Delhi: लॉकडाउन के दौरान स्कूल का मालिक बना ब्लैकमेलर, एक शख्स की खुदकुशी के बाद हुआ खुलासा
Delhi-Ncr News in Hindi

Delhi: लॉकडाउन के दौरान स्कूल का मालिक बना ब्लैकमेलर, एक शख्स की खुदकुशी के बाद हुआ खुलासा
दिल्ली पुलिस ने एक कारोबारी की आत्महत्या मामले में एक नामी स्कूल के मालिक सहित चार लोगों पर एफआईआर दर्ज किया है.(सांकेतिक फोटो)

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने सुसाइड का एक मामला दर्ज किया है. एफआईआर (FIR) में रोहिणी सेक्टर-3 के एक नामी स्कूल के मालिक, उनके बेटे, स्कूल की प्रिंसिपल और स्कूल के एडमिन विभाग के एक कर्मचारी पर एक चावल कारोबारी को आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने एक कारोबारी की आत्महत्या (Suicide) मामले में दिल्ली के एक नामी स्कूल के मालिक (School Owner)  सहित चार लोगों पर एफआईआर (FIR) दर्ज की है. दिल्ली के रानी बाग थाने में दर्ज एफआईआर के मुताबिक, एक कारोबारी की आत्महत्या के मामले में दिल्ली के एक नामी स्कूल के मालिक, उसके बेटे और प्रिंसिपल समेत 4 लोगों के खिलफ एफआईआर दर्ज की गयी है. दिल्ली पुलिस फिलहाल मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है. ऐसा माना जा रहा है कि लॉकडाउन की वजह से हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए नामी स्कूल का मालिक ब्लैकमेलर बन गया था.

एफआईआर के मुताबिक, स्कूल का मालिक लोगों को झूठे मामलों में फंसाकर करोड़ों की प्रॉपर्टी हड़पने का धमकी देता था. इसके ब्लैकमेलिंग से तंग आकर एक चावल कारोबारी ने पिछले दिनों ही आत्महत्या कर ली थी. मृतक के परिजनों ने रोहिणी सेक्टर-3 के एक नामी स्कूल के मालिक, उनके बेटे, स्कूल की प्रिंसिपल और स्कूल के एडमिन विभाग के एक कर्मचारी पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगया है.

कारोबारी की सुसाइड पर सनसनीखेज खुलासा
एफआईआर के मुताबिक लॉकडाउन की वजह से सरकार ने स्कूल को पेरेंट्स से पूरी फीस वसूलने पर रोक लगा दी थी, जिसकी वजह से स्कूल को भारी नुकसान उठाना पड़ा था. स्कूल को हुए नुकसान की भरपाई करने के लिए स्कूल के मालिक बाप-बेटे ने 51 साल के एक चावल कारोबारी भूपेंद्र गुप्ता से उसकी 20 करोड़ की प्रोपेर्टी हड़पने के लिए अश्लील फोटो और वीडियो दिखाकर चावल कारोबारी को झूठे केस में फंसाने की धमकी देने लगा. आरोप है कि दोनों बाप-बेटे के अलावा कारोबारी को धमकाने और झूठे केस में फंसाने के मामले में स्कूल की प्रिंसिपल और स्कूल के ऑफिस का एक कर्मचारी भी शामिल था.
मृतक कारोबारी के भतीजे की शिकायत के मुताबिक, उसके चाचा को रोहिणी सेक्टर 3 स्थित एक नामी स्कूल के मालिक उसके बेटे और स्कूल प्रिंसिपल ने 20 जून को प्रॉपर्टी हथियाने के मकसद से स्कूल मीटिंग करने के लिए बुलाया था. जिसके बाद मृतक कारोबारी से स्कूल मालिक ने प्रॉपर्टी के कागजों पर साइन कर प्रॉपर्टी उनको देने को कहा. मना करने की स्थिति में उनको कुछ फोटो और वीडियो दिखाए और उन वीडियो के आधार पर कारोबारी को झूठे केस में फंसाने की धमकी देने लगे.



दिल्ली पुलिस ने जांच शुरू की
दिल्ली पुलिस के मुताबिक स्कूल मालिक और चावल कारोबारी पहले कभी बिजनेस पार्टनर हुआ करता था. इस लिए दोनों एक दूसरे की कमियों को अच्छी तरह जानते थे. आरोप है कि लगातार मिल रही धमकियों से परेशान चावल कारोबारी ने 25 जून को सुबह प्रीतमपुरा स्थित अपने घर मे सल्फास की गोलियां खाकर आत्महत्या कर ली. मरने से पहले कारोबारी ने बाकायदा एक सुसाइड नोट भी लिखा, जिसमें सारी आपबीती बताई है. कारोबारी के सुसाइड नोट को पुलिस ने बरामद कर लिया है.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस MLA की मोदी सरकार से मांग- कोरोना कॉलर ट्यून सुनकर पक गए कान, इसे बंद करें

मृतक कोराबारी के परिवार की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने जांच शुरू कर दी है. आउटर जिला के डीसीपी ए कोन के मुताबिक 51 साल के भूपेन्द्र गुप्ता नाम के एक कारोबारी ने खुदखुशी कर ली. उन्होंने जहर खाया था जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान मृत घोषित कर दिया गया. मृतक पुरानी दिल्ली के नया बाजार में चावल का कारोबार कर रहा था. उसने एक सुसाइड नोट लिखकर छोड़ा है, जिसमें उसने आरोप लगाया कि उसने अपने साथियों द्वारा दी गई प्रताड़ना के कारण आत्महत्या की है. सुसाइड नोट के मुताबिक आत्महत्या करने की वजह उसके पार्टनर द्वारा प्रताड़ित करना बताया गया है. सुसाइड नोट में लिखा है मृतक की एक प्रॉपर्टी के दस्तावेज को बैंक में गिरवी रखके लोन लिया था. अब वो मृतक की दूसरी प्रोपेर्टी के कागज भी दबाव बनाकर मांग रहे थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज