दिल्‍ली में आज से ट्रैफिक के इस नियम को लेकर होगी सख्‍ती, नहीं माने तो कटेगा मोटा चालान

हाई सिक्‍योरिटी नंबर प्‍लेट न लगाने पर चालान काटने की तैयारी है. (फाइल फोटो)

Delhi News: परिवहन विभाग हाई सिक्‍योरिटी नंबर प्‍लेट के बिना चलने वाले वाहनों पर सख्‍त हो गया है. अब इन नंबर प्‍लेट के बिना चालने वाले वाहनों से मोटा जुर्माना वसूला जाएगा.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. परिवहन विभाग देश की राजधानी में ट्रैफिक को लेकर सख्‍त हो गया है. अब हाई सिक्‍योरिटी रजिस्‍ट्रेशन प्‍लेट (HSRP) न लगाने वालों का मोटा चालान काटा जाएगा. हाई सिक्‍योरिटी नंबर प्‍लेट न होने पर ट्रैफिक पुलिस अब 5500 रुपये का चालान काटेगी. रंगीन स्‍टीकर न लगाने वालों का भी मंगलवार से चालान काटा जाएगा. ऐसे में वाहन चालकों को इसका खास ध्‍यान रखना होगा. किसी भी तरह की कोताही जेब पर भारी पड़ सकती है. जानकारी के मुताबिक, फिलहाल यह सख्‍ती 11 में से 9 जिलों में होगी.

    हाई सिक्‍योरिटी नंबर प्‍लेट और रंगीन स्‍टीकर की जांच के लिए सभी 9 जिलों में टीमें तैनात की गई हैं, ताकि नियम तोड़ने वाले वाहनों पर नजर रखी जा सके. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद परिवहन विभाग वाहनों में हाई सिक्‍योरिटी नंबर प्‍लेट और ईंधन के अनुसार रंगीन स्‍टीकर लगाना अनिवार्य कर रहा है. शुरुआत में काफी प्रयास किया गया, लेकिन इसका सकारात्‍मक प्रभाव नहीं दिखा. इसके बााद परिवहन विभाग ने इसको लेकर सख्‍ती बरतने का निर्णय लिया है, ताकि वाहन चालक नियमों की अनदेखी न करें. इसे सुनिश्चित करने के लिए 15 दिसंबर से अभियान चलाया जा रहा है. शुरुआत में सिर्फ चार पहिया वाहनों पर ही सख्‍ती की जाएगी.

    हल्‍के नीले रंग का स्‍टीकर पेट्रोल और सीएनजी वाहनों के लिए तय किया गया है. वहीं, डीजल से चलने वाली गाड़ियों के लिए नारंगी रंग का स्‍टीकर लगाना अनिवार्य किया गया है. अधिकारी बताते हैं कि इसका मकसद वाहनों की दूर से ही पहचान सुनिश्चित करना है.  बता दें कि दिल्ली में 2012 से एचएसआरपी लगाई जा रही है, लेकिन रंगीन स्टीकर 2 अक्टूबर 2018 से सभी नए वाहनों में लगाया जा रहा है. इस हिसाब से यह सभी कारों में लगाया जाना है, जबकि एचएसआरपी 2012 से पहले की कारों व दो पहिया वाहनों में लगाई जानी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.