Home /News /delhi-ncr /

Delhi Nursery admission 2022-23: बच्‍चे को सबसे अच्‍छे स्‍कूल में ऐसे दिलाएं दाखिला, पेरेंट्स रखें इन चीजों का ध्‍यान

Delhi Nursery admission 2022-23: बच्‍चे को सबसे अच्‍छे स्‍कूल में ऐसे दिलाएं दाखिला, पेरेंट्स रखें इन चीजों का ध्‍यान

Delhi Nursery Admission 2022-23: दिल्‍ली में 15 नवंबर से नर्सरी दाखिले शुरू हो रहे हैं.

Delhi Nursery Admission 2022-23: दिल्‍ली में 15 नवंबर से नर्सरी दाखिले शुरू हो रहे हैं.

Delhi Nursery admission 2022-23: अगर आपके बच्‍चे की उम्र तीन साल हो चुकी है तो आप दिल्‍ली के प्राइवेट, सहायता प्राप्‍त और गैर सहायता प्राप्‍त स्‍कूलों में बच्‍चे का दाखिला करा सकते हैं. अब अभिभावकों के मन में अपने बच्‍चे को किस स्‍कूल में दाखिला दिलाएं, या कौन सा स्‍कूल सबसे बेहतर होगा, ये सवाल बना हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. Delhi Nursery admission 2022-23: राजधानी दिल्‍ली के निजी स्‍कूलों में नर्सरी कक्षा के लिए दाखिले की दौड़ शुरू हो गई है. हर बार ही अभिभावकों को अपने बच्‍चे को सबसे अच्‍छे स्‍कूल में दाखिला दिलाने के लिए काफी मशक्‍कत करनी पड़ती है. इनमें ज्‍यादातर नए अभिभावक होते हैं, वहीं दाखिला प्रक्रिया (Admission Process) भी अन्‍य राज्‍यों से अलग होती है, लिहाजा एडमिशन का का पूरा सिस्‍टम समझने में भी काफी समय लगता है. नर्सरी, केजी और पहली कक्षा में उम्र सीमा से लेकर नंबर या प्‍वाइंट सिस्‍टम होने, आरक्षित सीटों पर बाद में दाखिला होने और फिर दाखिले के लिए एक-एक सीट पर कई-कई दावेदार होने के कारण अभिभावकों को परेशानियां होती हैं.

    इस बार नर्सरी कक्षा के दाखिलों के लिए दिल्‍ली शिक्षा निदेशालय (Delhi Directorate of Education) ने शेड्यूल जारी कर दिया है. जिसके लिए 15 दिसंबर से फॉर्म मिलना शुरू होंगे और पेरेंट्स इन्‍हें 7 जनवरी तक जमा कर सकेंगे. हालांकि अब अभिभावकों के मन में अपने बच्‍चे को किस स्‍कूल में दाखिला दिलाएं, या कौन सा स्‍कूल सबसे बेहतर होगा, ये सवाल बना हुआ है. ऐसे में न्‍यूज 18 हिंदी यहां अभिभावकों को दाखिला प्रक्रिया समझाने के साथ ही उन्‍हें यह भी बता रहा है कि किस तरह वे अपने बच्‍चे को सबसे अच्‍छे स्‍कूल में एडमिशन दिला सकते हैं.

    अगर आपके बच्‍चे की उम्र तीन साल हो चुकी है तो आप दिल्‍ली के प्राइवेट, सहायता प्राप्‍त और गैर सहायता प्राप्‍त स्‍कूलों में बच्‍चे का दाखिला करा सकते हैं. दिल्‍ली में लगभग 1710 स्‍कूल हैं जहां इस बार नर्सरी, केजी और पहली कक्षा के बच्‍चों के दाखिले होने हैं. इन स्‍कूलों में सामान्‍य दाखिलों के अलावा आर्थिक रूप से पिछडे़ वर्ग के बच्‍चों के लिए ईडब्‍ल्‍यूएस (EWS category) और डिसएडवांटेज ग्रुप (DG) कोटे के तहत दाखिला दिया जाता है. ऐसे में पहले तो आपको यह तय करना है कि आप सामान्‍य वर्ग से हैं, आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग से हैं या डिसएडवांटेज ग्रुप से हैं. उसी केटेगरी में आपको अपने बच्‍चे के दाखिले के लिए प्रक्रिया शुरू करनी होगी.

    सबसे पहले अभिभावक इन तारीखों को रखें याद
    शेड्यूल के अनुसार, 15 दिसंबर से फॉर्म मिलना शुरू होंगे. जिन्‍हें जमा करने की अंतिम तारीख 7 जनवरी है. 21 जनवरी को दिल्‍ली के सभी प्राइवेट स्‍कूल रजिस्‍ट्रेशन की सूची वेबसाइट पर अपलोड कर देंगे. इसलिए सभी अभिभावक इस तारीख को लिस्‍ट जरूर देखें. फिर आवेदन फॉर्म में दी गई जानकारी के आधार पर सभी स्‍कूल 28 जनवरी 2022 तक बच्‍चों द्वारा दाखिले के लिए प्राप्‍त किए गए प्‍वाइंट को अपलोड कर देंगे कि किस छात्र को कितने नंबर मिले हैं. इसके बाद 4 फरवरी को छात्रों की सूची जारी की जाएगी कि इन्‍हें दाखिले के योग्‍य माना गया है. 5 फरवरी से पेरेंट्स एडमिशन करा सकेंगे.

    बच्‍चे की उम्र सीमा है जरूरी
    अन्‍य राज्‍यों से अलग दिल्‍ली के निजी स्‍कूलों में नर्सरी में दाखिले के लिए बच्‍चे की उम्र 3-4 साल तक होनी चाहिए. वहीं केजी के लिए उम्र सीमा (Age Limit) चार से पांच साल है. इसके साथ ही पहली कक्षा में दाखिले के लिए उम्र सीमा 5 से 6 साल तक है. अगर आपका बच्‍चा इसी उम्र का है तो अब आप दाखिले के लिए आगे की प्रक्रिया देख सकते हैं लेकिन अगर उम्र इससे कम या ज्यादा है तो आपका रजिस्‍ट्रेशन निरस्‍त हो सकता है.

    अभिभावकों को करना होता है ये काम
    सबसे पहले अभिभावकों को अपनी सुविधा, स्‍कूल की फीस और अपनी संतुष्टि को देखते हुए आसपास के स्‍कूलों का चुनाव करना होता है. स्‍कूल चुनने के बाद वे उन स्‍कूलों से नर्सरी कक्षा (Nursery) का फॉर्म लेते हैं और रजिस्‍ट्रेशन करते हैं. इस दौरान कुछ भी तय नहीं होता कि किस स्‍कूल में नंबर आएगा और दाखिला होगा.

    इसके बाद आता है प्‍वाइंट सिस्‍टम, जिससे होता है दाखिला
    दिल्‍ली में नर्सरी में दाखिले की एक प्रक्रिया है. जिसके तहत सभी निजी स्‍कूलों को दाखिला देना होता है. यह स्‍कूलों और बच्‍चों दोनों की सहूलियत के लिए है. इसके लिए प्‍वाइंट सिस्‍टम (Point System in Nursery admission) बनाया गया है. इसमें कुल 100 अंक होते हैं. जो बच्‍चे को हासिल करने होते हैं. नर्सरी के लिए आने वाले बच्‍चों की कोई प्रवेश परीक्षा तो होती नहीं है इसलिए यह प्‍वाइंट सिस्‍टम रखा गया है.
    जैसे बच्‍चे की उम्र तीन से चार के बीच है तो उसके लिए भी अंक रखे गए हैं. जिस स्‍कूल में बच्‍चे ने दाखिले के लिए आवेदन किया है वह उसके घर से कितना दूर है. जो स्‍कूल जितना पास होगा उतने ही ज्‍यादा प्‍वाइंट मिलेंगे. अगर दूरी ज्‍यादा है तो कम प्‍वाइंट मिलेंगे और दाखिले की संभावना कम होती जाएगी. अगर बच्‍चे का कोई भाई या बहन उस स्‍कूल में पढ़ता है तो उसे सिबलिंग के प्‍वाइंट मिलेंगे. अगर ये पहला ही बच्‍चा है तो उसके नंबर होंगे. अकेला बच्‍चा है तो उसके प्‍वाइंट होंगे. अगर बच्‍चे के माता-पिता उस स्‍कूल के छात्र रह चुके हैं तो उसे एल्‍यूमनाई के प्‍वाइंट मिलेंगे. इस तरह जिस बच्‍चे के प्‍वाइंट सबसे ज्‍यादा होंगे उसे सबसे पहले दाखिले का मौका मिलेगा.

    एक से ज्‍यादा स्‍कूलों में नंबर आने पर कर सकते हैं चुनाव
    चूंकि कई छात्रों को एक से ज्‍यादा स्‍कूलों में भी योग्‍य माना जा सकता है, ऐसे में अभिभावक ये चुन सकेंगे कि उन्‍हें किस स्‍कूल में अपने बच्‍चे को दाखिल कराना है. पहली सूची के बाद फिर स्‍कूल दूसरी सूची भी जारी करते हैं. मान लीजिए किसी बच्‍चे का चार स्‍कूलों में फॉर्म डाला गय है लेकिन पहली लिस्‍ट में सिर्फ तीन स्‍कूलों में नंबर आया है तो अभिभावक इन तीनों में दाखिला करा सकते हैं लेकिन अगर वे चौथे वाले स्‍कूल में ही बच्‍चे को पढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें उसकी दूसरी लिस्‍ट का इंतजार करना होगा. हालांकि ये तभी करना चाहिए जबकि दूसरी लिस्‍ट में आने की संभावना हो.

    अब आते हैं दस्‍तावेज
    दाखिले के लिए अभिभावकों के पास जरूरी दस्‍तावेज (Documents) होने चाहिए तभी आप बच्‍चे का फार्म भर सकते हैं. आपके पास बच्‍चे का बर्थ सर्टिफिकेट (Birth Certificate) या आधार कार्ड (Aadhar Card), माता-पिता का आधार कार्ड या कोई भी एड्रेस प्रूफ (Address Proof) होना जरूरी है. चूंकि अब दाखिले की प्रक्रिया पूरी तरह ऑनलाइन हो गई है तो आपके पास इनकी सॉफ्ट कॉपी होनी चाहिए, जिसे आप आसानी से फार्म के साथ अपलोड कर सकें. ऐसे में अगर अभिभावक पूरी तरह तैयार रहेंगे तो दाखिला करवाना आसान हो जाएगा.

    Tags: Delhi Education Minister, Education, Education Department, Nursery Admission, Private School

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर