Home /News /delhi-ncr /

Delhi Violence: HC ने 6 आरोपियों को दी जमानत, दुकान में आगजनी और तोड़फोड़ के थे आरोप

Delhi Violence: HC ने 6 आरोपियों को दी जमानत, दुकान में आगजनी और तोड़फोड़ के थे आरोप

इन पर आरोप लगाया गया था कि भीड़ ने एक मिठाई की दुकान में तोड़फोड़ की और उसमें आग लगा दी.

इन पर आरोप लगाया गया था कि भीड़ ने एक मिठाई की दुकान में तोड़फोड़ की और उसमें आग लगा दी.

Delhi Violence: इन पर आरोप लगाया गया था कि भीड़ ने एक मिठाई की दुकान में तोड़फोड़ की और उसमें आग लगा दी. इसके परिणामस्वरूप जलने और चोट लगने से एक 22 वर्षीय लड़के दिलबर नेगी की मौत हो गई. कोर्ट ने इस मामले में मोहम्मद ताहिर, शाहरुख, मो. फैजल, मो. शोएब, राशिद और परवेज को जमानत दे दी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने उत्तर पूर्वी दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) से संबंधित एक मामले में 6 आरोपी व्यक्तियों को जमानत (6 Accused Bail) दे दी. इन पर आरोप लगाया गया था कि भीड़ ने एक मिठाई की दुकान में तोड़फोड़ की और उसमें आग लगा दी. इसके परिणामस्वरूप जलने और चोट लगने से एक 22 वर्षीय लड़के दिलबर नेगी की मौत हो गई. कोर्ट ने इस मामले में मोहम्मद ताहिर, शाहरुख, मो. फैजल, मो. शोएब, राशिद और परवेज को जमानत दे दी.

वहीं, पिछले हफ्ते भी कड़कड़डुमा कोर्ट ने दिल्ली हिंसा के एक मामले में चार लोगों को बरी किया था. साथ ही कोर्ट ने कहा था कि दंगाइयों की पहचान के पहलू पर अभियोजन पक्ष के दो गवाहों पर भरोसा नहीं किया जा सकता है. कोर्ट की मानें तो कांस्टेबल और एक हेड कांस्टेबल की गवाही पर किसी तरह का भरोसा हम नहीं कर सकते हैं. कोर्ट ने 26 फरवरी, 2020 के दंगों के दौरान भागीरथी विहार इलाके में एक घर और एक दुकान में आग लगाने, लूटपाट और तोड़फोड़ करने से संबंधित मामले में दिनेश यादव, टिंकू, साहिल और संदीप को बरी कर दिया था.

इस धारा के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी
जबकि, दिल्ली हिंसा से जुड़े एक अन्य मामले में दिल्ली की एक अदालत ने छह लोगों को बरी किया था, जिनके नाम आमिर, सद्दाम, मो. रहीस, आमिर, अकरम और वसीम हैं. इन लोगों के ऊपर आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 436 और 427 तहत प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

आरोपियों को आरोपमुक्त करने की मांग को ठुकरा दिया
बता दें कि बीते महीने दिल्ली हिंसा से जुड़े मामले में कड़कडडूमा कोर्ट ने 10 आरोपियों पर मुकदमा चलाने के लिए आरोप तय कर दिए थे. अदालत ने अपने आदेश में कहा था कि हिंसा के दौरान जमा गैरकानूनी भीड़ का उद्देश्य हिंदू समुदाय के लोगों के मन में डर पैदा करना था. इसी के साथ अदालत ने मुकदम दर्ज करने में देरी के आधार पर आरोपियों को आरोपमुक्त करने की मांग को ठुकरा दिया.

Tags: DELHI HIGH COURT, Delhi news, Delhi news today, Delhi news updates, Delhi Violence

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर