Delhi Violence: पुलिस ने 410 लोगों के खिलाफ दायर की चार्जशीट, 205 हिन्‍दू तो इतने ही मुस्लिम आरोपी
Delhi-Ncr News in Hindi

Delhi Violence: पुलिस ने 410 लोगों के खिलाफ दायर की चार्जशीट, 205 हिन्‍दू तो इतने ही मुस्लिम आरोपी
दिल्‍ली पुलिस की क्राइम ब्रांच इसकी जांच कर रही है.

दिल्ली हिंसा मामले में दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच ने 410 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की हैं, जिसमें 205 लोग हिन्‍दू हैं तो इतने ही मुसलमान हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्‍ली. दिल्ली हिंसा मामले में दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) की क्राइम ब्रांच ने  410 आरोपियों के खिलाफ कड़कड़डूमा कोर्ट (Karkardooma Court) में चार्जशीट दायर की हैं. सूत्रों के मुताबिक क्राइम ब्राइंच की चार्जशीट में 205 लोग हिन्‍दू हैं तो इतने ही मुसलमानों को आरोपी बनाया गया है. जबकि इससे पहले क्राइम ब्रांच ने कोर्ट में दो चार्जशीट दायर की थीं. पहली चार्जशीट आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा हत्या मामले (Ankit Sharma Murder Case) में दायर की गई है, तो दूसरी चार्जशीट राजधानी स्कूल फैसल फारूकी केस में दायर हुई है.

25 फरवरी 2020 को दर्ज हुई थी एफआईआर
दिल्‍ली हिंसा में 25 फरवरी 2020 को आईबी कर्मी अंकित शर्मा की हत्या मामले में एफआईआर दर्ज हुई थी. जबकि बुधवार को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्जशीट दायर की है. इसमें आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन समेत 10 लोगों को आरोपी बनाया गया है. आपको बता दें कि आरोपी ताहिर हुसैन के घर से कुछ ही दूरी पर नाले से अंकित शर्मा की डेड बॉडी बरामद हुई थी.

चार्जशीट में लिखी है ये बात



चार्जशीट के मुताबिक नाले में अंकित शर्मा की बॉडी को फेंकने का वीडियो पास के ही एक घर की छत से एक शख्स ने बनाया था. चार्जशीट में लिखा गया है कि जिस भीड़ ने अंकित शर्मा की हत्या की उस भीड़ का नेतृत्व ताहिर हुसैन कर रहा था. आईपीसी की धारा 302 यानी हत्या, 120बी यानी साजिश रचना, 201 यानी सबूत नष्ट करना, 365 यानी अपहरण समेत कई अन्य धाराओं में चार्जशीट दायर की है. क्राइम ब्रांच ने आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन, हलील सलमान, समीर, दयालपुर इलाके के दो नामी बदमाश नाजिम और कासिम समेत 10 लोगों को चार्जशीट में आरोपी बनाया है.



सलमान को अंकित शर्मा हत्या मामले में मुख्य आरोपी बताया गया है. आरोपी सलमान के मोबाइल का वॉइस कॉल को सबूत के तौर पर क्राइम ब्रांच ने चार्जशीट में लिखा है, जिसकी फोरेंसिक जांच भी हो चुकी है.  चार्जशीट में इस मामले में 96 गवाहों का जिक्र किया गया है. चार्जशीट में ये भी कहा गया है कि मृतक अंकित शर्मा के शरीर पर 51 चोट के निशान मिले हैं, इसके लिए सबूत के तौर मृतक अंकित की पोस्टमार्टम रिपोर्ट का जिक्र है. मृतक की हत्या में दो चाकुओं का इस्तेमाल हुआ था और दोनों चाकू क्राइम ब्रांच ने बरामद किए हैं. साथ ही आरोपी के कपड़े जिसे पहन कर हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया उसे भी बरामद कर लिया गया है.

राजधानी स्कूल फैसल फारूकी केस
क्राइम ब्रांच ने दूसरी चार्जशीट राजधानी स्कूल फैसल फारूकी केस में दायर की है. 24 फरवरी 2020 को राजधानी स्कूल के आस पास हुई हिंसा मामले में ये एफआईआर 5 मार्च 2020 को दयालपुर थाने में दर्ज हुई थी.इस मामले में 18 लोगो को गिरफ्तार किया गया था. फैसल फारूकी इस चार्जशीट में मुख्य आरोपी है जो राजधानी स्कूल का मालिक है. पुलिस ने गवाह के तौर पर पास के डीआरपी स्कूल के गार्ड, राजधानी स्कूल के गार्ड और कई गवाह हैं.

साथ ही क्राइम ब्रांच ने चार्जशीट में कहा है कि फैसल फारूकी के कॉल डिटेल से जानकारी मिली है कि आरोपी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया, पिंजरा तोड़ ग्रुप, जामिया कोऑर्डिनेशन कमिटी, हज़रत निजमुद्दीन मरकज और देवबन्द से लगातार संपर्क में था. यहां तक कि आरोपी हिंसा से एक दिन पहले देवबन्द गया था. जबकि 6 खाली कारतूस, ग्लास, बोतल, रस्सी और अन्य चीजें राजधानी स्कूल के छत से बरामद हुई थीं. साथ ही 24 फरवरी 2020 को कई मुस्लिम बच्चे अपने अभिभावकों के साथ ही स्कूल से बहुत पहले घर चले गए थे, जिससे साफ होता है कि हिंसा एक सोची समझी साजिश थी. हालांकि इस मामले में अभी भी जांच जारी है.

फैसल फारूख का मौलाना साद कनेक्शन?
दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ने फारूख को भी दिल्ली दंगा के लिए प्रमुख आरोपियों के तौर पर उसके खिलाफ चार्जशीट में जिक्र किया है . इसके साथ ही फारूख के मोबाइल कॉल डिटेल और उसके मोबाइल कनेक्शन के बारे मे भी काफी सबूतों का जिक्रचार्जशीट में दर्ज है. इसी डिटेल में इस बात की भी पुष्टि हो रही है कि वो लगातार दंगा के दौरान मौलाना साद से भी बातचीत कर रहा था. उस दौरान कॉल दोनों तरफ से हुई थीं. फारूख के कॉल डिटेल में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया , देवबंद के कई मौलवियों , पिंजरा तोड़ समूहे से जुडे लोगों के साथ बातचीत भी सामने आया था. देवबंद और सहारनपुर की अगर बात करें तो यहां मौलाना साद की ससुराल भी है, जहां मौलाना साद से जुड़े कई परिवारिक सदस्य रहते हैं, लिहाजा उन तमाम मामलों को ध्यान में रखते हए मामले की आगे की तफ्तीश जारी है.

ये भी पढ़ें

COVID-19: लोकनायक भवन बनता जा रहा है कोरोना संक्रमण का अड्डा, जानें पूरा मामला

 
First published: June 5, 2020, 10:26 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading