Home /News /delhi-ncr /

delhi mundka fire 3 mcd officers suspended chief vigilance officer will investigate the all matter nodvm

Delhi Mundka Fire: एमसीडी के तीन अफसर सस्पेंड, चीफ विजिलेंस अफसर करेंगे मामले की जांच

दिल्ली मुंडका अग्निकांड मामले में एमसीडी के तीन अफसर को सस्पेंड कर दिया गया है. अब इस पूरे प्रकरण की जांच चीफ विजिलेंस अफसर करेंगे.

दिल्ली मुंडका अग्निकांड मामले में एमसीडी के तीन अफसर को सस्पेंड कर दिया गया है. अब इस पूरे प्रकरण की जांच चीफ विजिलेंस अफसर करेंगे.

Delhi Mundka Fire News: दिल्ली मुंडका अग्निकांड मामले में एमसीडी के तीन अफसर को सस्पेंड कर दिया गया है. अब इस पूरे प्रकरण की जांच चीफ विजिलेंस अफसर करेंगे. बता दें कि शुक्रवार शाम द‍िल्‍ली के मुंडका इलाके में स्थित बिल्डिंग में भीषण आग लग गई थी. इस हादसे में 27 लोगों की जान चली गई थी. आग लगने के बाद जांच में सामने आया था कि यह इमारत सुरक्षा मानकों को पूरा नहीं कर रही थी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. मुंडका अग्निकांड मामले में एमसीडी के तीन अफसरों को सस्पेंड कर दिया गया है. अब इस पूरे प्रकरण की जांच चीफ विजिलेंस अफसर करेंगे. बता दें कि शुक्रवार शाम द‍िल्‍ली के मुंडका इलाके में स्थित बिल्डिंग में भीषण आग लग गई थी. इस हादसे में 27 लोगों की जान चली गई थी. आग लगने के बाद जांच में सामने आया था कि यह इमारत सुरक्षा मानकों को पूरा नहीं कर रही थी.

सस्पेंड होने वाले में निगम के लाइसेसिंग इंस्पेक्टर संदीप कौशिक, सेक्शन ऑफिसर (जर्नल ब्रांच) एसके शर्मा और संपत्ति कर के सेक्शन ऑफिसर बीआर मीणा शामिल हैं. इस पूरे अग्‍न‍िकांड की जांच का ज‍िम्‍मा नरेला जोन के एड‍िशनल कम‍िश्‍नर को सौंपा गया था. उन्होंने इसकी रिपोर्ट 48 घंटे में देने के लिए कहा था. ऐसे में आज एडिशनल कम‍िश्‍नर जांच र‍िपोर्ट सौंपेंगे. ऐसे में क्षेत्रीय उपायुक्त ने रिपोर्ट अतिरिक्त आयुक्त को भेज दी है.

पीड़ितों को सता रही है अपने भविष्य की चिंता
इस अग्निकांड में कई परिवारों ने अपने प्रियजनों को खो दिया. वहीं जो इस घटना में बच गए उनमें से ज्यादातर लोगों के सामने अपनी आजीविका और भविष्य को लेकर चिंता सता रही है. इस हादसे के दौरान जब लोग अपनी जान बचाने के लिए इधर उधर भाग रहे थे तब कुछ ऐसे लोग भी थे जो संकट की घड़ी में अपनी जान की परवाह न करते हुए लोगों की निस्वार्थ भावना से मदद की. इस हादसे में बचे लोगों में से एक 45 वर्षीय ममता ने कहा, ‘‘यह मेरे दिमाग में लगातार चल रहे एक वीडियो की तरह है और मैं अभी भी मदद के लिए चिल्लाने वाले लोगों की आवाज सुन सकती हूं.’’

उन्होंने कहा कि हालांकि अभी उसके पास शोक में डूबने का समय नहीं है, क्योंकि उसके मन में एक और चिंता है कि वह अपने नौ लोगों के परिवार के लिए भोजन का प्रबंध कैसे करेगी जो उस पर ही निर्भर है. इस हादसे में ममता के हाथ जल गए और पैर में चोटें आईं और उन्हें ठीक होने तक आराम करने के लिए कहा गया है.

पति दिव्यांग और पांच बेटियां हैं परिवार में
मुंडका के निकट मुबारकपुर के प्रवेश नगर में रहने वाली ममता ने कहा कि उस दिन जो कुछ भी हुआ, उसे वह जीवनभर नहीं भुला सकती. हालांकि, उसकी सबसे बड़ी चिंता अपने भूखे बच्चों को खाना खिलाने की है. उन्होंने कहा, ‘‘मेरे पति दिव्यांग हैं. मेरे पांच बेटियों सहित सात बच्चे हैं. मेरे बेटे काम के साथ-साथ पढ़ाई भी करते हैं. वे दिहाड़ी मजदूर हैं और ज्यादातर समय उनके पास कोई काम नहीं होता है.’’

Tags: Delhi Fire, Delhi MCD

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर