'लव जिहाद' के खिलाफ कार्यक्रम की इजाजत न मिलने से आयोजक खफा, कहा- अगले रविवार करेंगे

'इंडिया अगेंस्ट लव जिहाद कानून' नामक कार्यक्रम रविवार दोपहर 12 बजे आयोजित होना था, जिसमें अंतर-धार्मिक विवाह करने वाले जोड़े अपनी-अपनी कहानियां सुनाने वाले थे (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

'इंडिया अगेंस्ट लव जिहाद कानून' नामक कार्यक्रम रविवार दोपहर 12 बजे आयोजित होना था, जिसमें अंतर-धार्मिक विवाह करने वाले जोड़े अपनी-अपनी कहानियां सुनाने वाले थे (न्यूज़ 18 ग्राफिक्स)

'इंडिया अगेंस्ट लव जिहाद कानून' (India Against Love Jihad Law) पहल का नेतृत्व कर रहे राजनीतिक विश्लेषक तहसीन पूनावाला (Tehsin Poonawala) के साथ-साथ समाजविज्ञानी आकृति भाटिया और वकील मणि चंदर ने कहा कि वो अगले रविवार दस जनवरी को कार्यक्रम का आयोजन करेंगे

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 4, 2021, 12:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश सरकार (Uttar Pradesh Government) के बनाए 'लव जिहाद' कानून (Law Against Love Jihad) के खिलाफ जंतर-मंतर (Jantar Mantar) पर होने वाले कार्यक्रम को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की अनुमति नहीं मिलने के कारण स्थगित कर दिया गया है. 'इंडिया अगेंस्ट लव जिहाद कानून' (India Against Love Jihad Law) नामक यह कार्यक्रम रविवार दोपहर 12 बजे आयोजित होना था, जिसमें अंतर-धार्मिक विवाह करने वाले जोड़े अपनी-अपनी कहानियां सुनाने वाले थे.

बता दें कि 'लव जिहाद' हिंदुत्ववादी समूह द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है, जिसका इस्तेमाल हिंदू लड़कियों से शादी करके उन्हें कथित रूप से जबरदस्ती इस्लाम कबूल कराने के मामलों के लिए किया जाता है.

'इंडिया अगेंस्ट लव जिहाद कानून' पहल का नेतृत्व कर रहे राजनीतिक विश्लेषक तहसीन पूनावाला के साथ-साथ समाजविज्ञानी आकृति भाटिया और वकील मणि चंदर ने कहा कि वो अगले रविवार दस जनवरी को कार्यक्रम का आयोजन करेंगे. पूनावाला ने मीडिया से कहा, 'एक पुलिस अधिकारी ने हमें बताया कि 'ऊपर से आदेश' है कि 'इन दंपतियों' को कार्यक्रम आयोजित न करने दिया जाए. हम सभी बस हल्के-फुल्के संगीत के साथ अपने प्यार और अपनेपन का जश्न मनाना चाहते थे. लेकिन दिल्ली पुलिस संविधान के अनुसार काम नहीं कर रही.'

दिल्ली पुलिस ने पूनावाला को भेजे गए पत्र में कोविड-19 की रोकथाम के लिए जारी दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) के दिशा-निर्देशों का हवाला देकर कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया. पूनावाला ने कहा कि अगर अगले रविवार को कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति नहीं दी गई तो उनकी टीम प्रधानमंत्री आवास के बाहर प्रदर्शन करेगी.
बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने बीते 28 नवंबर को उत्तर प्रदेश गैर-कानूनी धर्म परिवर्तन निषेध अध्यादेश को मंजूरी दी थी, जिसका मकसद बलपूर्वक या धोखाधड़ी से धर्म परिवर्तन के मामलों को रोकना है. (भाषा से इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज