Home /News /delhi-ncr /

पाकिस्तानी आतंकी अशरफ का दिल्ली पुलिस करवाएगी पॉलीग्राफ टेस्ट, ये है बड़ी वजह

पाकिस्तानी आतंकी अशरफ का दिल्ली पुलिस करवाएगी पॉलीग्राफ टेस्ट, ये है बड़ी वजह

पाकिस्तानी आतंकी अशरफ उर्फ अली का दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल जल्द ही पॉलिग्राफ टेस्ट करवाएगी.

पाकिस्तानी आतंकी अशरफ उर्फ अली का दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल जल्द ही पॉलिग्राफ टेस्ट करवाएगी.

Pakistani Terrorist Arrested in Delhi: पाक आतंकी मोहम्मद अशरफ की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग (Pakistan High Commission ) को खत भी लिखा था और अशरफ की औपचारिक तौर पर गिरफ्तारी मामले की जानकारी भी दी थी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल (Delhi Police Special Cell) पाकिस्तानी जासूस और आतंकी अशरफ (Pakistani Terrorist Mohammad Ashraf) का बहुत जल्द ही पॉलीग्राफ टेस्ट (Polygraph Test) करवाने वाली है, जिससे उस आतंकी की साजिश का पता लगाया जा सके. स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक, गिरफ्तारी के बाद अशरफ से जब पूछताछ की गई तो कई बार वह अपने बयानों को बदल रहा है. कई बार झूठ भी बोल रहा है लिहाजा सच और झूठ के बारे में जानने के लिए स्पेशल सेल की टीम अशरफ का पॉलीग्राफ टेस्ट करवाना चाहती है.

सूत्रों के मुताबिक अशरफ ने भी पॉलीग्राफ टेस्ट करवाने के लिए लिखित तौर पर अपनी मंजूरी दिल्ली पुलिस को दे दी है. दरअसल, भारतीय कानून के मुताबिक किसी भी शख्स का पॉलीग्राफ़ टेस्ट करने से पहले कोर्ट से इजाजत लेना आवश्यक है. स्पेशल सेल के अधिकारी के मुताबिक पॉलीग्राफ यह एक ऐसा मशीन है जिसका प्रयोग किसी भी शख्स के झूठ पकड़ने के लिए किया जाता है. इस मशीन को लाई डिटेक्टर मशीन (Lie detector Machine)  भी कहते हैं. इस टेस्ट के मार्फत सवाल-जवाब के दौरान  शख्स के हर्ट रेट यानी दिल की धड़कन की रफ्तार, ब्लड प्रेसर की रफ्तार सहित कई अन्य वैज्ञानिक विधि से सही और झूठ के पैमाने को नापा जाता है. हालांकि कुछ मामलों  को अगर ध्यान से देंखें तो, कुछ आरोपियों ने इस मशीन को भी गच्चा देने में कामयाब हो चुके हैं.

पाकिस्तान मूल के अशरफ पर लगे हैं गंभीर आरोप

पाकिस्तान मूल के रहने वाले मोहम्मद अशरफ पिछले करीब 10 सालों से भी ज्यादा वक्त यह सेंट्रल दिल्ली में छुप कर रहा था, जिसे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पिछले कुछ समय पहले ही गिरफ्तार किया था. गिरफ्तारी के समय हुई पूछताछ के दौरान उससे मिले इनपुट्स के आधार पर दिल्ली के ही कलिन्दी कुंज इलाके से कुछ हथियारों को भी जब्त किया गया था, जिसे उसने जमीन में गाड़ कर रखा था.  मोहम्मद अशरफ की गिरफ्तारी के बाद उसके पास से बिहार मूल का पहचान पत्र, भारतीय पासपोर्ट सहित कई महत्वपूर्ण दस्तावेज भी बरामद किया गया था. जिसके बाद स्पेशल सेल की टीम बिहार के कटिहार, अररिया, कोलकाता, जम्मू और अजमेर गई थी. उससे जुड़े लोगों और अन्य सबूतों को खंगालने में जुटी थी.

आतंकियों को ISI 10 साल तक छिपाकर रखती है 

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के ऑपरेशन की अगर बात करें तो इस मसले पर खुफिया एजेंसी आईबी (IB) के पूर्व अधिकारी डीपी सिन्हा और उनके सहयोगी अभिषेक शरण ने ऑपरेशन ट्रोजन हॉर्स (Operation Trojan Horse) में भी इस बात का जिक्र किया है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी करीब 10 से 15 साल पहले काफी स्लीपर सेल आतंकियों को भारत भेजा था. जिसका काम ही था कि पांच साल -10 सालों तक उससे कोई संपर्क नहीं साधा जाए, न ही किसी आतंकी वारदात में उसका प्रयोग किया जाए, लेकिन जब उसका एक स्थाई पता, घर-परिवार, पहचान पत्र इत्यादि बन जाए उसके बाद उसका प्रयोग सिर्फ इनपुट्स लेने के लिए या जरूरत पड़ने पर किसी को शरण देने के लिए किया जाए. इसी ऑपरेशन के तहत मोहम्मद अशरफ भी भारत आया था. जो पिछले कुछ समय से छुपकर रह रहा था, लेकिन जैसे ही 10 सालों के बाद अब ऑपरेशन में जुड़ने लगा, ये भारतीय खुफिया एजेंसी और दिल्ली पुलिस (Delhi police) की स्पेशल सेल के रडार पर आ गया.

दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग के संज्ञान में है ये मामला 

मोहम्मद अशरफ  की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग (Pakistan High Commission)  को खत भी लिखा था, और अशरफ की औपचारिक तौर पर गिरफ्तारी मामले की जानकारी भी दी थी. दिल्ली पुलिस के द्वारा पाकिस्तानी दूतावास को इस मामले की जानकारी भी दी गई कि अशरफ को काफी विस्फोटक और भारी हथियार के साथ गिरफ्तार किया गया है, लिहाजा इस गिरफ्तारी के बारे में अशरफ के परिजनों को सूचित कर दिया जाए.

पाकिस्तान लौटकर अपने परिवार से मिलना चाहता था अशरफ

स्पेशल सेल की मोहम्मद अशरफ के खिलाफ की गई तफ्तीश के दौरान उसने इस बात को स्वीकार किया कि- वो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI)  के लिए काम कर रहा था,  उसका हैंडलर पाकिस्तान में ही रहता है जिसका नाम नासिर है. अशरफ ने पूछताछ के दौरान ये भी बताया कि पिछले कुछ दिनों पहले उसने अपने हैंडलर को बताया क्यों पाकिस्तान आना चाहता है पर अपने परिजनों से मिलना चाहता है, लेकिन उसके हैंडलर ने साफ तौर पर कहा कि भारत में भी बहुत बड़े काम करने हैं और उस काम को निपटाने के बाद ही उसके पाकिस्तान में लाने के लिए सोचा जाएगा.

बता दें कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल मोहम्मद अशरफ के साथ रहने वाले  मौलवी अहमद नूरी से भी पूछताछ कर रही है, जो दिल्ली के शास्त्री पार्क में रहने वाला है. इसके साथ ही अशरफ के संपर्क में रखने वाले उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh )  के कई लोग जांच एजेंसी के रडार पर हैं, जिसके बारे में स्पेशल सेल की टीम पॉलीग्राफ टेस्ट करवाने के दौरान कई सवाल- जवाब करने वाली है.

Tags: Delhi news today, Delhi news update, Delhi police, Delhi Police Special Cell, Pakistani Terrorist, Terrorist arrested

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर