Operation Kala: दिल्ली पुलिस मिली कामयाबी, गैंगस्टर काला का वफादार गुर्गा गिरफ्तार

सांकेतिक फोटो.

Delhi Police News: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल इन दिनों ‘ऑपरेशन काला’ पर काम कर रही है. ये ऑपरेशन कुख्यात गैंगस्टर काला जेठड़ी को पकड़ने के लिए चलाया जा रहा है. सूत्रों के मुताबिक काला जेठड़ी भारत में ही कहीं छिपा हुआ है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi police) की स्पेशल सेल इन दिनों ऑपरेशन काला पर काम कर रही है. ये ऑपरेशन कुख्यात गैंगस्टर काला जेठड़ी (Gangster Kala Jathadi) को पकड़ने के लिए चलाया जा रहा है. इस ऑपरेशन के तहत पुलिस को बड़ी सफलता तब मिली, जब काला जेठड़ी का सबसे करीबी और वफादार माना जाने वाला नीतीश प्रधान को गिरफ्तार कर लिया गया. नीतीश दिल्ली, हरियाणा और पंजाब पुलिस के लिए सिरदर्द बन गया था और उसके तार पहलवान सुशील कुमार छत्रसाल स्टेडियम घटना से जुड़े थे. इसी घटना के बाद वो सुर्खियों में आया था.

सूत्रों के मुताबिक कुख्यात गैंगस्टर काला जेठड़ी भारत में ही कहीं छुपा है. बीते बुधवार को गिरफ्तार हुआ काला का सबसे करीबी नीतीश प्रधान ने काला के बारे में कई अहम् सुराग स्पेशल सेल को दिए हैं. नीतीश काला का शॉर्प शूटर था. बीते 6 मार्च को दिल्ली में सिविल डिफेंस (Civil Defence) के एक कर्मचारी को जान से मारने का सीसीटीवी फूटेज (CCTV Footage) सामने आया था, जिसमें लाल शर्ट में नीतीश वारदात को अंजाम देता दिखाई दे रहा है.

इन इलाकों में भी वारदात
पुलिस के मुताबिक दिल्ली के बादली इलाके सरेआम काला जेठड़ी के गुर्गे नीतीश के साथ पिस्टल की नोक पर शराब के ठेके को लूट की वारदात भी सीसीटीवी में कैद हुई थी. इस वारदात में नीतीश शराब के ठेके के अंदर ताबड़तोड़ फायरिंग करता दिखाई दिया था. यही नहीं हरियाणा और दिल्ली में भी कुछ और वारदातों को अंजाम देने के बाद नीतीश के वीडियो सामने आए. नीतीश की गिरफ्तारी के बाद काला जेठड़ी के ऊपर इनकाउंटर (Encounter) की तलवार भी लटक रही है.

नीतीश काला का सबसे बड़ा राजदार
बता दें कि नीतीश प्रधान ने ही जीटीबी अस्पताल शूटआउट में कुलदीप उर्फ फज्ज़ा गैंगस्टर को स्कार्पियो मुहैया करवाई थी, जिसमें एक कैदी को लेकर बदमाश अस्पताल से फरार हो गए थे. नीतीश झज्जर हरियाणा का रहने वाला है और काला का सबसे बड़ा राजदार है. काला के इशारे पर पंजाब के कुपवाड़ा मे 22 जून को हरवेल सिंह पर जानलेवा हमला किया गया था. इस शूट आउट में नीतीश का साथी किशन मारा गया था. इसके अलावा बीते मार्च महीने में गुरग्राम में अपहरण, फरवरी में छावला में ताबड़तोड़ फायरिंग और ऐसी करीब 50 से ज्यादा वारदातों को खुद नीतीश प्रधान अंजाम दे चुका है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.