होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /बिहार-MP में अवैध AK 47 हथियारों की बरामदगी से जुड़े मामले में NIA ने दायर की चार्जशीट

बिहार-MP में अवैध AK 47 हथियारों की बरामदगी से जुड़े मामले में NIA ने दायर की चार्जशीट

NIA की जांच में अवैध हथियारों की तस्करी का पर्दाफाश हुआ है (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

NIA की जांच में अवैध हथियारों की तस्करी का पर्दाफाश हुआ है (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

अवैध हथियारों की तस्करी (Arms Trafficking) का यह मामला बिहार (Bihar) के मुंगेर से जुड़ा हुआ है. एनआईए (NIA) के एक अधिकार ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए (NIA) ने हथियारों की तस्करी में शामिल एक गैंग के खिलाफ कार्रवाई करते हुए कोर्ट में पूरक आरोपपत्र (Supplementary Charge-Sheet) दायर किया है. अवैध हथियारों की तस्करी (Arms Trafficking) का यह मामला बिहार (Bihar) के मुंगेर से जुड़ा हुआ है. एनआईए के एक अधिकारी के मुताबिक कोर्ट में दायर यह पूरक आरोपपत्र आरोपी राजीव कुमार सिंह उर्फ चुन्नू सिंह से जुड़ा हुआ है. राजीव कुमार सिंह बिहार के गया जिला के अत्री इलाके का निवासी है. पटना स्थित एनआईए की विशेष कोर्ट में यह पूरक आरोपपत्र दायर किया गया है.

एनआईए की टीम को अवैध हथियारों की तस्करी करने वाले गैंग के बारे में कई महत्वपूर्ण जानकारी मिली थी, जिसमें मुंगेर से जुड़े मामले को एनआईए की टीम ने वर्ष 2012 से 2018 के दौरान अवैध हथियारों की चोरी और उसकी बिक्री से जुड़े कनेक्शन मामले में एक मामला दर्ज किया था. इसकी तफ्तीश के दौरान कई इनपुट मिलते चले गए उसके बाद करीब 26 आरोपियों के खिलाफ नामजद मामला दर्ज किया गया.

दरअसल मुंगेर जिले में तीन AK 47 राइफल मिलने के बाद इससे जुड़े मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी तफ्तीश का जिम्मा एनआईए को सौंपा गया था. इस केस में पहले भी आरोपपत्र दायर हो चुके हैं. हाल में ही एनआईए द्वारा मुर्शिद उर्फ सूरमा नाम के आरोपी के खिलाफ एक आरोपपत्र दायर किया गया था. इसी आरोपपत्र में शमशेर आलम, रिजवाना बेगम के बारे में भी जिक्र था. रिजवाना बेगम वही आरोपी महिला है जिसके घर से यह तीनों AK 47 हथियारों को बरामद किया गया था. इस मामले में मुंगेर के पास जमालपुर स्थित हथियारों से जुड़े सरकारी कारखाने और मध्य प्रदेश से जुड़ा कनेक्शन तफ्तीश करने वाली टीम के सामने आया था.

नक्सलियों और अपराधियों ने मुंगेर से खरीदा था AK 47 राइफल

तफ्तीश करने वाले अधिकारी के मुताबिक इस गैंग का कनेक्शन मध्य प्रदेश के जबलपुर स्थित केंद्रीय आयुध डिपो (Central Ordinance Depot) से करीब 22 AK 47 हथियारों को साजिश के तहत चोरी किया गया था. हालांकि इसी केंद्रीय आयुध डिपो से कुछ वर्षों के दौरान 76 से ज्यादा AK 47 हथियार और 13 अन्य हथियारों से संबंधित चोरी का मामला उस वक्त सामने आया था जिसे स्थानीय अपराधियों और नक्सलियों को बेचने की योजना भी बनाई गई थी. एनआईए की टीम को आरोपी रिजवाना बेगम के भाई शमशेर आलम से पूछताछ के दौरान काफी महत्वपूर्ण जानकारियां और इनपुट मिले जिस पर आज भी तफ्तीश की जा रही है.

इस मामले में जबलपुर से चोरी की गई 22 AK 47 राइफलों को पुलिस द्वारा बरामद कर लिया गया है. जबकि चोरी गए शेष हथियारों की तलाश अभी भी जारी है. इसके साथ ही एनआईए इस मामले में नक्सलियों के साथ हथियार तस्करों के कनेक्शन और उन्हें बेचे गए हथियारों के बिहार और झारखंड में कनेक्शन को खंगालने में जुटी हुई.

Tags: AK 47, Arms Smuggling, Chargesheet, Munger district, NIA, Ordnance Factory

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें