लाइव टीवी

Shaheen Bagh Protest: दिल्ली पुलिस ने शुरू की कालिंदी कुंज-शाहीन बाग रोड को खाली कराने की प्रकिया


Updated: January 14, 2020, 6:52 PM IST
Shaheen Bagh Protest: दिल्ली पुलिस ने शुरू की कालिंदी कुंज-शाहीन बाग रोड को खाली कराने की प्रकिया
दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में 29 दिनों से सीएए, एनआरसी, जामिया हिंसा आदि को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है.

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने जनहित को ध्यान में रखते हुए मंगलवार को दिल्ली पुलिस को कालिंदी कुंज-शाहीन बाग (Kalindi Kunj-Shaheen Bagh) रोड पर ट्रैफिक प्रतिबंधों पर गौर करने का निर्देश दिया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. पुलिस ने दिल्ली में कालिंदी कुंज-शाहीन बाग (Kalindi Kunj-Shaheen Bagh) रोड को खाली कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. दरअसल, नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने एक महीने से इसे अवरूद्ध कर रखा है. कालिंदी कुंज-शाहीन बाग रोड पर ट्रैफिक प्रतिबंधों पर पुलिस को गौर करने का दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) द्वारा निर्देश दिए जाने के बाद यह कदम उठाया गया है.

अधिकारियों ने यह भी बताया कि पुलिस अवरूद्ध सड़क को खाली कराने के लिए व्यापारिक संगठन, धार्मिक नेताओं और समुदाय के नेताओं से बात करेगी. एक सरकारी अधिकारी ने कहा, ‘‘पुलिस ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पास शाहीन बाग में एक सड़क को खाली कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. पुलिस इस व्यस्त सड़क को खाली कराने के लिए बलप्रयोग के बजाय समझाने बुझाने की नीति का पालन कर रही है.’’

हाईकोर्ट ने कहा- जनहित को ध्यान में रखकर पुलिस करे कार्रवाई
दक्षिण दिल्ली में कई लोग यह सड़क बंद रहने के चलते असुविधा का सामना कर रहे हैं क्योंकि इससे नोएडा के साथ सीधा संपर्क कट गया है. दिल्ली हाईकोर्ट ने जनहित को ध्यान में रखते हुए मंगलवार को दिल्ली पुलिस को कालिंदी कुंज-शाहीन बाग खंड पर ट्रैफिक प्रतिबंधों पर गौर करने का निर्देश दिया था. यह सड़क सीएए के खिलाफ प्रदर्शनों को लेकर करीब एक महीने से बंद है।

शाहीन बाग में 29 दिन से महिलाएं और बच्चे कर रहे हैं प्रदर्शन
दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में सीएए, एनआरसी, जामिया हिंसा आदि को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन जारी है. कड़ाके की सर्दी और बारिश के मौसम में भी प्रदर्शनकारी सड़क पर डटे हुए हैं. शाहीन बाग में यह धरना 24 घंटे चालू रहता है. धरने में बड़ी संख्या में महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग भी शामिल हैं. सड़क पर ही सभी का खाना-पीना और चाय-पानी चलता रहता है. छोटे बच्चों को गर्म दूध पीने के लिए दिया जाता है.

ये भी पढ़ें-दिल्ली चुनाव: LJP की 15 उम्मीदवारों की 1st लिस्ट जारी, नजफगढ़ से ये दिग्गज

दिल्ली चुनाव लड़ेगी RJD, कांग्रेस से हो सकता है गठबंधन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 6:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर