• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Delhi में पैदा होने वाला है शराब का संकट! डेढ़ महीने तक बंद रहेंगे ठेके...

Delhi में पैदा होने वाला है शराब का संकट! डेढ़ महीने तक बंद रहेंगे ठेके...

नए फैसले से एक अक्टूबर से 16 नवंबर के बीच लोगों को स‍िर्फ सरकारी शराब की दुकानों पर ही शराब म‍िलेगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नए फैसले से एक अक्टूबर से 16 नवंबर के बीच लोगों को स‍िर्फ सरकारी शराब की दुकानों पर ही शराब म‍िलेगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

New Delhi Excise Policy: नई आबकारी नीत‍ि लागू होने के बाद अब शराब की बिक्री के ल‍िए द‍िए जाने वाले लाईसेंस को लेकर भी नए मानक तैयार क‍िए गए हैं. नए फैसले से एक अक्टूबर से 16 नवंबर के बीच यानि करीब 45 दिनों तक लोगों को स‍िर्फ सरकारी शराब की दुकानों पर ही शराब म‍िलेगी. इसकी वजह से इन दुकानों पर लंबी कतार लगने और आउट ऑफ स्‍टॉफ होने की प्रबल संभावना जताई जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई द‍िल्‍ली. द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) की ओर से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के ल‍िए नई आबकारी नीत‍ि (Delhi Excise Policy) लागू की गई है. इसके लागू होने के बाद अब शराब के कारोबार में कई बड़े बदलाव भी क‍िए जा रहे हैं. सरकार की ओर से एक अक्‍टूबर से सभी प्राईवेट शराब की दुकानों को बंद कर द‍िया जाएगा. इस दौरान स‍िर्फ सरकारी शराब की दुकानों को ही खुलने की अनुमति होगी. यानी आने वाले समय में द‍िल्‍ली में शराब की भारी क‍िल्‍लत होने की संभावना भी जताई जा रही है.

    जानकारी के मुताब‍िक नई आबकारी नीत‍ि (New Excise Policy) लागू होने के बाद अब शराब की बिक्री के ल‍िए द‍िए जाने वाले लाईसेंस को लेकर भी नए मानक तैयार क‍िए गए हैं. द‍िल्‍ली में मौजूदा सभी प्राईवेट और सरकारी शराब की दुकानों को भी चरणबद्ध तरीके से बंद करने की योजना पर काम क‍िया जा रहा है. नए फैसले से एक अक्टूबर से 16 नवंबर के बीच यानि करीब 45 दिनों तक लोगों को स‍िर्फ सरकारी शराब की दुकानों पर ही शराब म‍िलेगी. इसकी वजह से इन दुकानों पर लंबी कतार लगने और आउट ऑफ स्‍टॉफ होने की प्रबल संभावना जताई जा रही है.

    इस बीच देखा जाए तो नई नीत‍ि लागू होने के बाद शराब की क‍िल्‍लत पैदा ना हो, इसको लेकर व‍िभाग ने योजना तैयार की है. व‍िभाग की ओर से एक अक्टूबर से 47 दिनों के लिए प्लान तैयार क‍िया जा रहा है. लेक‍िन यह क‍ितना कारगर साब‍ित होगा, इस पर भी सवाल खड़े होते द‍िख रहे हैं.

    ये भी पढ़ें: Gandhi Jayanti से पहले द‍िल्‍ली में हमेशा के ल‍िए बंद हो जाएंगी शराब की सभी प्राईवेट दुकानें

    बताया जाता है क‍ि सरकार ने प्राईवेट दुकानों को एक अक्‍टूबर से बंद करने का तो फैसला ले ल‍िया है लेक‍िन द‍िल्‍ली की शराब की जरूरत को कैस पूरा क‍िया जाएगा, इसकी कोई तैयारी नहीं की है. अभी तक शराब को सप्लाई कैसे किया जाए, इसका कोई प्लान तैयार नहीं किया गया. ऐसे में माना जा रहा है कि शराब माफिया इस मौके का पूरा फायदा उठा सकते हैं.

    विभाग ने सभी होलसेलरों से कहा है कि वे अगले चार महीने का स्टॉक वैसे ही मेंटेन करते रहें, जैसे अभी कर रहे हैं. शराब के स्टॉक में किसी भी तरह की कमी न करें. विभाग यह सुनिश्चित करने में लगा है कि डिमांड और सप्लाई में कितना गैप रहा. क्या डिस्ट्रिब्यूटर्स के पास शराब और बीयर के पर्याप्त स्टॉक है भी या नहीं?

    एक्साइज विभाग का मानना है कि स्टॉक मेंटेन करना सबसे जरूरी है. अगर शराब की कमी पड़ गई तो दुकानों पर शराब मिलेगी ही नहीं. इसलिए विभाग कोशिश कर रहा है किसी भी कीमत में होलसेलर के पास शराब के स्टॉक में कमी न रहे.

    ये भी पढ़ें: शराब लाइसेंस की नीलामी में दिल्‍ली सरकार की बल्‍ले-बल्‍ले, एयरपोर्ट जोन में हुई पैसों की तगड़ी बारिश

    नई आबकारी नीति के तहत आगामी 30 सितंबर को द‍िल्‍ली के करीब 260 प्राइवेट शराब के ठेके बंद हो जाएंगे. दिल्ली में कुल 850 शराब की दुकानों में से केवल दिल्ली सरकार की एजेंसियों द्वारा संचालित शराब दुकानें 16 नवंबर तक खुली रहेंगी. खुली बोली के जरिए लाइसेंस हासिल करने वाले नए लोग 17 नवंबर से बाजार में आएंगे और 850 दुकानों का संचालन करेंगे.

    उधर, शराब के कारोबार से जुड़े लोगों का कहना है क‍ि शराब की दुकानें बंद होने से करीब 3,000 से ज्‍यादा लोग बेरोजगार हो जाएंगे.

    सरकारी के मुकाबले प्राईवेट दुकानों से म‍िलता है ज्‍यादा राजस्‍व
    बताया जाता है क‍ि द‍िल्‍ली में कुल 60 फीसदी दुकानें सरकारी हैं. लेक‍िन सरकार को 40 फीसदी प्राईवेट दुकानों से सरकारी दुकानों के मुकाबले ज्‍यादा राजस्‍व अर्जित होता है. वहीं, शराब दुकानदार एसोसिएशन सरकार की ओर से प्राईवेट दुकानों को बंद करने के फैसले से खुश नहीं है.

    एसोस‍िएशन के अध्यक्ष नरेश गोयल का कहना है क‍ि दुकानों को बंद करने का फैसला बहुत ही जल्‍दबाजी में क‍िया जा रहा है. उन्‍होंने कहा क‍ि सरकार के फैसले के बाद कुछ इलाकों में प्राइवेट शराब की दुकानों ने शेष स्टॉक बेचने के बाद अपनी दुकान पहले ही बंद कर दी है. उन्होंने संभावना जताई क‍ि शराब की कमी होना तय है क्योंकि प्राइवेट दुकानदारों के पास बेहतर स्टॉक हुआ करता था.

    ये भी पढ़ें: Delhi New Excise Policy: नई आबकारी नीति को लेकर रार, दिल्‍ली HC पहुंचे शराब के खुदरा विक्रेता, जानें पूरा मामला

    नई आबकारी नीत‍ि से दूर होगी शराब दुकानों की असमानता
    द‍िल्‍ली में मौजूदा शराब की दुकानों के बंटवारे या आवंटन की बात करें तो कुल 272 वॉर्ड में शराब की करीब 850 दुकानें हैं. इनमें से 50 फीसदी दुकनें स‍िर्फ 45 वॉर्ड में ही हैं. इनमें से 79 वॉर्ड तो ऐसे हैं जहां पर एक भी शराब की दुकान नहीं है. वहीं, 45 ऐसे वॉर्ड हैं, जहां एक से दो दुकानें हैं.

    हर वार्ड में औसतन तीन सरकारी दुकानों की है योजना
    सूत्र बताते हैं क‍ि अब हर वार्ड में औसतन तीन सरकारी शराब दुकानों के साथ हर जोन में कुल 27 सरकारी दुकानें होंगी. आबकारी नीति 2021- 22 के मुताबिक दिल्ली के 68 विधानसभा क्षेत्रों में 272 निगम वार्डों को 30 जोन में बांटा गया है. नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (NDMC) एर‍िया और दिल्ली छावनी में 29 दुकानें होंगी. जबकि इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर शराब की 10 रिटेल दुकानें भी होंगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज