राहुल राजपूत हत्याकांड: AAP का आरोप- कार्रवाई न करने वाले दिल्ली पुलिस के अधिकारियों को बचा रही BJP

18 वर्षीय राहुल राजपूत की दोस्ती दूसरे धर्म की एक लड़की से थी, यह बात लड़की के घरवालों को नागवार गुजरी और उन्होंने सरेआम पीट-पीटकर उसकी हत्या कर दी (फाइल फोटो)
18 वर्षीय राहुल राजपूत की दोस्ती दूसरे धर्म की एक लड़की से थी, यह बात लड़की के घरवालों को नागवार गुजरी और उन्होंने सरेआम पीट-पीटकर उसकी हत्या कर दी (फाइल फोटो)

विधायक सौरभ भारद्वाज (AAP MLA Saurabh Bhardwaj) ने कहा कि आम आदमी पार्टी मांग करती है कि उस वक्त पुलिस चौकी में मौजूद अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. यदि शाम तक बीजेपी की ओर से दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है, तो पार्टी सड़क पर उतरकर आंदोलन करेगी

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 4:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी (आप) के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज (AAP MLA Saurabh Bhardwaj) ने दिल्ली के आदर्श नगर में हुए राहुल राजपूत हत्याकांड (Rahul Rajput Murder Case) मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने के लिए बीजेपी (BJP) को आड़े हाथों लिया है. उन्होंने कहा कि राहुल भारद्वाज की दोस्त ने कहा है कि जब उसके भाई उसे मार रहे थे, तब वो मदद के लिए दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के पास गई थी, लेकिन पुलिस ने उसकी सुनी नहीं. आदर्श नगर पुलिस चौकी घटनास्थल से कुछ ही दूरी पर है, जहां राहुल राजपूत की हत्या कर दी गई. आप प्रवक्ता और विधायक सौरभ भारद्वाज ने राहुल राजपूत हत्याकांड को लेकर पार्टी मुख्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर बीजेपी पर निशाना साधा.

भारद्वाज ने कहा कि आम आदमी पार्टी मांग करती है कि उस वक्त पुलिस चौकी में मौजूद अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. यदि शाम तक बीजेपी की ओर से दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है, तो पार्टी सड़क पर उतरकर आंदोलन करेगी. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के अधीन आने वाली दिल्ली पुलिस ने लड़की की आवाज को दबाने के लिए सिम कार्ड ले लिया. अब बीजेपी और दिल्ली पुलिस सच का सामना करने से डर रही है. आप प्रवक्ता ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जहां बीजेपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बलात्कारियों को बचा रहे हैं वहीं दिल्ली में बीजेपी अपराधियों को बचा रही है.


जानना चाहते हैं- पुलिस आरोपियों के साथ है या फिर पीड़ित परिवार के? 



उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस पर यह सभी आरोप किसी और ने नहीं, बल्कि राहुल राजपूत की दोस्त ने लगाए हैं. लड़की आज भी कह रही है कि राहुल को मेरे भाई और रिश्तेदारों ने पीट-पीट कर मार डाला. हम उस लड़की के जज्बे को सलाम करते हैं कि वो अभी भी राहुल राजपूत के परिवार के साथ खड़ी है. लड़की ने यह भी आरोप लगाया है कि राहुल को पीटने वाले पांच नहीं बल्कि सात से आठ लोग थे. जबकि दिल्ली पुलिस ने सिर्फ पांच लोगों को ही नामजद किया है. हम बीजेपी से जानना चाहते हैं कि उनकी पुलिस आरोपियों के साथ है या फिर पीड़ित परिवार के साथ है.

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि उस बच्चे (राहुल राजपूत) की जान बचाई जा सकती थी लेकिन दिल्ली पुलिस ने उसको नहीं बचाया. हम धर्म के नकली ठेकेदारों से मांग करते हैं कि वो दिल्ली पुलिस के उन अफसरों के ऊपर ठोस कार्रवाई करें. आज (सोमवार) शाम तक अगर उन्होंने दिल्ली पुलिस के उन लापरवाह अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं की तो हम आंदोलन करेंगे. हम बीजेपी को दिखा देंगे कि आंदोलन क्या होता है. यह हमारी उनको चेतावनी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज