की समस्या पर नॉर्थ एमसीडी के मेयर ने कहा कि एमसीडी ने अपने सभी छोटे नाले साफ करा दिए थे, लेकिन PWD के नाले साफ ना होने के कारण कई क्षेत्रों में वाटर लॉगिंग की समस्या है.

  • Share this:
दिल्ली. मॉनसून सीजन (Monsoon Season) गर्मी से राहत और लोगों के लिए खुशियां लेकर तो आता है, लेकिन कभी-कभी आफत की बारिश परेशानी का सबब बन जाती है. बारिश में जर्जर इमारतों के गिरने का सबसे ज्यादा खतरा रहता है. इसी को देखते हुए दिल्ली एमसीडी (MCD) ने अपना एक्शन प्लान तैयार करते हुए तमाम जर्जर बिल्डिंग (Buidling) को नोटिस जारी किया है.

पहले ही कर ली थी एमसीडी ने तैयारी
नॉर्थ एमसीडी की मेयर जयप्रकाश ने बताया कि पुरानी दिल्ली में कई घर और इमारतें ऐसी है, जो 100 साल पुरानी है कई इमारतें जर्जर है इसी को देखते हुए मॉनसून आने से पहले ऐसी इमारतों को नोटिस जारी किए गए, ताकि मॉनसून के सीजन में कोई बड़ा हादसा ना हो सके. उन्होंने बताया कि बारिश शुरु होने से पहले पुराने भवनों को चिन्हित कर लिया गया था.

ढाई सौ से 300 नोटिस किए गए जारी
नॉर्थ एमसीडी में जयप्रकाश ने बताया कि ढाई सौ से तीन नोटिस जारी किए गए हैं और जिन भवनों की या जिन इमारतों की हालत ज्यादा खराब थी, उन्हें खाली करने और रिपेयर कराने का आदेश दिया गया है. पुरानी दिल्ली के इलाके चांदनी चौक सदर बाजार जामा मस्जिद दरियागंज इलाकों में बारिश से पहले ही लोगों को पुरानी इमारतें सही कराने का निर्देश दे दिया गया था या जिनकी स्थिति खराब थी उन्हें खाली भी कराया गया है.



इमारतें गिराने की भी पड़ती है जरूरत
नॉर्थ एमसीडी मेयर ने बताया कि जर्जर इमारतों को कई बार गिराने की भी जरूरत पड़ती है, लेकिन उसमें देखना पड़ता है कि कभी वह हेरिटेज बिल्डिंग ना हो या फिर किसी तरीके की और कोई समस्या ना हो, उसका भी ध्यान रखना होता है. क्योंकि जिन इमारतों या भवनों की हालत बेहद ज्यादा खराब है और हादसा होने की आशंका है, उसको गिराना ही उसका समाधान है.

एमसीडी कराती है सर्वे
नॉर्थ एमसीडी मेयर जयप्रकाश ने बताया कि कोई भी एक्शन लेने से पहले एमसीडी पूरी तरीके से अलग-अलग इलाकों का इमारतों घरों और भवनों का सर्वे कराती है और जिस भवन घर या इमारत की जैसी जरूरत होती है. उस पर उसी तरीके का एक्शन लिया जाता है.

दिल्ली में तमाम सिविक एजेंसी करती है काम
बारिश के सीजन में वॉटर लॉगिंग सड़कों पर गड्ढों की समस्या पर नॉर्थ एमसीडी के मेयर ने कहा कि एमसीडी ने अपने सभी छोटे नाले साफ करा दिए थे, लेकिन PWD के नाले साफ ना होने के कारण कई क्षेत्रों में वाटर लॉगिंग की समस्या है. डिसिल्टिंग की तरीके से कई इलाकों में नहीं की गई और उन्होंने अरविंद केजरीवाल पर तंज कसते हुए कहा कि अरविंद जी ने तो खुद ही ट्वीट कर कर बता दिया कि मॉनसून से निपटने के लिए उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया और इसका बहाना बनाया कि वह कोरोना से निपटने में व्यस्त थे. एमसीडी ने अपनी तैयारी पूरी कर ली थी, लेकिन किस तरीके से दिल्ली में बारिश के कारण वाटर लॉगिंग टूटी सड़क के या गड्ढों की समस्या का सामना लोगों को करना पड़ रहा है, उसके पीछे कहीं ना कहीं दिल्ली सरकार की लापरवाही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading