COVID-19 Update: दिल्‍ली में कोरोना का कहर जारी, सामने आए 2199 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 87360

अब तक दिल्‍ली में 2742 लोगों की मौत हो चुकी है.(सांकेतिक फोटो)
अब तक दिल्‍ली में 2742 लोगों की मौत हो चुकी है.(सांकेतिक फोटो)

दिल्‍ली में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के 2199 नए मामलों के साथ संक्रमितों की संख्‍या बढ़कर 87360 हो गयी है. जबकि अब तक 2742 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 30, 2020, 10:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi) में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) संक्रमण का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. जबकि मंगलवार को दिल्‍ली में कोरोना संक्रमण के 2199 नए मामलों के साथ संक्रमितों की संख्‍या बढ़कर 87360  हो गयी है. वहीं, कोरोना वायरस की इस महामारी की वजह से अब तक 2742 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

दिल्‍ली में अब तक 58348 लोग हुए ठीक
राजधानी दिल्‍ली में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 2199 नए केस सामने आए हैं. इसके साथ संक्रमितों का आंकड़ा 87360 पहुंच गया है. इस समय दिल्‍ली में 26270 एक्टिव केस हैं, तो अब तक 58348 लोग कोरोना मात देकर घर लौट चुके हैं. जबकि आज हुई 62 मौतों के साथ दिल्‍ली में कोरोना वायरस की बीमारी से मरने वालों को आंकड़ा बढ़कर 2742 हो गया है.





कोरोना के मामले बढ़ा रहे हैं दिल्‍ली की चिंता
दिल्‍ली के लिए चिंता की बात यह है कि कई जगहों पर एक ही बिल्डिंग में कई कोरोना के कई मरीज भी मिल रहे हैं. इससे आसपास के इलाके में दहशत फैल गई है. ताजा मामला हौज खास के अर्जुन नगर इलाके का है. यहां पर एक ही बिल्डिंग में 15 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. इससे पूरे इलाके में हड़कंप मच गया है. वहीं, मामला सामने आने के बाद पूरे इलाके को सील कर दिया गया है. हौज खास के एसडीएम ने बताया कि इलाके को सील कर दिया गया है. इसके बाद इलाके को कंटेनमेंट जोन और बफर जोन में बांटा गया है. अब घर से किसी को भी बाहर निकलने की इजाजत नहीं है. इस पूरे इलाके में खाने-पीने से लेकर रोज की जरूरत की हर चीज की डिलीवरी स्थानीय प्रशासन द्वारा की जाएगी. वहीं, एसडीएम की ओर से आदेश भी जारी किया गया है.

दिल्ली सरकार ‘प्लाज्मा बैंक’ बनाने में जुटी
दिल्ली सरकार ने कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिए अपने तरह के पहले ‘प्लाज्मा बैंक’ स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी और उसके तौर तरीके तैयार किये जा रहे हैं. यह बैंक दिल्ली सरकार द्वारा संचालित यकृत एवं पित्त विज्ञान संस्थान (आईएबीएस) में स्थापित किया जा रहा है. जबकि डॉक्टरों एवं अस्पतालों को मरीज की जरूरत को देखते हुए प्लाज्मा के लिए यहां संपर्क करना होगा.मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि यह बैंक अगले दो दिनों में काम करने लगेगा.यह कदम इसलिए उठाया गया है क्योंकि इस प्लाज्मा थेरेपी के अस्पतालों में उत्साहजनक नतीजे सामने आये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज