Delhi Air Pollution: अक्टूबर ने ही बढ़ा दी दिल्ली वालों की धड़कन, हर कंस्ट्रक्शन साइट पर लगेंगी एंटी-स्मॉग गन

इस तकनीक से वायु प्रदूषण (Air Pollution) को कम करने में बहुत मदद मिल सकती है. (फोटो: AP)
इस तकनीक से वायु प्रदूषण (Air Pollution) को कम करने में बहुत मदद मिल सकती है. (फोटो: AP)

बीते साल नवंबर से अब तक दिल्ली (Delhi) में सार्वजनिक जगहों से 50334 टन निर्माण से जुड़ा मलबा उठाया गया. सार्वजनिक जगहों (Public Place) पर ही लोगों ने गलत तरीके से 44399 टन कचरा फैला रखा था, जिसमे प्लास्टिक कचरा भी था को उठाया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 3:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Delhi pollution control board) के आज के आंकड़ों ने दिल्ली वालों की धड़कन अभी से बढ़ा दी है. बुधवार की सुबह पूसा रोड पर प्रदूषण का आंकउ़ा 269 पर पहुंच गया था. वहीं रोहिणी में यह आंकड़ा 238 था. हालांकि दिल्ली सरकार ने पराली (Prali) से निपटने की तैयारी अभी से शुरु कर दी है.

वहीं नए आदेश के अनुसार दिल्ली में होने वाले अब हर एक कंस्ट्रक्शन साइट (Construction site) पर एंटी स्मॉग गन (Anti smog guns) लगानी होगी. यह गन लगातार कम करेगी. यह फैसला इसलिए भी लिया गया है कि बीते साल इसी महीने में हजारों टन निर्माण का मलबा साइट से उठवाया गया था. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की बढ़ते दिनो के साथ दिल्ली की हवा और ख़राब (Delhi air Pollution) होती जाएगी.

अक्टूबर के पहले हफ्ते में ही डराने लगे यह आंकड़े



दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने आज बढ़ते प्रदूषण के आंकड़े जारी करते हुए बताया है कि वायु गुणवत्ता सूचकांक के मानकों पर बुधवार की सुबह 11 बजे तक पूसा रोड पर 269, आनंद विहार 260, रोहिणी में 238, नोएडा 228, एयरपोर्ट 180, मथूरा 152, लोधी रोड 138 और आया नगर 139 रहा है. हालांकि बीते सालों के आंकड़ों को देखते हुए यह आंकड़े कुछ नहीं हैं. लेकिन अक्टूबर की शुरुआत में ही इस तरह के आंकड़े आना खासी परेशानी वाली बात है.
सत्येन्द्र जैन बोले- कम हो गया दिल्ली में कोरोना का पीक, जानें इस दावे की हकीकत



नवंबर 2019 से उठाया गया 1 लाख टन कूड़ा

दिल्ली सरकार ने विधानसभा में जानकारी देते हुए बताया कि बीते साल नवंबर से अब तक दिल्ली में सार्वजनिक जगहों से 50334 टन निर्माण से जुड़ा मलबा उठाया गया. इतना ही नहीं सार्वजनिक जगहों पर ही लोगों ने गलत तरीके से 44399 टन कचरा फैला रखा था, जिसमे प्लास्टिक कचरा भी था को उठाया गया.





Horrible VIDEO: चलती होंडा सिटी कार पर गिरा चावल से भरा कंटेनर, देखें फिर क्‍या हुआ

प्रदूषण रोकने को सरकार ने बनाया है यह मेगा प्लान

1-पराली के लिये पूसा इंस्टिट्यूट ने एक घोल बनाया है. इस साल पराली के लिये घोल का छिड़काव किया जायेगा. ये घोल सरकार तैयार करेगी. जिसका छिड़काव पराली पर किया जायेगा. इसके छिड़काव से पराली खाद में परिवर्तित हो जाती है.

2- मिट्टी को उड़ने से रोकने के लिये एंटी डस्ट प्रोग्राम चलाया जायेगा. कंस्ट्रक्शन साइट पर टीमें जायेंगी और मानक का उल्‍लंघन पाए जाने पर चालान किया जाएगा. सड़क के गड्ढों को भरा जाएगा. एंटी स्मॉग गन लगाये जायेंगे.

3- 13 हॉटस्पॉट चुने गये है जहां पर प्रदूषण ज़्यादा है. इन जगहों पर पता लगाया जायेगा कि क्यों बढ़ रहा है प्रदूषण. प्रदूषण को रोकने के सभी उपायों पर तेज़ी से काम किया जायेगा.

4- एक एप तैयार किया जा रहा है. green delhi app. जिस पर लोग शिकायत कर सकते है. अगर कहीं कूड़ा जलाया जा रहा है. कंस्ट्रक्शन साइट पर घूल उड़ रही है. या प्रदूषण से जुड़ी कोई शिकायत हो तो इस एप के ज़रिये की जा सकती है. शिकायत पर तुरंत कार्रवाई भी की जायेगी.

5- एक पॉलिसी तैयारी की जा रही पेड़ काटने को लेकर. इसके तहत अगर किसी जगह से पेड़ काटा जायेगा तो उसका 80 फीसद पेड़ ट्रांसप्लांट करने होंगे. यानी दूसरी जगह पर लगाने होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज