Home /News /delhi-ncr /

Pollution in Delhi: दिल्ली में गंभीर श्रेणी में प्रदूषण का स्तर, गाजियाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर

Pollution in Delhi: दिल्ली में गंभीर श्रेणी में प्रदूषण का स्तर, गाजियाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर

दिल्ली में मौसम का हाल-कोहरा छाने का अनुमान. प्रदूषण का स्तर भी लगातार बढ़ रहा है. (FILE PHOTO)

दिल्ली में मौसम का हाल-कोहरा छाने का अनुमान. प्रदूषण का स्तर भी लगातार बढ़ रहा है. (FILE PHOTO)

Air Quality in Delhi: बीते वर्ष 30 अक्तूबर से एक नवंबर के बीच सबसे अधिक पराली जलने की घटनाएं रिकॉर्ड की गई थीं. इस वर्ष पराली जलाने की घटनाओं में अधिक तेजी देखी गई है.20 अक्तूबर से 11 नवंबर के बीच सबसे अधिक पराली जलने की घटनाएं रिकॉर्ड की गई है. गुरुवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 411 रहा. इससे एक दिन पहले यह 372 रहा था. वहीं, एनसीआर में गुरुग्राम को छोड़कर सभी शहर गंभीर श्रेणी में दर्ज किए गए हैं. दिनभर सड़कों पर स्मॉग की मोटी परत छाई रही और दृश्यता का स्तर कम रहा.

अधिक पढ़ें ...

    दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) के पड़ोसी राज्यों में पराली जलने (Stubble Burning) की घटनाएं नहीं थम रही हैं. वहीं, छठ महापर्व के दौरान भी दिल्ली-एनसीआर में जमकर आतिशाबाजी हुई. इसका नतीजा यह है कि गुरुवार को दिल्ली में प्रदूषण (Delhi Pollution) गंभीर श्रेणी में पहुंच गया है और दिनभर सड़कों पर स्मॉग (Smog) की मोटी परत छाई रही और दृश्यता का स्तर कम रहा.

    सफर के मुताबिक, बीते 24 घंटे में पड़ोसी राज्यों में 3,914 पराली जलने की घटनाएं दर्ज की गई हैं और दिल्ली के प्रदूषण में इसकी 26 फीसदी हिस्सेदारी रही है. हवा की रफ्तार कम होने व उत्तर-पश्चिम दिशा से आने वाली हवाओं के कारण दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण बढ़ रहा है.

    मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, स्थानीय स्तर पर चलने वाली हवाएं 5.5 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही हैं, लेकिन, बृहस्पतिवार की रात से इनकी रफ्तार में कमी होगी और यह अधिक शांत हो जाएगी. इससे दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में बढ़ेगा. 13 नवंबर से प्रदूषण से हल्की राहत मिलने के आसार हैं. हालांकि, तब भी हवा बहुत खराब श्रेणी के उच्चतम स्तर में दर्ज की जाएगी. बीते 24 घंटे में हवा में पीएम 10 का स्तर 387 व पीएम 2.5 का स्तर 237 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रहा. दोनों प्रदूषक बहुत खराब श्रेणी में दर्ज किए गए हैं.
    लगातार दूसरे दिन गाजियाबाद का देश का सबसे प्रदूषित शहर
    केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, गुरुवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 411 रहा. इससे एक दिन पहले यह 372 रहा था. वहीं, एनसीआर में गुरुग्राम को छोड़कर सभी शहर गंभीर श्रेणी में दर्ज किए गए हैं. दिवाली के बाद से सबसे खराब हालात गाजियाबाद के बने हुए हैं. बीते 24 घंटे में यहां का एक्यूआई 461 रिकॉर्ड किया गया है. लगातार दूसरे दिन गाजियाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर रहा है. इसके बाद सबसे गंभीर हालात उत्तरप्रदेश के वृंदावन के रहे. यहां का एक्यूआई 458 रहा.
    पिछले के मुकाबले इस वर्ष अधिक जल रही है पराली
    पड़ोसी राज्यों में लगातार पराली जलने की घटनाएं रिकॉर्ड हो रही हैं। यही नहीं पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष अक्तूबर से लेकर 11 नवंबर तक अधिक पराली जलने की घटनाएं रिकॉर्ड की गई हैं. पड़ोसी राज्यों से आने वाला पराली का जहरीला धुआं दिल्ली-एनसीआर की हवा को और दमघोंटू बना रहा है. इससे लोगों की सांसों पर संकट खड़ा हो गया है. 20 अक्तूबर से 11 नवंबर के बीच सबसे अधिक पराली जलने की घटनाएं रिकॉर्ड की गई है. बीते वर्ष जहां 30 अक्तूबर तक अधिकतम तीन हजार पराली जलने की घटनाएं रिकॉर्ड हुई थीं. इस वर्ष अक्तूबर में पराली जलने की घटनाएं चार हजार के करीब पहुंच गईं. एक से तीन नवंबर के बीच 3937 घटनाएं रिकॉर्ड हुई हैं.
    48 फीसदी रही पराली के धुएं की हिस्सेदारी
    इस वर्ष पराली के धुएं की प्रदूषण में अधिकतम 48 फीसदी हिस्सेदारी रही है. पिछले वर्ष अधिकतम करीब 42 फीसदी तक पराली का धुआं प्रदूषण के लिए जिम्मेदार रहा था. बीते वर्ष 30 अक्तूबर से एक नवंबर के बीच सबसे अधिक पराली जलने की घटनाएं रिकॉर्ड की गई थीं. इस वर्ष पराली जलाने की घटनाओं में अधिक तेजी देखी गई है.

    Tags: Aiims delhi, Air pollution delhi, Himachal pradesh

    अगली ख़बर