• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • सफूरा जरगर की जमानत याचिका का विरोध, हाईकोर्ट में बोली दिल्‍ली पुलिस- तिहाड़ जेल में 10 साल में हो चुकी हैं 39 डिलीवरी

सफूरा जरगर की जमानत याचिका का विरोध, हाईकोर्ट में बोली दिल्‍ली पुलिस- तिहाड़ जेल में 10 साल में हो चुकी हैं 39 डिलीवरी

दिल्ली पुलिस ने सफूरा जरगर की जमानत याचिका को लेकर स्टेटस रिपोर्ट दाखिल की. (फाइल फोटो)

दिल्ली पुलिस ने सफूरा जरगर की जमानत याचिका को लेकर स्टेटस रिपोर्ट दाखिल की. (फाइल फोटो)

नागगरिता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान भड़काऊ भाषण देने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने सफूरा जरगर के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. जामिया मिलिया इस्‍लामिया विश्‍वविद्यालय की छात्रा सफूरा जरगर (Safura Zargar) की जमानत याचिका पर सोमवार को दिल्‍ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में सुनवाई हुई. सफूरा की अर्जी का विरोध करते हुए दिल्‍ली पुलिस ने कहा कि आरोपी गर्भवती होने मात्र से जमानत की हकदार नहीं हो सकती हैं. साथ ही पुलिस ने दलील दी कि पिछले 10 वर्षों में तिहाड़ जेल में 39 महिला कैदियों की  डिलीवरी हो चुकी है. ऐसे में सफूरा जरगर का मामला खास नहीं है. पुलिस ने कोर्ट को बताया कि उनके  खिलाफ पर्याप्‍त सबूत हैं. दिल्‍ली पुलिस ने सफूरा जरगर की  जमानत याचिका पर 22 जून को हाईकोर्ट में स्‍टेटस रिपोर्ट पेश की है. बता दें कि सफूरा को CAA विरोध के दौरान गिरफ्तार किया गया था. उनको दिल्‍ली हिंसा मामले में बहुत ही सख्‍त प्रावधान वाले UAPA के तहत गिरफ्तार किया गया है.

    आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया की छात्रा सफूरा जरगर पर इसी साल फरवरी में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगाया है. पुलिस का आरोप है कि जामिया समन्वय समिति के सदस्य सफूरा जरगर ने भीड़ को उकसाने के लिए कथित रूप से भड़काऊ भाषण दिया था. इसके कारण संशोधित नागरिकता अधिनियम के विरोध में फरवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा भड़की थी. इसके तहत सफूरा के खिलाफ UAPA के तहत मामला दर्ज किया गया है, जिसकी सुनवाई हाईकोर्ट कर रहा है.



    ये भी पढ़ें- दिल्‍ली: ब्‍लड और प्‍लाज्‍मा डोनेशन के नाम पर विधानसभा अध्‍यक्ष से ठगी

    गौरतलब है कि 4 महीने की गर्भवती सफूरा ने दिल्ली हिंसा से जुड़े एक मामले में जमानत के लिए याचिका दाखिल की थी. लेकिन बीते 4 जून को हुई सुनवाई में दिल्ली पुलिस ने उसे जमानत पर रिहा करने का विरोध किया था. जामिया समन्वय समिति की सदस्य सफूरा जरगर की जमानत याचिका के विरोध पर अदालत ने दिल्ली पुलिस को मामले को लेकर स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का आदेश दिया था. जस्टिस राजीव शकधर ने दिल्ली पुलिस को स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का आदेश दिया था, जिसके आधार पर आज कोर्ट में सुनवाई हुई.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज