दिल्ली : कोरोना संक्रमण की नई लहर की चपेट में आ रहे हैं ज्यादातर कामकाजी युवा

महाराष्ट्र में कोरोना केस में थोड़ी गिरावट आई है लेकिन दिल्ली में 11 हजार से ज्यादा नए केस (फोटो साभार-AP)

महाराष्ट्र में कोरोना केस में थोड़ी गिरावट आई है लेकिन दिल्ली में 11 हजार से ज्यादा नए केस (फोटो साभार-AP)

विशेषज्ञों का मानना है कि राष्ट्रीय राजधानी में महामारी की नई लहर की चपेट में आने वालों में बड़ी संख्या 30 से 50 साल की उम्र के वैसे लोग हैं जो काम पर जाते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश भर में कोरोना वायरस संक्रमण (coronavirus infection) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और विशेषज्ञों का मानना है कि राष्ट्रीय राजधानी में महामारी की नई लहर की चपेट में आने वालों में बड़ी संख्या 30 से 50 साल की उम्र के वैसे लोग हैं जो काम पर जाते हैं. देश में संक्रमण की दूसरी लहर चल रही है, लेकिन दिल्ली में कोरोना महामारी (Corona epidemic) की यह चौथी लहर है, जिसमें संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

इस वर्ष ज्यादा संक्रमण

कुछ चिकित्सकों का मानना है कि पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष ज्यादा संख्या में लोगों के संक्रमित होने का कारण यह हो सकता है कि ‘वायरस उत्परिवर्तित’ (म्यूटेट) हो गया है और अब इसका स्वरूप पहले के मुकाबले ज्यादा प्रबल है. अपोलो अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक सुरंजीत चटर्जी कहते हैं ‘युवा पीढ़ी काम के लिए घर से बाहर निकलती है, सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करती है, इसलिए उनके दूसरों के संपर्क में आने की संभावना ज्यादा है. बहुत से लोग अब भी मास्क नहीं लगा रहे हैं या सामाजिक दूरी के नियम का पालन नहीं कर रहे हैं, जिसके कारण संक्रमण के मामले बढ़े हैं.’ उन्होंने यह भी कहा कि संक्रमण से मौत के मामले दिल्ली में पिछले वर्ष जून, सितंबर और नवंबर की तुलना में अब भी कम हैं.

चौथी लहर, युवाओं के लिए कहर
तमाम एहतियात बरतने के बावजूद चटर्जी खुद संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. उन्होंने बताया कि 40 से 50 वर्ष की आयु वाले चिकित्सक और अन्य स्वास्थ्यकर्मी भी संक्रमण की इस लहर की चपेट में आ रहे हैं, जबकि इनमें से अधिकतर ने कोविडरोधी टीके की दोनों खुराक ली हैं. सर गंगा राम अस्पताल के सूत्रों ने बृहस्पतिवार को बताया कि अस्पताल के 37 चिकित्सक संक्रमित हो चुके हैं, जिनमें से 5 को अस्पताल में भर्ती कराया गया. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने हाल ही में कहा था कि ऐसा प्रतीत होता है कि यहां संक्रमण की चौथी लहर में युवा ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं.

संक्रमण दर पहुंची 8.1 पर

गौरतलब है कि दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 7,437 नए मामले सामने आए, जो इस साल का सबसे बड़ा दैनिक आंकड़ा है. जबकि संक्रमण के कारण 24 और लोगों की मौत हो गई, जिससे राष्ट्रीय राजधानी में मृतकों की संख्या बढ़कर 11,157 हो गई. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, संक्रमण दर भी पिछले दिन के 6.1 प्रतिशत से बढ़कर 8.1 प्रतिशत हो गई, क्योंकि पिछले कुछ हफ्तों में मामलों में काफी वृद्धि हुई है.



सख्ती जारी

सरकार ने संक्रमण के मामलों को बढ़ने से रोकने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में मंगलवार को रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक के लिए कर्फ्यू लगा दिया, जो 30 अप्रैल तक जारी रहेगा. दिल्ली में अब तक संक्रमण का ब्रिटेन, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका का स्वरूप मिल चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज