Assembly Banner 2021

Delhi Weather Update: झमाझम बारिश से भ‍ीगेगा दिल्‍ली-NCR, ओले पड़ने से लगेगी गर्मी पर लगाम!

जल्‍द ही दिल्‍ली के कई हिस्‍सों में बारिश की संभावना जताई गई है. फाइल फोटो

जल्‍द ही दिल्‍ली के कई हिस्‍सों में बारिश की संभावना जताई गई है. फाइल फोटो

Weather Updates: इस महीने पिछले दो स्‍पेल से ज्‍यादा प्रभावी स्पेल 21 और 23 मार्च के बीच दिखाई दे सकता है. महीने की दूसरी ओलावृष्टि भी इसी दौरान हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2021, 10:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. उत्तर भारत के हिमालयी राज्यों में बन रहे पश्चिमी विक्षोभ का असर पहाड़ों के साथ-साथ मैदानी इलाकों में भी देखने को मिल रहा है. बीते 12 फरवरी को हुई बारिश के बाद एक बार फिर दिल्‍ली-एनसीआर में झमाझम बारिश होने का अनुमान है. मार्च के तीसरे हफ्ते में होने वाली बारिश संभावित तौर पर पिछली बार के मुकाबले ज्यादा तेज हो सकती है. मौसम विज्ञानियों के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 17 से 19 मार्च के बीच गरज-चमक के साथ बारिश होने की पूरी संभावना है. इससे पहले दिल्ली और एनसीआर के अधिकांश हिस्सों में 9 मार्च को लंबे समय से जारी शुष्क मौसम पर ब्रेक लगा था और कई जगहों पर गरज के साथ बारिश हुई थी. दूसरे स्‍पेल में 11 और 12 मार्च को मौसम बदला और कुछ स्थानों पर मध्यम बारिश हुई तो कहीं-कहीं ओलावृष्टि दर्ज की गई.

वरिष्‍ठ मौसम विज्ञानी महेश पालावत बताते हैं कि उत्तर भारत के पहाड़ों पर एक के बाद एक पश्चिमी विक्षोभ की स्थिति बन रही है, जिससे पहाड़ों के साथ-साथ मैदानों में भी मौसम सक्रिय रहेगा. इस महीने पिछले दो स्‍पेल से ज्‍यादा प्रभावी स्पेल 21 और 23 मार्च के बीच दिखाई दे सकता है. महीने की दूसरी ओलावृष्टि भी इसी दौरान हो सकती है. आशंका है कि 22 और 23 मार्च को बारिश के साथ-साथ कुछ हिस्सों में ओले भी गिरेंगे.

हालांकि बारिश से पहले राजधानी दिल्ली और आसपास के शहरों में दिन और रात के तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होगी. लेकिन, अगले सप्ताह संभावित बारिश के साथ कुछ हिस्सों में ओलावृष्टि होने से तापमान में गिरावट आ सकती है, जिससे बढ़ती गर्मी पर लगाम देखने को मिल सकता है.

पालावत के मुताबिक उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ और मैदानी भागों खासकर राजस्थान पर चक्रवाती सिस्टम के कारण 18 और 19 मार्च को बादलों की गर्जना हो सकती है. इसके दो दिन बाद आने वाले विक्षोभ ज्यादा प्रभावी होंगे, जिससे 21 से 23 मार्च के बीच व्यापक गतिविधियां देखने को मिल सकती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज