लाइव टीवी

सीलमपुर-जाफराबाद हिंसा : दिल्ली पुलिस ने बताया-जैसे ही विधायक गए, पत्थरबाजी शुरू हो गई
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: December 18, 2019, 5:11 PM IST
सीलमपुर-जाफराबाद हिंसा : दिल्ली पुलिस ने बताया-जैसे ही विधायक गए, पत्थरबाजी शुरू हो गई
दिल्ली के सीलमपुर में मंगलवार को हिंसक प्रदर्शन हुआ था (फाइल फोटो)

पुलिस ने बताया कि आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक हाजी इशराक और स्थानीय काउंसलर अब्दुल रहमान सीलमपुर तिराहे पर भाषण दे रहे थे. विधायक के जाने के महज 10 मिनट बाद भगदड़ मच गई और पत्थरबाजी शुरू हो गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2019, 5:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सीलमपुर हिंसा (Seelampur Violence) पर पुलिस अधिकारियों ने शुरुआती जांच के बाद दावा किया है कि मंगलवार को जो प्रदर्शन शुरू हुआ उसकी अगुआई पूर्व कांग्रेस विधायक मतीन अहमद (Mateen Ahmed) कर रहे थे. पुलिस का कहना है कि चौहान नगर गली नंबर 14 से प्रदर्शनकारी निकल रहे थे. हिंसा दोपहर में 1 बजकर 20 मिनट पर मरकरी चौक जाफराबाद से शुरू हुई. भीड़ में 200 लोगों के करीब लोग होंगे तब तक पुलिस (Police) इन पर नजर बनाए हुए थी. इसके बाद मरकरी चौक की भीड़ मौजपुर से जाफराबाद मेट्रो स्टेशन पहुंच गई और लोगों का हुजूम बढ़ता गया.

पुलिस (Police) का कहना है कि कुछ देर बाद जाफराबाद मेट्रो स्टेशन से भीड़ सीलमपुर तिराहे पहुंच गई. यहां बैरीकेड लगाकर पुलिस ने उन्हें रोक लिया. उसी दौरान कांग्रेस नेता मतीन अहमद की रैली ब्रह्मपुरी से शुरू हो चुकी थी और वो सीलमपुर मार्केट से होते हुए फल बाजार पहुंच गई. अधिकारियों का कहना है कि तभी आम आदमी पार्टी (AAP) के स्थानीय विधायक हाजी इशराक सीलमपुर तिराहे पर पहुंच गए और कुछ देर बाद स्थानीय काउंसलर अब्दुल रहमान भी वहां आ गए.

‘AAP विधायक के जाने के बाद मची भगदड़’
पुलिस ने कहा कि इस दौरान दोनों नेताओं ने भीड़ से बात की और भाषण देना शुरू कर दिया. भारी संख्या में लोगों को इकट्ठा होते देख पुलिस ने उन्हें हटाना शुरू कर दिया. तभी विधायक के जाने के महज 10 मिनट बाद वहां भगदड़ मच गई और पत्थरबाजी शुरू हो गई. इस दौरान स्थानीय काउंसलर भी वहां से निकल गए. पुलिस ने कहा कि इस मामले में कुल तीन एफआईआर दर्ज हुई हैं और 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. हिंसा में किसकी भूमिका रही है उसकी जांच की जा रही है.



ड्रोन से रखी जा रही थी नजर


दिल्ली पुलिस के जॉइंट सीपी आलोक कुमार के मुताबिक जांच में सामने आया है कि सीलमपुर-जाफराबाद हिंसा भी प्लानिंग से हुई. कुल 21 लोग घायल हुए हैं जिसमें 12 पुलिसकर्मी, छह आम लोग और 3 आरएएफ के जवान घायल शामिल हैं. आलोक कुमार ने कहा, ‘जिस बस पर पथराव हुआ उसमें स्कूली बच्चे थे. हालांकि, उन्हें ड्राइवर ने सुरक्षित निकाल लिया. हम पहले से ड्रोन से इलाके और प्रदर्शनकारियों पर नजर रख रहे थे. लेकिन जैसे ही ड्रोन बंद किया उपद्रवियों ने पथराव शुरू कर दिया. तीन बाइकों के साथ दो बसों में तोड़फोड़ की. इसके अलावा सीलमपुर और जाफराबाद के दो पुलिस बूथों में तोड़फोड़ की गई.'

सीपी ने बताया कि सरकारी काम में बाधा डालने, सरकारी कर्मचारियों पर हमला, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और दंगे भड़काने की धाराओं में केस दर्ज किया गया है. पुलिस ने धारा 147,148,149,186,332,353 और सेक्शन 3 और 4 पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने की धाराओं में केस दर्ज किया है.

दिल्ली के नार्थ-ईस्ट में धारा 144 लागू
एडिशनल डीसीपी नार्थ ईस्ट आरपी मीणा के मुताबिक, आप विधायक की भूमिका की जांच की जा रही है. दिल्ली के नार्थ-ईस्ट इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई है. स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं.

यह भी पढ़ें :- 




News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2019, 4:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading