Home /News /delhi-ncr /

COVID-19: दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने जमातियों को एक महीने से क्वारंटाइन करने पर जताई चिंता

COVID-19: दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने जमातियों को एक महीने से क्वारंटाइन करने पर जताई चिंता

मरकज के जमातियों को पिछले एक महीने से क्वारांटाइन करने पर अल्पसंख्यक आयोग ने चिंता जताई है. (फाइल फोटो)

मरकज के जमातियों को पिछले एक महीने से क्वारांटाइन करने पर अल्पसंख्यक आयोग ने चिंता जताई है. (फाइल फोटो)

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग (Delhi Minorities Commission) के चेयरमैन जफरूल इस्लाम खान ने कहा है कि निजामुद्दीन मरकज से लाए गए कई जमाती 28 दिनों से क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए हैं, जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक क्वारंटाइन सिर्फ 14 दिनों का होता है

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. निजामुद्दीन मरकज के जमातियों को पिछले एक महीने से क्वारंटाइन करने पर अल्पसंख्यक आयोग (Delhi Minorities Commission) ने चिंता जताई है. अल्पसंख्यक आयोग ने नेगेटिव (COVID-19) पाए गए लोगों को छोड़ने के लिए दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) को पत्र लिखा है. आयोग के चेयरमैन जफरूल इस्लाम खान ने कहा है कि निजामुद्दीन मरकज से लाए गए कई जमाती 28 दिनों से क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए हैं, जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक क्वारंटाइन सिर्फ 14 दिनों का होता है. अगर ये लोग नेगेटिव पाए गए हैं तो उन्हें अपने घर जाने की इजाजत मिलनी चाहिए या दिल्ली में ही कहीं रहने का इंतजाम होना चाहिए.

    जमातियों को लेकर अल्पसंख्यक आयोग चिंतित
    आयोग ने कहा है कि रमजान के महीने में इन लोगों को काफी दिक्कतें हो रही हैं, क्योंकि इन सेंटर्स में खाने-पीने की सही व्यवस्था नहीं है. आयोग ने खास तौर पर वजीराबाद सेंटर का जिक्र किया जहां नहाने के लिए बाल्टी और मग भी नहीं है. इससे पहले सुल्तानपुरी सेंटर में दो लोगों को खाना और दवा नहीं मिलने से मौत होने का भी आरोप है.

    बता दें कि पिछले महीने दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज में तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के सैकड़ों सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. देश के अलग-अलग हिस्सों में इनसे कई लोगों में कोरोना फैला, लेकिन अब कोरोना से ठीक होने बाद भी इन लोगों को दिल्ली सरकार ने क्वारंटाइन सेंटर्स में ही रखा है. इसको लेकर अल्पसंख्यक आयोग ने चिंता जाहिर की है.

    मौलना साद अब भी फरार
    पिछले दिनों निजामुद्दीन मरकज में इकट्ठे हुए तबलीगी जमात के लोगों का देश भर में फैल जाना कोरोना के संक्रमण के तेजी से फैल जाने की बड़ी वजह थी. जमात के लोगों को एक जगह पर बुलाने वाले प्रमुख मौलाना साद अब भी दिल्ली पुलिस की जांच से भाग रहा है. दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद पर कई मामलों में केस दर्ज कर रखा है, लेकिन वो लगातार छिप रहा है. हाल ही में मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद को लेकर बड़ा खुलासा किया है. क्राइम ब्रांच के अधिकारियों के अनुसार इस आयोजन से पहले साद के दिल्ली स्थित एक बैंक अकाउंट में अचानक विदेशों से चंदे के नाम पर काफी रुपये जमा हुए थे.

    इस मामले में पुलिस ने मौलाना साद के चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) को बुला कर उससे भी पूछताछ की थी और मौलाना से मिलने की बात कही थी, लेकिन सीए ने कहा था कि मौलाना बड़े आदमी हैं और वो ऐसे किसी से नहीं मिलते. क्राइम ब्रांच को अब मरकज के ट्रांजैक्‍शन (लेन-देन) पर शक है और वो इसका हवाला कनेक्‍शन तलाशने में जुटी हुई है.

    (इनपुट- ऐहतशाम खान)

    ये भी पढ़ें: 

    मौलाना साद के अकाउंट आने लगा था बड़ा विदेशी चंदा, अब मरकज का हवाला कनेक्‍शन खंगाल रही क्राइम ब्रांच

    Tags: Corona epidemic, Delhi Government, Markaz, Minority Commission, Satyendra jain, Tabligi Jamat

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर