Home /News /delhi-ncr /

Delhi में 1,000 से ज्‍यादा होती हैं छोटी-बड़ी रामलीलाएं, आयोजकों ने LG व सरकार से लगाई गुहार

Delhi में 1,000 से ज्‍यादा होती हैं छोटी-बड़ी रामलीलाएं, आयोजकों ने LG व सरकार से लगाई गुहार

द‍िल्ली में रामलीला आयोजन की अनुमत‍ि देने की मांग को लेकर रामलीला आयोजकों ने  गृह मंत्री सत्येंद्र जैन से मुलाकात की.

द‍िल्ली में रामलीला आयोजन की अनुमत‍ि देने की मांग को लेकर रामलीला आयोजकों ने गृह मंत्री सत्येंद्र जैन से मुलाकात की.

Ramlila Manchan: दिल्ली में छोटी व बड़ी रामलीलाओं को म‍िलाकर करीब 1000 रामलीला होती हैं. कोरोना संक्रमण के चलते आयोजन की अनुमत‍ि नहीं दी गई है. आयोजकों ने एलजी और द‍िल्‍ली सरकार के मंत्री से अनुमत‍ि देने की मांग की है. साथ ही कहा है क‍ि दिल्ली में मॉल, हॉल, सिनेमा, स्कूल, वीकली मार्केट, बाजार, बसें और मेट्रो आदि खुल गए हैं, तो रामलीलाओं के आयोजन पर भी छूट मिलनी चाहिए. सभी कमेट‍ियां गाइडलाइंस का पालन करने को तैयार हैं.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई द‍िल्‍ली. दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (Delhi Disaster Management Authority) की ओर से दशहरा (Dussehra) और दुर्गा पूजा समारोह ( Durga Puja celebrations) के आयोजन की अनुमति तो दे दी गई है. लेक‍िन रामलीला आयोजन आद‍ि करने की अनुमति नहीं दी गई है. द‍िल्‍ली के उप-राज्‍यपाल अन‍िल बैजल (LG Anil Baijal) की अध्‍यक्षता में बुधवार को हुई डीडीएमए की मीट‍िंग में इन सभी आयोजनों की अनुमत‍ि भी कोव‍िड-19 गाइडलाइंस (Covid-19 Guidelines) का सख्‍ती से अनुपालन करने के साथ दी गई है. इस मीट‍िंग में रामलीला आयोजन की अनुमत‍ि मिलने की उम्‍मीद आयोजक लगाए हुए थे.

    द‍िल्ली में रामलीला आयोजन की अनुमत‍ि देने की मांग को लेकर आज सुबह रामलीला आयोजकों का संगठन द‍िल्ली के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendar Jain) से भी म‍िला था. चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री (CTI) के नेतृत्व में प्रमुख रामलीला आयोजकों ने मंत्री जैन से उनके आवास पर मुलाकात की. सीटीआई चेयरमैन बृजेश गोयल ने बताया कि मीटिंग में दिल्ली रामलीला महासंघ के महासचिव अर्जुन कुमार के साथ लवकुश रामलीला कमेटी के उपाध्यक्ष अंकुश अग्रवाल, अशोक कुमार के साथ अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

    ये भी पढ़ें: Delhi में दशहरा और दुर्गा पूजा आयोजन को म‍िली अनुमत‍ि, एक नवंबर तक स्‍कूल रहेंगे बंद 

    सीटीआई ने दिल्ली में रामलीलाओं को अनुमति देने की मांग के लिए डीडीएमए को एक पत्र भी लिखा है. मंत्री सत्‍येंद्र जैन से गुहार लगाई क‍ि डीडीएमए की मीटिंग में रामलीलाओं को परमिशन दिलाने का प्रयास किया जाए. अब राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के केस काफी कम हो गए हैं. संक्रमण दर भी न्यूनतम स्तर पर है. दिल्ली में मॉल, हॉल, सिनेमा, स्कूल, वीकली मार्केट, बाजार, बसें और मेट्रो आदि खुल गए हैं, तो रामलीलाओं के आयोजन पर भी छूट मिलनी चाहिए. सभी कमेट‍ियां डीडीएमए की गाइडलाइंस का पालन करने को तैयार हैं.

    रामलीला महासंघ के महामंत्री अर्जुन कुमार ने कहा कि रामलीलाओं से हजारों लोगों को काम मिलता है. छोटे कारीगरों से लेकर बड़े आर्टिस्ट तक का बिजनेस चलता है. महीनों पहले से सभी तैयारियां करनी शुरू कर देते हैं.

    ये भी पढ़ें: भारत में कोरोना की तीसरी लहर आएगी या नहीं, देखिए क्‍या बोले ICMR विशेषज्ञ

    रामलीलाओं का धार्मिक के साथ आर्थिक महत्व भी है. टेंट, कुर्सी, साउंड, लाइट, जेनरेटर, झूले, क्रेन, मेकअप आर्टिस्ट, खिलौने, फूल, अस्त्र-शस्त्र, हलवाई, चाट-पकौड़ी, खाने-पीने, ड्रेस आदि से जुड़े कारोबारियों को काम मिलता है.

    लवकुश रामलीला कमेटी के उपाध्यक्ष अंकुश अग्रवाल ने कहा कि दिल्ली में 250 बड़ी और 750 छोटी रामलीलाएं होती हैं. परमिशन मिल गई, तो 6 अक्टूबर से रामलीलाएं शुरू हो जाएंगी. अब कम दिन ही बचे हैं. काफी लोगों को वैक्सीन लग गई है. लोगों में महामारी को लेकर समझ बड़ी है. सब खुद से अपना ख्याल रख रहे हैं. सालभर रामलीलाओं का इंतजार रहता है. आज डीडीएमए को परमिशन दे देनी चाहिए. रामलीला आयोजित करने की अनुमति के लिए एक प्रतिनिधिमंडल ने उप-राज्यपाल अनिल बैजल से भी मुलाकात की है.

    Tags: COVID 19, DDMA, Delhi Government, Delhi news, Ramlila

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर