दिल्ली: इंदिरा गांधी को हराने वाले राजनारायण की अक्षय नवमी पर मनाई गई जयंती

जयंती दिल्ली (Delhi) के बाबा खड़क सिंह मार्ग स्थित काली मंदिर के प्रांगण में मनाई गई.

राजनारायण भारतीय राजनीति में अकेले नेता थे, जिन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) को हराया था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. अक्षय नवमी पर सह लोकबन्धु राजनारायण (Rajnarayan) की जयंती मनाकर उन्हें याद किया गया. इस अवसर पर कहा गया कि जिस तरह राजनारायण हमेशा अन्याय के प्रतिकार के लिए खड़े रहते थे, उससे हमें सीख लेनी चाहिए. उनके दिखाए मार्ग पर चलना चाहिए. जयंती दिल्ली (Delhi) के बाबा खड़क सिंह मार्ग स्थित काली मंदिर के प्रांगण में मनाई गई. इस मौके पर सैकड़ों लोगों को भोजन भी कराया गया. मौजूद वक्ताओं ने लोकबंधु राजनारायण को आज के समय के लिए और प्रासंगिक बताया. जैविक खेती अभियान के संस्थापक व समाजवादी चिंतक क्रान्ति प्रकाश ( Kranti Prakash) ने कहा कि जब भी संकट की स्थित हो तो गांधी, लोहिया एवं लोकबंधु राजनारायण के विचारों से हमें सही मार्गदर्शन मिलता रहेगा. हालांकि, राजनारायण का जन्म 15 मार्च 1917 को हुआ था. लेकिन वो दिन अक्षय नवमी का था और ये दिन कई दशकों में एक बार आता है, लिहाजा इस दिन पर उनकी जयंती मनाने का फैसला किया गया.

    इंदिरा गांधी को हराने वाले अकेले नेता
    राजनारायण भारतीय राजनीति में अकेले नेता थे, जिन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को हराया था. इससे पहले अदालत में भी उन्होंने प्रधानमंत्री के पद पर आसीन इंदिरा को पटखनी दी थी. इसके बाद ही देश में आपातकाल की घोषणा कर दी गई थी. तब राजनारायण समेत विपक्ष के सैकड़ों नेता जेल में डाल दिये गए थे.

    जनता पार्टी की सरकार में स्वास्थ्य मंत्री बनाए गए
    आपातकाल के बाद 1977 में जब लोकसभा के चुनाव हुए तो राजनारायण ने इंदिरा को रायबरेली से हराया था. इसके बाद जनता पार्टी की सरकार में राजनारायण स्वास्थ्य मंत्री बनाए गए थे. जिस दौरान उन्होंने जनता के लिए तमाम योजनाएं शुरू की थी.

    अपनी जमीन गरीबों को दान में दे दी
    वो ऐसे खांटी नेता थे, जिनका जीवन वाकई गरीबों को समर्पित था. उन्होंने अपनी जमीन न केवल गरीबों को दान में दे दी थी बल्कि दिल्ली में उनके निवास पर रोज लोगों को खाना खिलाया जाता था. राजनारायण की सादगी और फक्कड़ता के बहुत से किस्से मशहूर हैं. राजनारायण की इस जयंती के मौके पर बिहार रक्षा मंच के प्रमोद कुमार, वरिष्ठ पत्रकार उपेन्द्र कुमार त्रिपाठी, उमेश चतुर्वेदी, सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत झा व कई गणमान्य वक्ताओं ने अपने विचार रखे और लोकबन्धु को याद किया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.