Delhi-Meerut Expressway आज से शुरू, गाजियाबाद जाने वालों को भी देना होगा टोल

अगले सप्‍ताह से शुरू होगा टोल. (फाइल फोटो)

अगले सप्‍ताह से शुरू होगा टोल. (फाइल फोटो)

दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे (Delhi Meerut Expressway) पर 1 अप्रैल से वाहन दौड़ने शुरू हो जाएंगे. इससे दिल्‍ली से मेरठ, गाजियाबाद, लालकुआं, हापुड़ की ओर जाने वालों को राहत मिलेगी.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे (Delhi Meerut Expressway) पर 1 अप्रैल से वाहन दौड़ने शुरू हो जाएंगे. एक्‍सप्रेसवे के चालू होने के बाद दिल्‍ली से मेरठ (Meerut), गाजियाबाद (Ghaziabad) लालकुआं, हापुड़ की ओर आने-जाने वालों को राहत मिलेगी. अब लोग डेढ़ से दो घंटे के बजाए केवल 45 मिनट में दिल्‍ली आ-जा सकेंगे. इसके शुरू होने के साथ टोल (Toll) भी शुरू हो जाएगा. यानी अब निजामुद्दीन से एंट्री करते ही टोल लगेगा. भले ही आप यूपी गेट तक या गाजियाबाद तक ही जाएं, सभी को टोल देना होगा. एनएचएआई (NHAI) के अधिकारियों के अनुसार टोल कितना लगेगा, इसका फैसला इसी सप्‍ताह हो जाएगा.

एनएचएआई के एडवाइजर वैभव डांगे ने बताया कि‍ दिल्‍ली से मेरठ तक एक्‍सप्रेसवे की कुल लंबाई करीब 60 किमी. है. शुरू होने के बाद लोगों का समय बचेगा, साथ ही प्रदूषण भी कम हो सकेगा. टोल चार्ज वसूलने के लिए कहीं भी बूथ नहीं बनाए गए हैं. टोल फास्‍टैग से वसूला जाएगा. इसके लिए सभी एंट्री और एग्जिट प्‍वाइंट पर कैमरे लगाए गए हैं. कैमरे नंबर प्‍लेट को स्‍कैन करेंगे, जो फास्‍टैग से लिंक होगा. इस तरह फास्‍टैग से टोल कटता रहेगा. जिन वाहनों पर फास्‍टैग नहीं लगा होगा, उनका नंबर स्‍कैन होने के बाद देशभर के एनएचएआई के सभी टोल प्‍लाजा में दे दिया जाएगा, जिससे भविष्‍य में जब वो गाड़ी किसी भी टोल से निकलेगी तो उससे बकाया टोल का दोगुना वूसला जाएगा.

वैभव डांगे ने बताया कि देश में पहली बार कैमरे की मदद से टोल वसूलने की शुरुआत हुई है. नई  व्‍यवस्‍था के सफल होने के बाद अन्‍य एक्‍सप्रेसवे पर यही व्‍यवस्‍था लागू की जाएगी. दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे और एनएच-24 का काम 2016 में चार चरणों में शुरू हुआ था.  हालांकि, एबीईएस कट से लालकुआं के बीच करीब 700 मीटर का हिस्से में रेलवे का आरओबी बन रहा है, ऐसे में यह तैयार नहीं हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज