अपना शहर चुनें

States

दिल्ली हिंसा: राख हुए 122 घर, 322 दुकानें भी तबाह, पढ़ें अंतरिम रिपोर्ट...

 हिंसा में अब तक 40 से ज्यादा लोगों के मरने और 350 से अधिक लोगों के घायल होने का दावा किया गया है. (फोटो: आकाश शुक्ला, न्यूज़ 18 )
हिंसा में अब तक 40 से ज्यादा लोगों के मरने और 350 से अधिक लोगों के घायल होने का दावा किया गया है. (फोटो: आकाश शुक्ला, न्यूज़ 18 )

Delhi Violence: पुलिस लगातार हिंसा प्रभावित इलाकों में फ्लैग मार्च कर रही है. इसके अलावा जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, चांद बाग, शिव विहार, भजनपुरा, यमुना विहार और मुस्तफाबाद में स्थानीय लोगों के साथ बैठकें भी की जा रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 3, 2020, 10:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उत्तर-पूर्वी जिला प्रशासन ने दिल्ली में पिछले सप्ताह हुई हिंसा में हुए नुकसान को लेकर अंतरिम रिपोर्ट तैयार कर ली है. इसके मुताबिक, हिंसा में उपद्रवियों ने 122 घरों को जला दिया. उत्तर-पूर्वी दिल्ली जिला प्रशासन द्वारा तैयार की गई अंतरिम रिपोर्ट के अनुसार, पिछले सप्ताह हिंसा के दौरान कम से कम 122 घर, 322 दुकानें और 301 वाहन पूरी तरह से खाक हो गए या बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए. हालांकि, माना जा रहा है कि अंतिम रिपोर्ट में यह संख्या और बढ़ सकती है.

वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि रविवार सुबह तक एसडीएम के नेतृत्व में 18 टीमों की ओर से शेयर किए गए इनपुट के आधार पर यह डाटा तैयार किया गया. सीएम अरविंद केजरीवाल के निर्देशों के बाद यह टीम उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा प्रभावित इलाकों में 'क्षति का आकलन' कर रही है. बता दें कि हिंसा में अब तक 40 से ज्यादा लोगों के मरने और 350 से अधिक लोगों के घायल होने का दावा किया गया है.

अब तक 1300 गिरफ्तार
हिंसा के संबंध में 1300 लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है. अधिकारियों ने बताया कि क्षेत्र में स्थिति शांत है और पिछले पांच दिनों में हिंसा का कोई मामला सामने नहीं आया है. इसके अलावा पुलिस ने अफवाह फैलाने के आरोप में राष्ट्रीय राजधानी में 40 लोगों को गिरफ्तार किया है. अफवाहों से रविवार को शहर के कुछ इलाकों में अफरा तफरी मच गई थी.
हिंसा के दौरान आग से जलकर ख़ाक हुए वाहन (फोटो: आकाश शुक्ला, न्यूज़ 18 )





दो पहिया वाहनों सहित 500 से अधिक वाहन बुरी तरह क्षतिग्रस्त 

हिंदुस्तान टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली फायर सर्विसेज द्वारा पिछले सप्ताह तैयार की गई एक अंतरिम रिपोर्ट में कहा गया है कि कम से कम 79 घरों, 52 दुकानों, पांच गोदामों, चार मस्जिदों, तीन कारखानों और दो स्कूलों को सोमवार और गुरुवार सुबह के बीच जला दिया गया था. रिपोर्ट में कहा गया है कि दो पहिया वाहनों सहित 500 से अधिक वाहन बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुए हैं.

हिंसा प्रभावित इलाकों में फ्लैग मार्च
पुलिस लगातार हिंसा प्रभावित इलाकों में फ्लैग मार्च कर रही है. इसके अलावा जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, चांद बाग, शिव विहार, भजनपुरा, यमुनाविहार और मुस्तफाबाद में स्थानीय लोगों के साथ बैठकें भी की जा रही हैं. ये स्थान हिंसा से सबसे ज्यादा प्रभावित रहीं. एक अधिकारी ने कहा, 'दिल्ली पुलिस ने 369 प्राथमिकियां दर्ज की हैं और 1284 लोगों को गिरफ्तार किया या हिरासत में लिया है.’

गिरफ्तार किए गए लोगों के बारे में जानकारी सार्वजनिक नहीं
पुलिस ने हालांकि गिरफ्तार किए गए लोगों के बारे में जानकारी सार्वजनिक नहीं की है. राजनीतिक दल और समाजिक कार्यकर्ता इन लोगों के बारे में जानकारी सार्वजनिक करने की मांग कर रहे हैं. पुलिस ने बताया कि उत्तर पूर्वी दिल्ली के किसी भी इलाके से पिछले पांच दिनों में हिंसा की कोई सूचना नहीं है. जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, चांद बाग, शिव विहार, भजनपुरा, यमुना विहार और मुस्तफाबाद में बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती है.

ये भी पढ़ें- 

दिल्ली हिंसा: तोगड़िया ने केंद्र पर साधा निशाना, लगाया निष्क्रियता का आरोप

CM योगी का दावा, कहा- आज दिल्‍ली से ज्‍यादा कमाई कर रहे हैं नोएडा के लोग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज