Assembly Banner 2021

दिल्ली: कोरोना वैक्सीन लेने के बाद सीनियर सिटीजन नरेन्द्र कुमार ने बताया- कितना आसान है टीका लगवाना

पहले दिन केवल तीन सेंटरों पर वैक्‍सीन लग रही है. सांकेतिक फोटो

पहले दिन केवल तीन सेंटरों पर वैक्‍सीन लग रही है. सांकेतिक फोटो

Corona Vaccination: दिल्ली के अस्पताल में सोमवार की सुबह सीनियर सिटीजन नरेंद्र कुमार ने कोरोना का टीका लगवाने की पूरी प्रक्रिया का अनुभव न्यूज 18 के साथ साझा किया. आप भी पढ़ें उनके कोरोना टीकाकरण का अनुभव....

  • Share this:
नई दिल्ली. देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) का नया चरण 1 मार्च से शुरू हो गया है. सीनियर सिटीजन को इस चरण में टीका लगवाया जा रहा है. दिल्ली (Delhi) के वसन्त कुंज के फोर्टिस अस्पताल में सोमवार की सुबह सीनियर सिटीजन नरेंद्र कुमार टीका लगवाने पहुंचे. नरेन्द्र कुमार ने कोरोना टीका लगाने के अपने अनुभव न्यूज 18 के साथ साझा किए. बता दें कि आज से सीनियर सिटीजन किसी भी प्राइवेट और सरकारी अस्पताल में जाकर टीका लगवा सकते हैं. प्राइवेट अस्पतालों में पहले डोज के लिए 250 रुपये देने हैं और फिर 28 दिन बाद दूसरे डोज के लिए भी 250 रुपये देने होंगे.

नरेंद्र कुमार ने बताया कि मैंने आज सुबह covin app पर रजिस्टर कराया. 10 मिनट में हो गया. इसके बाद 11 बजे का समय मिला था. मैं अपने समय पर आ गया. इसके बाद आगे की प्रक्रिया हुई.

हेल्प डेस्क पर होती है जांच
नरेंद्र कुमार ने बताया कि सबसे पहले वे हेल्प डेस्क पर पहुंचे. यहां सिविल डिफेंस के कर्मचारी थे, जो शरीर का टेम्परेचर लेने के बाद सैनेटाइजर से हाथ साफ करवाया और फिर covin aap पर रजिस्ट्रेशन के बाद जो sms आता है उसे चेक किया. चेक करने के बाद आईडी कार्ड देखा और बीमारी वगैरह पूछने के बाद कंसेंट फॉर्म भरवाया. अगर सीनियर सिटीजन को कोई बीमारी होगी तो डॉक्टर से इसी डेस्क पर कंसल्ट किया जाता है, पर नरेंद्र कुमार को कोई बीमारी नहीं थी. लिहाजा फॉर्म भरवाने के बाद दूसरी डेस्क पर भेज दिया गया. इसमें 2 से 3 मिनट का समय लगा.
बीमारी के बारे में होती है पूछताछ


दूसरी डेस्क पर कंप्यूटर पर covin एप्लीकेशन में अस्पताल ने सीनियर सिटीजन की पूरी इनफार्मेशन दायर की और फिर नर्स के पास भेज दिया. इसमें भी कुल समय 2 से 3 मिनट लगे. तीसरी डेस्क पर नर्स बैठी हुई थीं, जिसने नरेंद्र कुमार से उनकी बीमारी के बारे में पूछताछ की. नरेंद्र कुमार ने कहा कि उनको कोई बीमारी नहीं है. फिर टीके के बारे में बताया और कहा कि टीका लेने के बाद आधे घंटे ऑब्जर्वशन रूम में बैठना है और इसके बाद टीका लगा दिया. इसमें कुल 4 से 5 मिनट का समय लगा. फिर नरेंद्र कुमार ऑब्जर्वेशन सेंटर डेस्क पर गए. वहां उन्होंने बताया कि टीका ले लिया है. यहां सिविल डिफेन्स का एक शख्स और नर्स बैठा था. नर्स ने आधे घंटे इंतजार के बाद नरेंद्र कुमार का बीपी चेक कर उन्हें वापस घर भेज दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज