Home /News /delhi-ncr /

Covid-19: रोहिणी हॉस्पिटल के सुरक्षाकर्मी-हाउसकिपिंग स्टाफ के पास नहीं है बचाव का रास्ता

Covid-19: रोहिणी हॉस्पिटल के सुरक्षाकर्मी-हाउसकिपिंग स्टाफ के पास नहीं है बचाव का रास्ता

कोरोना से बचाव के लिए उनके पास किसी भी तरह का सुराक्षात्मक उपाय नहीं है.

कोरोना से बचाव के लिए उनके पास किसी भी तरह का सुराक्षात्मक उपाय नहीं है.

दिल्ली (Delhi) के रोहिणी (Rohini) के बाबा साहब अंबेडकर हॉस्पिटल (Baba Saheb Ambedkar Hospital) के सुरक्षा कर्मी और वहां काम करने वाले कर्मचारी अभी काफी परेशान लग रहे हैं. उनकी चिंता बढ़ने का कारण यहां काम करने वाले 5 लोगों का कोरोना वायरस से संक्रमित होना है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) के रोहिणी (Rohini) के बाबा साहब अंबेडकर हॉस्पिटल (Baba Saheb Ambedkar Hospital) के सुरक्षाकर्मी और वहां काम करने वाले हाउसकिपिंग स्टाफ अभी काफी परेशान लग रहे हैं. उनकी चिंता बढ़ने का कारण यहां के 5 लोगों का कोरोना वायरस से संक्रमित मिलना है. द टाइम्स ऑफ इंडिया से मंगलवार को बातचीत में एक गार्ड ने बताया कि वे यहां पिछले तीन महीनों से बिना किसी सैलरी के काम कर रहे हैं और कोरोना संकट के दौरान इससे बचाव के लिए उनके पास किसी भी तरह का सुराक्षात्मक उपाय नहीं है. एक अन्य गार्ड ने बताया कि हमारे पास ग्लब्स और सूट भी नहीं है, जिसे पहनकर हम अपनी सुरक्षा कर सके. सुरक्षात्मक उपकरणों की मांग को लेकर प्रदर्शन करते मंगलवार को यहां का एक वीडियो वायरल हुआ है.

    मास्क के लिए डॉक्टर से लगानी पड़ी गुहार
    कोरोना संक्रमित मिली एक महिला गार्ड ने बताया कि डॉक्टरों से गुहार लगाने के बाद उसे मास्क मिला. महिला गार्ड का आरोप है कि हॉस्पिटल प्रबंधन हमें पीपीई किट्स उपलब्ध नहीं करा रहा है. उनका कहना है कि हम बाहर बैठते हैं. महिला गार्ड ने बताया कि मैं उस वार्ड में ड्यूटी पर थी, जब जहांगीरपुरी इलाके से आई एक महिला को यहां भर्ती कराया गया था. उस महिला के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी मरीज के मौत के बाद मिली. इस दौरान वहां सभी लोगों की जांच की गई और मैं कोरोना संक्रमण की चपेट में आ चुकी थी.

    क्वारंटाइन सेंटर में दो घंटे तक करना पड़ा इंतजार
    महिला ने ये भी आरोप लगाया कि मंगलवार शाम को उन्हें सुल्तानपुरी क्वारंटाइन सेंटर में शिफ्ट किया गया. लेकिन इस दौरान उन्हें अपने सहयोगियो के साथ दो घंटे तक इंतजार करना पड़ा.

    करनी है खुद की और परिवार की सुरक्षा
    एक अन्य गार्ड का कहना है कि कोई भी व्यक्ति जब हॉस्पिटल आता है तो सबसे पहले गार्ड से मिलता है. लेकिन कोरोना से बचाव के लिए हमारे पास कोई भी सुरक्षात्मक उपाय नहीं है. गार्ड का कहना है कि हमें खुद की और अपने परिवार की भी सुरक्षा करनी है.

    'लगे नारे और बजी तालियां'
    यहां के गार्ड और हाउसकिपिंग स्टाफ ने नारा लगाया'' हम सबकी मजबूरी है, प्रोटेक्शन बहुत जरूरी है. '' इस दौरान हॉस्पिटल के कर्मचारियों ने तालियां बजाकर इस मांग का समर्थन किया.

    जल्द मिलेंगे पीपीई सूट
    सिक्योरिटी सुपरवाइजर अशोक कुमार ने कहा कि उन्हें प्रदर्शन के बाद कुछ मास्क और गल्बस मिला है. उन्हें कहा गया है कि जल्द ही पीपीई भी उपलब्ध कराया जाएगा.

    हॉस्पिटल प्रबंधन ने नहीं की कोई टिप्पणी
    वैसे इन आरोपों पर हॉस्पिटल प्रबंधन ने किसी भी तरह की टिप्पणी नहीं की. लेकिन एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि कॉन्ट्रेक्ट पर काम करने वाले कर्मचचारियों ने अपनी समस्याओं के बारे में हमे जानकारी नहीं दी है. अगर उनका वेतन भुगतान नहीं हुआ है तो यह एक चिंता का विषय है.



    ये भी पढ़ें:

    Covid-19 मरीज ने हॉस्पिटल में ‘शव के साथ रखने’ का आरोप लगाया, प्रशासन का इनकार

    Tags: Corona positive, Corona warriors, Coronavirus in India, Delhi, Delhi news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर