Home /News /delhi-ncr /

delhi riots delhi high court issues notice to police on mohammad salim khan bail application

दिल्ली दंगा: सलीम खान की जमानत अर्जी पर कोर्ट का पुलिस को नोटिस, अब 20 जुलाई को सुनवाई



दिल्ली दंगा:  मोहम्मद सलीम खान की जमानत अर्जी पर कोर्ट ने पुलिस को जारी किया नोटिस (फाइल फोटो)

दिल्ली दंगा: मोहम्मद सलीम खान की जमानत अर्जी पर कोर्ट ने पुलिस को जारी किया नोटिस (फाइल फोटो)

आरोपी मोहम्मद सलीम खान की जमानत अर्जी के मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार और पुलिस को नोटिस जारी किया. अब दिल्ली हाई कोर्ट 20 जुलाई को मामले की अगली सुनवाई करेगा. मोहम्मद सलीम खान पर दंगों के दौरान कांस्टेबल रतन लाल की हत्या का आरोप है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: दिल्ली दंगों के आरोपी मोहम्मद सलीम खान की जमानत याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में आज यानी सोमवार को सुनवाई हुई. आरोपी मोहम्मद सलीम खान की जमानत अर्जी के मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार और पुलिस को नोटिस जारी किया. अब दिल्ली हाई कोर्ट 20 जुलाई को मामले की अगली सुनवाई करेगा. मोहम्मद सलीम खान पर दंगों के दौरान कांस्टेबल रतन लाल की हत्या का आरोप है.

यहां बताना जरूरी है कि आरोपी मोहम्मद सलीम खान पर दिल्ली पुलिस ने यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया है. इसके अलावा, अन्य आरोपियों के खिलाफ भी उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगा मामले में मुख्य साजिशकर्ता होने के चलते आतंकवाद-रोधी कानून के तहत मुकदमा दर्ज किए गया था. इस दंगे में 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 700 से अधिक लोग घायल हो गए थे.

इससे पहले 20 मई को दिल्ली उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय राजधानी में फरवरी 2020 में हुए दंगों की कथित साजिश रचने के मामले में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की युवा इकाई के नेता और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्र मीरान हैदर की जमानत याचिका पर दिल्ली पुलिस से जवाब तलब किया था.

इससे पहले न्यायमूर्ति मुक्ता गुप्ता और न्यायमूर्ति मिनी पुष्कर्णा की पीठ ने हैदर की जमानत याचिका पर नोटिस जारी किया और जांच एजेंसी को अपनी स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने के लिए चार सप्ताह का समय दिया. निचली अदालत ने पिछले महीने मीरान हैदर की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी.

फरवरी 2020 के दंगों की कथित साजिश रचने के लिए हैदर और कई अन्य के खिलाफ आतंकवाद विरोधी कानून ‘गैर-कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम’ (यूएपीए) और भारतीय दंड संहिता के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है, जिसमें 53 लोग मारे गए थे और 700 से अधिक घायल हुए थे. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़की थी.

पुलिस ने हैदर के अलावा, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद, शरजील इमाम, ‘यूनाइटेड अगेंस्ट हेट’ के कार्यकर्ता खालिद सैफी, पूर्व कांग्रेस पार्षद इशरत जहां, पिंजरा तोड़ की कार्यकर्ता गुलफिशा फातिमा, सफूरा जरगर, नताशा नरवाल और देवांगना कलिता और आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन के खिलाफ भी आरोप पत्र दायर किया है. खालिद और इमाम की जमानत याचिकाएं पहले से ही उच्च न्यायालय में लंबित हैं. मामले की अगली सुनवाई 21 जुलाई को होगी. (इनपुट भाषा से)

Tags: Delhi news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर